google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक के बीच कितना रहेगा फासला – कोवैक्सीन हो या कोविशील्ड पूरी जानकारी



देश में कोरोना महामारी के खिलाफ टीकाकरण अभियान में पिछले एक-डेढ़ महीने में काफी तेजी आई है। हर दिन 20 लाख से अधिक लोगों को टीके लगाए जा रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में अब तक 17 करोड़ 52 लाख कोरोना के टीके लगाए जा चुके हैं। इनमें लाखों लोग ऐसे हैं जो टीके की दोनों खुराक ले चुके हैं। हालांकि अभी भी शहर से लेकर गांव तक, लोगों के बीच ये असमंजस की स्थिति बनी हुई है कि वैक्सीन की पहली खुराक लेने के बाद आखिर दूसरी खुराक कब लें। खासकर कोविशील्ड को लेकर, क्योंकि ज्यादातर टीकाकरण केंद्रों पर यही वैक्सीन उपलब्ध है। आइए जानते हैं कि कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लेने के बाद दूसरी डोज में कितने दिन का अंतर रखा जा सकता है?


कोवाक्सिन की पहली और दूसरी खुराक के बीच अंतर


भारत में जब टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई थी, तब भारत बायोटेक ने कोवाक्सिन के इस्तेमाल को लेकर एक फैक्ट शीट जारी किया था, जिसमें बताया गया था कि पहली खुराक और दूसरी खुराक के बीच चार हफ्ते का अंतर रखा जाना चाहिए।


कोविशील्ड की पहली और दूसरी खुराक के बीच अंतर


भारत बायोटेक की तरह सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने भी टीकाकरण अभियान की शुरुआत में कोविशील्ड के इस्तेमाल को लेकर फैक्ट शीट जारी किया था, जिसके मुताबिक चार से 12 हफ्ते से अंतराल पर कोविशील्ड टीके की दो खुराक लेने से कोविड-19 रोग की रोकथाम होती है। इस टीके की दोनों खुराक लेने के चार हफ्ते बाद सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा क्षमता उत्पन्न हो सकती है।


सरकार की वेबसाइट क्या कहती है टीकाकरण पर ?


केंद्र सरकार की वेबसाइट www.mygov.in पर एक जगह बताया गया है कि वैक्सीन की दोनों खुराक के बीच 28 दिन का अंतर रखना है, जबकि दूसरी जगह ये बताया गया है कि कोवाक्सिन की दूसरी खुराक पहली खुराक के चार से छह हफ्ते के अंतराल पर ली जानी चाहिए। वहीं कोविशील्ड के लिए यह अंतराल चार से आठ हफ्ते है। हालांकि छह से आठ हफ्ते के अंतराल से सुरक्षा बढ़ जाती है। दरअसल, वेबसाइट के मुख्य पेज से शुरुआती डेटा को नहीं हटाया गया है, जिसकी वजह लोग दुविधा में हैं कि आखिर टीके की दूसरी खुराक कब लें।


वैक्सीन का प्रभाव बढ़ने से जुड़ी है दूसरी खुराक मे देरी


पिछले महीने 'द लैंसेट' नामक पत्रिका में एक रिसर्च प्रकाशित हुई थी, जिसमें यह दावा किया गया था कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन कोविशील्ड की दूसरी खुराक चार के बदले 12 हफ्ते बाद देने पर इसके प्रभाव में बढ़ोतरी देखी गई है। इस अध्ययन में 17 हजार लोगों को शामिल किया गया था। हालांकि विशेषज्ञ कहते हैं कि टीकाकरण केंद्र पर वैक्सीन की दूसरी खुराक लेने के लिए जब भी आपको बुलाया जाए, आप जरूर जाएं और दूसरी डोज लें।


आप इन साइट्स पर जाकर अधिक जानकारी ले सकते हैं।

https://www.bharatbiotech.com/images/covaxin/covaxin-fact-sheet.pdf 
https://www.seruminstitute.com/pdf/covishield_fact_sheet.pdf 
https://www.mygov.in/covid-19?ref=inbound_article 
https://static.mygov.in/rest/s3fs-public/mygov_160985012951307401.pdf 


स्टेट टुडे की तरफ से यह लेख आपके मन में वैक्सीन और वैक्सीनेशन के भ्रम दूर करने का प्रयास है। ताकि आपकी जानकारी और जागरुकता में बढ़ोत्तरी हो। उपरोक्त साइट्स पर आप स्वयं जानकारी ले सकते हैं। साथ ही कोरोना वैक्सीन लेने से पहले अपने या किसी भी सरकारी अस्पताल के डॉक्टर से सलाह मश्वरा भी कर सकते हैं।


टीम स्टेट टुडे


विज्ञापन
विज्ञापन

106 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0