google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

डेंगू के बढ़ते प्रसार पर अंकुश लगाने ग्राउंड जीरो पर उतरे ब्रजेश पाठक, कंट्रोल रूम पहुंचे


लखनऊ, 07 नवम्बर 2022 : उत्तर प्रदेश में इनदिनों डेंगू कीबढ़ते मामले कोगंभीर होता देखउप मुख्यमंत्री ब्रजेशपाठक ग्राउंड जीरोपर उतरे हैं।प्रदेश में डेंगूकी रोकथाम केलिए ग्राउंड जीरोपर उतरने वालेब्रजेश पाठक नेसोमवार को लखनऊमें स्वास्थ्य भवनमें कंट्रोल रूममें जाकर प्रदेशमें चल रहीव्यवस्थाओं का जायजा लिया।

डिप्टी सीएम नेइस दौरान स्वास्थ्यभवन में कंट्रोलरूम के चलरहे काम कोभी देखा औरवहां पर तैनातकर्मचारियों से प्रदेशभर में डेंगूके मरीजों काडाटा भी तलबकिया। ब्रजेश पाठकइस दौरान कहाकि प्रदेश मेंकहीं पर भीडेंगू से पीडि़तमरीजों के इलाज, दवाओं और प्लेटलेट्सकी कमी नहींहोने दी जाएगी।

डिप्टी सीएम ब्रजेशपाठक का दावाहै कि डेंगूको लेकर घबरानेकी जरूरत नहींहै। जागरूकता औरस्वास्थ्य विभाग के अभियानसे डेंगू मच्छरधीरे-धीरे काबूमें आ रहेहैं। पाठक नेकहा कि अस्पतालमें भर्ती होनेवालों की संख्याभी कम है।वहीं अस्पतालों मेंइलाज की व्यवस्थाचाक चौबंद है।

उन्होंने कहा कियूपी में वर्ष 2021 में 25383 लोगों को डेंगूने अपना शिकारबनाया था। छहनवम्बर 2022 तक 8963 लोग डेंगूकी चपेट मेंआ चुके हैं।प्रतिदिन करीब 200 लोग डेंगूसे पीडि़त होरहे हैं। बीतेवर्ष यह आंकड़ाकरीब 300 से ज्यादाथा। अस्पताल मेंभर्ती मरीजों कीसंख्या भी सीमितहै।

मौत केमामले आधे सेभी कम

पाठक नेकहा कि स्वास्थ्यविभाग की लगातारकोशिश का असरयह है किपिछले साल केमुकाबले इस बारडेंगू का असरकम घातक है।जनवरी से अबतक इससे प्रभावितदस लोगों कीमौत हुई है।बीते वर्ष डेंगूने 25 मरीजों कीजान ली थी।इस बार मरीजोंको प्लेटलेट्स चढ़ानेकी भी जरूरतकम पड़ रहीहै। प्लेटलेट्स कीउम्र पांच दिनहोती है। सभीसरकारी अस्पतालों के ब्लडबैंकों में पर्याप्तप्लेटलेट्स उपलब्ध है। सरकारीव प्राइवेट अस्पतालमें भर्ती मरीजोंको जरूरत केहिसाब से प्लेटलेट्सउपलब्ध कराया जा रहाहै।

ब्रजेश पाठक नेकहा कि डेंगूपूरी तरह सेकाबू में है।अस्पतालों में इलाजकी चाक चौबंदव्यवस्था है। प्लेटलेट्सव खून केदूसरे जरूरी अव्ययअस्पतालों पर्याप्त मात्रा मेंउपलब्ध हैं। सरकारीव प्राइवेट अस्पतालमिलकर डेंगू सेमुकाबले के लिएमुस्तैद हैं। सरकारीअस्पतालों में डेंगूकी जांच सेलेकर इलाज तककी व्यवस्था पूरीतरह से फ्री है। डेंगूके लिए अस्पतालोंमें डॉक्टर-कर्मचारियोंकी टीम मुस्तैदहै। डेंगू सेघबरायें नहीं। साफ-सफाईपर ध्यान दें।मच्छरदानी लगाकर सोना सबसेहितकर है। घरके आस-पासजलभराव न होनेदें। फागिंग वएंटीलार्वा छिड़ाव के अभियानमें और तेजीलाने के निर्देशदिए गए हैं।

बुखार होने परयहां करें फोन

उप मुख्यमंत्रीने कहा कियदि किसी कोडेंगू बुखार आरहा हो तोहेल्पलाइन नंबर 1075 पर सूचितकर सकते हैं।यह टोल फ्रीनंबर है।

सरकार के पासयह इंतजाम

सरकारी अस्पतालों मेंडेंगू से बीमारलोगों के लिए 3800 से अधिक बेडहैं। डेंगू मरीजोंके लिए हैं।जरूरत पडऩे परसंख्या बढ़ाई जा सकतीहै

24 घंटे डेंगूमरीजों की जांचकी सुविधा

अस्पतालों में फीवरडेस्क बनाई गईहैं

डेंगू मरीजों केलिए भी सरकारीअस्पतालों में अलगसे वार्ड बनायेगये

डेंगू मरीजों कोमच्छरदानी में भर्तीकिया जा रहाहै

मरीजों के लिएबेड बढ़ाने केनिर्देश

डाक्टर के परामर्शपर प्लेटलेट्स उपलब्धकराया जा रहाहै

जांच सेलेकर इलाज कीव्यवस्था मुफ्त

एंटीलार्वा का छिड़कावकराया जा रहाहै

डेंगू मरीज केघर के आस-पास 60 घरों मेंस्क्रीनिंग कराई जारही है

जल भरावकी स्थिति कोखत्म कराया जारहा है

कई सरकारीअस्पतालों में डेंगूकी एलाइजा जांचकी सुविधा शुरूकराई गई है

जागरूकता अभियान चलायाजा रहे हैं

उप मुख्यमंत्रीपाठक ने इसदौरान सभी अधीनस्थोंको आवश्यक दिशा-निर्देशभी जारी किया।डिप्टी सीएम पाठकके निरीक्षण केबाद महानिदेशक चिकित्साएवं स्वास्थ्य लिलीसिंह ने कहाकि लखनऊ केसाथ ही प्रदेशमें डेंगू केमामलों पर हमसभी बेहद गंभीरहै। प्रदेश केसभी 75 जिलों में नोडलअफसर की ड्यूटीलगाई गई है।डेंगू की रोकथामके लिए प्रयासचल रहा है।उन्होंने कहा किडेंगू के बढ़तेमामले देख लोगोंको साफ-सफाईरखने की जरूरतहै।

लिली सिंहने कहा किलखनऊ सहित प्रदेशके कई जिलोंके डेंगू केलक्षण सामान्य डेंगूके लक्षणों सेअलग मिल रहेहैं। उन्होंने कहाकि इसको लेकरअधिक चिंता करनेकी कोई बातनहीं है। उन्होंनेकहा कि इसबार के डेंगूमें मृत्यु दरकाफी कम है।इस बार डेंगूमें दो सेतीन दिन तकबुखार के साथप्लेटलेट काउंट कम होरहा है। शरीरमें पानी कीकमी हो रहीहै। स्वास्थ्य महानिदेशकलिली सिंह नेकहा कि हमनेसभी सीएचसी केसाथ ही मेडिकलकालेज में डेंगूके अतिरिक्त बेडकी व्यवस्था कीहै। किसी कोभी परेशान नहींहोने देंगे।

1 view0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0