google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

डिंपल को टिकट देकर अखिलेश ने पिता की विरासत और सियासत पर एकाधिकार का दिया संदेश


लखनऊ, 10 नवम्बर 2022 : समाजवादी पार्टी के संरक्षकमुलायम सिंह यादवके निधन सेरिक्त हुई उत्तरप्रदेश की मैनपुरीलोकसभा सीट परअब उनकी सियासीविरासत बहू डिंपलयादव संभालेंगी। सपाअध्यक्ष अखिलेश यादव नेमैनपुरी उपचुनाव के लिएअपनी पत्नी कोपार्टी का उम्मीदवारबनाया है। अखिलेशने डिंपल कोउम्मीदवार बनाकर मुलायम कीसियासी विरासत पर एकाधिकारका संदेश देनेकी भी कोशिशकी है। साथही अखिलेश, पत्नीडिंपल के जरिएदिल्ली की राजनीतिमें कहीं ज्यादासक्रिय रहकर कमजोरपड़ चुकी सपाको फिर सेमजबूत करने कीकोशिश करेंगे।

मैनपुरी सीट पर 1996 से सपा काकब्जा

मैनपुरी लोकसभा सीटपर 1996 से लगातारसपा का कब्जारहा है। यहांसे पांच बारजहां मुलायम सांसदचुने गए वहींदो बार बलरामयादव, एक-एकबार भतीजे धर्मेंद्रयादव व पौत्रतेज प्रताप सिंहयादव भी सांसदरहे हैं। वैसेतो इस सीटके उप चुनावमें परिवार केही सदस्य कोप्रत्याशी बनाए जानेकी चर्चा थीलेकिन डिंपल कोउतारने के पीछेकहा जा रहाहै कि मुलायमके निधन केबाद हो रहेचुनाव में सर्वाधिकसंवेदनाएं उन्हें ही मिलसकती हैं।

पत्नी को टिकटदेकर दिया यहसंदेश

मुलायम की सीटपर अखिलेश नेपत्नी को टिकटदेकर यह भीसाफ कर दियाहै कि पिताकी राजनीतिक विरासतपर उनका हीएकाधिकार है। अखिलेश, पिछले विधानसभा चुनावमें करहल सेजीतने के बादसंसद सदस्य सेत्यागपत्र देकर राज्यविधानसभा में प्रतिपक्षके नेता बनेहुए हैं। उपचुनावमें पत्नी कोखड़ाकर अखिलेश की कोशिशयह भी हैकि वे मैनपुरीक्षेत्र से सीधेजुड़े भी रहें।

चार चुनावलड़ी डिंपल दोमें ही जीती

31 वर्ष कीउम्र में चुनावमैदान में उतरनेवाली डिंपल वर्ष 2009 में फिरोजाबाद लोकसभा सीटका उपचुनाव नहींजीत सकी थीं।अखिलेश के इस्तीफासे रिक्त हुईसीट पर डिंपल, फिल्म अभिनेता राजबब्बर से 85 हजारसे अधिक मतोंसे हार गईंथीं। वर्ष 2012 मेंअखिलेश के इस्तीफेसे रिक्त हुईकन्नौज लोकसभा सीट केउप चुनाव मेंडिंपल पहली बारनिर्विरोध सांसद चुनी गईथीं। वर्ष 2014 केलोकसभा चुनाव में भाजपाको हराकर डिंपलफिर कन्नौज सेसांसद बनने मेंकामयाब रहीं थीं।हालांंकि, पिछले लोकसभा चुनावमें वह भाजपाके सुब्रत पाठकसे हार गईं।

परिवार में फूटका भाजपा उठासकती है फायदा

मुलायम परिवार मेंफूट जगजाहिर है।दो दिन पहलेही चाचा शिवपालगोरखपुर में भतीजेअखिलेश पर निशानासाध चुके हैं।उन्होंने कहा थाअखिलेश चापलूसों से घिरेहुए हैं, जोउन्हें गलत रायदेते हैं। असलीसमाजवादी लोग उनकीपार्टी के साथहैं और उनकीपार्टी ही असलीसमाजवादी है। इसकेअलावा मुलायम कीछोटी बहू अपर्णायादव पहले सेही भाजपा मेंहैं। अंदरखाने टिकटन मिलने सेलालू प्रसाद यादवके दामाद तेजप्रताप सिंह यादवको भी झटकालगा है क्योंकिउन्हें यहां सेटिकट मिलने कीपूरी उम्मीद थी।परिवार की इसअंदरूनी कलह काभाजपा फायदा उठासकती है। इसकेलिए भाजपा यादवपरिवार के हीकिसी सदस्य कोचुनाव मैदान मेंउतार सकती है।

0 views0 comments

Comentários


bottom of page