google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

कुत्ते के असली माल‍िक की खोज में घंटों हंगामा


लखनऊ, 21 अक्टूबर 2023 : इन दिनों चिनहट पुलिस कानून व्यवस्था को लेकर नहीं बल्‍क‍ि एक कुत्ते को लेकर उलझन में है। लेब्राडोर ब्रीड के एक कुत्ते ने इंस्पेक्टर साहब को परेशान कर रखा है। कुत्ते के कई रसूखदार दावेदार हैं और पुलिस को समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर इसका असली मालिक कौन है। इस बात का पता लगाने के लिए शुक्रवार को पुलिस ने थाने पर पंचायत बैठाई तो कुत्ते के मालिक होने का दावा कर रहे एक अधिवक्ता और एनजीओ संचालक के बीच भिड़ंत हो गई।

अधिवक्ता पक्ष ने एनजीओ पर कुत्ता चोरी का आरोप लगाया तो एनजीओ ने दावा किया कि उसने कुत्ता कैंट से रेस्क्यू किया था। इसी दौरान एनजीओ के समर्थन में सेना की एएससी (आर्मी सर्विस कोर) की लेफ्टीनेंट कर्नल और कई जवान भी थाने पहुंच गए जिससे मामला और बिगड़ गया। घंटों हंगामा चला और देर शाम बात कुत्ते का डीएनए टेस्ट कराने पर आकर थमी।

गोमतीनगर के विज्ञानखंड हासेमऊ में रहने वाली रंजना श्रीवास्तव हाई कोर्ट में अधिवक्ता हैं। उन्होंने बताया कि एक साल पहले एक परिचित ने कुत्ता दिया था जिसका नाम लोलो रखा था। बुधवार रात कुत्ता चोरी हो गया। शुक्रवार को उन्हें पता चला कि वह लौलाई गांव में पोश यूनाइटेड फाउंडेशन के शेल्टर होम में है। इसके बाद उनकी बेटी और भाई कुत्ते को वहां से ले आईं।

इस पर एनजीओ संचालक शिवानी सिंह और ओमान खान थाने पहुंचे और इंस्पेक्टर आलोक राव से मिले। एनजीओ ने अधिवक्ता, उनकी बेटी और भाई पर जबरन शेल्टर होम से कुत्ता ले जाने का आरोप लगाया। एनजीओ का कहना था 19 अप्रैल को सदर के सोमनाथ द्वार के पास से कुत्ते का रेस्क्यू किया था। शेल्टर होम से कुत्ता उठने की सूचना पर एनजीओ से जुड़ी सेना की एएससी कोर की लेफ्टिनेंट कर्नल वर्षा और कुछ जवान भी थाने पहुंचे।

अधिवक्ता ने लोलो की डीएनए जांच कराने कराने की मांग की। पुलिस की एक टीम कुत्ते, एनजीओ और अधिवक्ता पक्ष के साथ कैंट पहुंची इस बात का पता लगाने कि कहां से रेक्स्यू किया था। इंस्पेक्टर का कहना है कि जांच के बाद ही कुत्ता असली मालिक के सिपुर्द किया जाएगा। पुलिस कर्मी थाने में टहला रहे कुत्ता : एक तरफ कुत्ते पर दावा जताया जा रहा था तो वहीं दूसरी तरफ पुलिसकर्मी लोलो के साथ मस्ती करते नजर आए। कई पुलिस कर्मी उसे पालने के लिए तैयार हो गए।

0 views0 comments
bottom of page