google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

किसान संगठनों की लखीमपुर खीरी में बैठक, हो सकती है मंत्री को बर्खास्त करने की मांग


लखीमपुर खीरी, 5 मई 2022 : उत्तर प्रदेश की राजनीति को बेहद गरमा देने वाले लखीमपुर खीरी के तिकुनिया कांड पर मामला एक बार फिर तूल पकड़नेलगा है। तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी के तिकुनियां में उपद्रव के बाद हिंसा के दौरान चार किसान सहित आठ लोगों की मौत के मामले में मुख्य आरोपित आशीष मिश्रा उर्फ मोनू की जमानत को सुप्रीम कोर्ट के रद करने के बाद अब किसानों के खिलाफ दर्ज केस को खत्म कराने का प्रयास हो रहा है।

किसान नेता राकेश टिकैत गुरुवार को लखीमपुर खीरी पहुंचे हैं। यहां पर उनके नेतृत्व में संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े 28 संगठनों के प्रतिनिधि बैठक करेंगे। संयुक्त किसान मोर्चा लखीमपुर खीरी में बैठक कर किसानों के साथ हो रहे अन्याय पर चर्चा करेगा। किसान मोर्चा का आरोप है कि लखीमपुर में सरकार मानवता के खिलाफ काम कर रही है। यहां पर तो तिकुनियां हिंसा के गवाहों के साथ बड़ी संख्या में प्रत्यक्षदर्शियों को डराया-धमकाया जा रहा है।

राकेश टिकैत के नेतृत्व में गुरुवार को लखीमपुर पहुंचा संयुक्त किसान मोर्चा का प्रतिनिधिमंडल आशीष मिश्रा उर्फ मोनू की जमानत रद होने के बाद अब मोनू के पिता केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा उर्फ टेनी की बर्खास्तगी की मांग भी कर सकता है। इसके साथ ही इनकी योजना क्रास एफआइआर में किसानों के खिलाफ दर्ज केस को भी वापस कराने की भी है। किसान नेताओं का लखीमपुर खीरी में डीएम तथा एसपी से मुलाकात करने का कार्यक्रम है। यहां पर किसानों के खिलाफ जिला तथा पुलिस प्रशासन की कार्रवाई को लेकर किसानों में आक्रोश है।

राकेश टिकैत ने कहा कि केन्द्र सरकार में मंत्री अजय मिश्रा टेनी को भी इस कांड में साजिश रचने के आरोप में जेल भेजा जाना चाहिए। हम मंत्री अजय मिश्रा टेनी की बर्खास्तगी की मांग फिर उठाएंगे। टिकैत ने कहा कि उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार अपराधियों के ठिकानों पर बुलडोजर चलवा रही है। बाबा का बुलडोजर आखिर केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के घर पर आखिर कब चलेगा। लखीमपुर खीरी में संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक को लेकर कार्यक्रम स्थल पर सुरक्षा व्यवस्था काफी सख्त की गई है।
6 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0