google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

यूपी में योगी सरकार बनने के बाद कानून व्यवस्था के ये आंकड़े आपने देखे या नहीं !




उत्तर प्रदेश में सपा सरकार के शासनकाल में पूरे प्रदेश में अपराध चरम पर था। माफिया अपराधी जेल में नहीं बेल पर रहते थे और कानून व्यवस्था के लिए चुनौती बनते थे। यह केवल सत्ता द्वारा मिले संरक्षण की वजह से था, माफिया सरकारी गाड़ियों में मंत्रियों के साथ घूमते थे। आज परिदृश्य बदला है अपराधियों और माफियाओं को उत्तर प्रदेश में आप बेल नहीं पसंद है, वे अपनी बेल खारिज कराकर जेल जा रहे हैं, पुलिस के आगे आत्म समर्पण कर रहे हैं, ये कहना है कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक का।



ब्रजेश पाठक ने कहा कि प्रदेश की जनता भूली नहीं है की कैसे थानों पर सपा के गुंडे, माफिया और अराजक तत्व कब्जा करके बैठते थे, प्रदेश के लगभग 1550 थानों में लगभग 600 से ज्यादा में एक ही जाति व समुदाय विशेष के लोग काबिज थे। श्री पाठक ने कहा कि सपा सरकार में कानून व्यवस्था को चौपट करके रख दिया गया था। वह यह भी नहीं भूली है की किस तरह से सत्ता का संरक्षण पा कर कासगंज और मथुरा में कई-कई दिनों तक उपद्रव होते रहे हैं और सपा मुखिया के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी, जिसका दुष्परिणाम रहा कि उपद्रवियों का हौसला इतना बुलंद हो चुका था कि एसपी सिटी मुकुल द्विवेदी की हत्या तक कर दी गई। आज उत्तर प्रदेश में माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में कानून व्यवस्था पर जीरो टालरेंस की नीति पर काम हो रहा है। उन्होंने कहा कि जो अवैध संपत्ति अपराधियों ने अपनी गुंडागर्दी की बदौलत कमाई, उसमें आज योगी सरकार में 1866 करोड़ से अधिक की संपत्ति को कब्जा मुक्त कराने का काम किया है, साथ ही पिछली सरकारों में संरक्षित संगठित माफिया गिरोह के नेटवर्क को हमारी सरकार ने ध्वस्त किया है।



कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि योगी सरकार ने पिछले साढ़े चार सालों में गैंगेस्टर एक्ट के तहत 36990 अपराधियों को गिरफ्तार किया है, 523 लोगों पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की है। वहीं पिछली सरकार में सपा नेताओं के नेतृत्व में थाने चलाये जाते थे, थानों में बैठकर वसूली होती थी, आज पूरे प्रदेश में कानून का राज है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश में योगी आदित्यानाथ जी के नेतृत्व में हमने 214 नये थानों की स्थापना की है।



उन्होंने कहा कि सपा मुखिया ने तुष्टीकरण की नीति अपनाकर अपराधियों के मनोबल को बढ़ाया था और पूरा प्रदेश उनके चंगुल में कर दिया था, आज फर्क साफ है कि भाजपा सरकार में आतंकवादी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए स्पेशल फोर्स का गठन किया गया है और इसमें तत्काल गिरफ्तारी की जा रही है। सपा की सरकार में अपराधियों पर कार्रवाई न हो पाये इसलिए पुलिस अधीक्षकों के तबादले कर दिये जाते थे। फर्क साफ है भारतीय जनता पार्टी की सरकार में और समाजवादी पार्टी की सरकार में।



उन्होंने कहा कि सपा शासन काल में कोई भी मकान,दुकान खाली पड़ा है तो कोई न कोई समाजवादी पार्टी का नेता झंडा लगाकर उसको कब्जा करने का काम करता था, प्रदेश की जनता भी कहने लगी थी कि गाड़ी में जितना बड़ा सपा का झंडा वो उतना बड़ा गुंडा। आज पूरे प्रदेश में हमारी सरकार ने भूमाफियाओं की कमर तोड़ कर रख दी है।



विपक्ष की सरकार में जातिवाद और परिवारवाद को बढ़ावा मिलता था जिससे युवाओं का अधिकरा छिन जाता था, प्रतियोगी परिक्षाओं में प्रक्रिया बिना ही लोग नौकरी पा जाते थे। सपा की सरकार ने नौजवानों के हितों पर डाका डाला था। आज यूपी में कानून का राज है अगर आप में प्रतिभा है तो हम आपको निष्पक्ष ढंग से परिक्षा कराके नौकरी देंगे अगर किसी ने गड़बड़ी की है तो हम उसके खिलाफ ऐसी कार्रवाई करेंगे उसकी आने वाली पीढ़िया भी याद रखेंगी।



ऐसी घटनाएं होती थी कि किसी अन्य धर्म के लोग अपना अन्य धर्म का नाम बताकर हमारी बहन-बेटियों के साथ छल करते थे और बाद में धर्मपरिवर्तन करने का दबाव बनाते थे और धर्मपरिवर्तन न करने पर उनको तीन बार तलाक बोल सड़क पर छोड़ दिया जाता था हमारी सरकार ने तय किया है कि हम इस अत्याचार का नहीं होने देंगे। हम उनके खिलाफ नहीं है जो अपनी मर्जी से धर्म परिवर्तन करके शादी करना चाहती हैं। छद्म नाम रखकर के, प्रलोभन देकर कोई भी व्यक्ति किसी भी बहन-बेटी के साथ खिलवाड़ नहीं कर पाये इसके लिए हमने यूपी में विधि विरूद्ध धर्म-परिवर्तन कानून बनाकर ऐसे लोग जो लवजिहाद करके हमारी बहनों को प्रताड़ित करते थे उनके जीवन के साथ खिलवाड़ करते थे उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का काम किया है।


टीम स्टेट टुडे

47 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0