google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

गोरखनाथ मठ पर हमले की जांच करेगी एनआइए, मुर्तजा से पूछताछ में खुलासा


लखनऊ, 9 अप्रैल 2022 : गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर प्रांगण में पुलिसकर्मियों पर जानलेवा हमला करने के साथ ही धार्मिक नारेबाजी करने वाले अहमद मुर्तजा अब्बासी पर अब जांच एजेंसियों की सख्ती बढ़ती जा रही है। अब्बासी को दो दिन से रिमांड पर लेकर पड़ताल में लगी यूपी एटीएस से जांच अब नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी(एनआइए) अपने हाथ में लेगी।

गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर प्रांगण में पीएसी के दो तथा सिविल पुलिस के एक सिपाही को घायल करने वाले अहमद मुर्तजा अब्बासी के कनेक्शन टेरर फंडिंग तथा आइएसआइएस ने निकलने के बाद अब मामला काफी पेचीदा होता जा रहा है। इस प्रकरण में अब एनआइए जांच अपने हाथ में ले सकती है। एनआइए यानी राष्ट्रीय जांच एजेंसी भारत की प्राथमिक आतंकवाद विरोधी कार्य बल है। केन्द्र सरकार के गृह मंत्रालय के निर्देश पर काम करने वाली इस एजेंसी को राज्यों से विशेष अनुमति के बिना राज्यों में आतंकवाद से संबंधित सभी प्रकार के अपराधों की जांच से निपटने का अधिकार है।

मुर्तजा अब्बासी प्रकरण की जांच अब एनआइए के हाथों में जा सकती है। अभी तो लखनऊ में मुर्तजा से एटीएस की पूछताछ जारी है। एटीएस मुर्तजा के कुछ करीबियों से उसका सामना कराने की तैयारी में है। इसी दौरान एनआइए की एक टीम ने भी आज मुर्तजा से पूछताछ की। अहमद मुर्तजा अब्बासी के मामले उत्तर प्रदेश के अलावा मुंबई व अन्य स्थानों से भी जुड़ रहे हैं। इसी कारण अब एनआइए इस मामले की जांच को अपने हाथ में भी ले सकती है। एटीएस के साथ एनआइए ने फिलहाल कट्टरपंथियों के संपर्क में रहे कुछ अन्य संदिग्धों व मुर्तजा के बीच कनेक्शन को लेकर भी छानबीन के कदम तेजी से आगे बढ़ा दिया है।

कट्टरपंथ की राह पर मुर्तजा के कदम: अहमद मुर्तजा अब्बासी कट्टरपंथ की राह पर अपने कदम काफी आगे बढ़ा चुका था। आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) की छानबीन में इससे जुड़े एक के बाद एक नये तथ्य सामने आ रहे हैं। मुर्तजा ने आतंकी संगठन आइएस में शामिल होने के लिए एक वेबसाइट के जरिये आनलाइन शपथ भी ली थी। इससे पहले उसके हनीट्रैप के जरिए कट्टरपंथियों के संपर्क में आने का तथ्य भी सामने आया है। इन सभी तथ्यों की गहनता से छानबीन करने के साथ ही उससे जुड़े साक्ष्य जुटाने के प्रयास किये जा रहे हैं। मुर्तजा ने पूछताछ के दौरान अपने कई करीबियों के बारे में भी अहम जानकारियां दी हैं। मुर्तजा पहले जांच एजेंसी के अधिकारियों को गोलमोल जवाब दे रहा था, लेकिन लगातार चल रही पूछताछ में अब वह खुद ही अपने बयानों में उलझता जा रहा है। मुंबई पुलिस ने भी मुर्तजा के बारे में छानबीन शुरू की है। कट्टरपंथियों के संपर्क में आने के बाद मुर्तजा आइएस के आतंकियों से सेफ कम्युनिकेशन स्थापित करने के लिए मोबाइल एप भी तैयार कर रहा था। इस एप के जरिये कट्टरपंथियों को आपस में जोडऩे की योजना थी, जिससे उनके बीच होने वाले संवाद को जांच एजेंसियां ट्रेस न कर सकें। एटीएस ने अब मुर्तजा के लैपटाप व मोबाइल को कोर्ट से लेकर उनकी फोरेंसिक जांच कराये जाने की तैयारी भी तेज कर दी है। एटीएस ने महराजगंज से उसके एक परिचित को हिरासत में लेकर लंबी पूछताछ की है। मुर्तजा अपने इस परिचित से नेपाल से आने के बाद मिला था। मुर्तजा से हुई पूछताछ में यह साफ हो चुका है कि उसका झुकाव पूरी तरह आतंकी संगठनों की ओर हो चुका था और वह जिहाद के लिए कोई भी खतरा उठाने को तैयार था। मुर्तजा अब्बासी ने पूछताछ के दौरान सीरिया में रकम भेजने की बात भी स्वीकार की है। एटीएस कई बैंक खातों का ब्योरा खंगालने के साथ ही सीरिया में किये गये ट्रांजेक्शन के साक्ष्य जुटाने में लगी है।

सीरिया की युवती से आनलाइन दोस्ती : मुर्तजा के मुंबई में रहने के दौरान सीरिया की एक युवती से आनलाइन दोस्ती होने की बात भी सामने आई है, जिसे लेकर भी पड़ताल के कदम बढ़ाये जा रहे हैं। एटीएस जल्द मुर्तजा के कुछ करीबियों से उसका सामना भी कराने की तैयारी कर रही है। गोरखपुर निवासी मुर्तजा ने रविवार को गोरखनाथ मंदिर परिसर में पुलिसकर्मियों पर हमला किया था। जिसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था और बाद में उसे एटीएस के हवाले कर दिया गया था। एटीएस अब मुर्तजा को पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है।

5 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0