google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

गोरखपुर में कांग्रेस ने जीती बड़ी लड़ाई, पार्टी के लिए 'आक्सीजन' जैसी है यह विजय


गोरखपुर, 2 जून 2022 : भालोटिया मार्केट में एकएकड़ जमीन काफैसला कांग्रेस केपक्ष में आयाहै। अपर जनपदएवं सत्र न्यायाधीश/विशेष न्यायाधीश कोर्टसंख्या तीन ओमप्रकाशमिश्र ने नौअप्रैल 2003 की डिक्रीको निरस्त करदिया है। इसडिक्री में कांग्रेसके जमीन परदावे को खारिजकिया गया था।भालोटिया मार्केट के श्रीप्रकाशभालोटिया ने फैसलेके खिलाफ हाईकोर्ट जाने कीबात कही है।

कांग्रेसी बोले, उपहारमें मिली थीजमीन, अब न्यायहुआ

भालोटिया मार्केट अबथोक दवा कीबड़ी मंडी बनचुका है। यहांकी जमीन करोड़ोंरुपये की है। 30 जून को कोर्टका फैसला आनेके बाद कांग्रेसीगदगद हैं। उनकाकहना है किन्याय की जीतहुई है। कांग्रेसके पक्ष मेंनिर्णय होने परछत्तीसगढ़ के प्रभारीपीएल पुनिया, प्रदेशकार्य समिति केसदस्य महेंद्र मोहनउर्फ गुड्डू तिवारी, जिला कांग्रेस कमेटीके महामंत्री वमीडिया प्रभारी अनिल सोनकर, तलत अजीज, आशुतोषतिवारी, सुमित पांडेय, अभिजीतपाठक आदि नेखुशी जताई है।

यह हैमामला

टाउनहाल पर थोकदवा मंडी भालोटियामार्केट की एकएकड़ जमीन कोलेकर वर्ष 1977 सेविवाद चल रहाहै। कांग्रेस काकहना है किवर्ष 1946 में भूमिके स्वामी दुर्गादत्तभालोटिया (अब दिवंगत) ने उपहार मेंएक एकड़ जमीनकांग्रेस को दीथी। भालोटिया परिवारका कहना हैकि संयुक्त परिवारकी संपत्ति कोदान नहीं दियाजा सकता है।

मधुसूदन त्रिपाठी कोदी गई थीजिम्मेदारी

वर्ष 1977 से चलरहे विवाद केसंबंध में कोर्टमें पैरवी कीजिम्मेदारी बार काउंसिलके सदस्य ववरिष्ठ अधिवक्ता मधुसूदन त्रिपाठीकर रहे थे।कांग्रेस की राष्ट्रीयमहासचिव व प्रदेशप्रभारी प्रियंका गांधी वाड्राने खुद मधुसूदनत्रिपाठी से बातकर प्रभावी पैरवीकी जिम्मेदारी दीथी। उनका सहयोगहरिनंदन श्रीवास्तव और मुकुंदलालगुप्ता कर रहेथे।

पूर्व मुख्यमंत्री करचुके हैं पैरवी

उपहार में मिलीबेशकीमती जमीन परकांग्रेस को कार्यालयका निर्माण करानाथा। सात अगस्त 77 को कांग्रेसियों नेकार्यालय भवन केनिर्माण की शुरुआतकी तो मामलापहले थाने औरबाद में कोर्टपहुंचा। इस मामलेकी पैरवी पूर्वमुख्यमंत्री व रेलमंत्री रहे कमलापतित्रिपाठी और महराजगंजसे सांसद शिब्बनलाल सक्सेना भीकर चुके हैं।

गोरखपुर में कार्यालयविहीन है कांग्रेस

गोरखपुर में इससमय जमीन नहोने से कांग्रेसका कोई कार्यालयनहीं है। यहमुकदमा जीतने के बादगोरखपुर में कांग्रेसका कार्यालय खुलनेकी उम्मीद जगीहै।


2 views0 comments