google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

सरकार की पेंशन योजनाएं बनीं आत्म सम्मान का जरिया


लखनऊ, 29 सितंबर 2022 : बात करीब सालभर पहले कीहै। मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ वृद्धावस्था पेंशन वितरणके दौरान इसयोजना के कुछलाभर्थियों से रूबरूहुए थे। इसीदौरान वह हाथरसकी शांति देवीसे भी बातचीतकी थी। सीएमयोगी ने उनसेपूछा कि पेंशनका पैसा पाकरउनको कैसा लगरहा है? शांतिने पूरे संतोषभावके साथ जवाबदिया कि पैसामिल गया है, तो किसी केआगे हाथ नहींफैलाना पड़ेगा। उस कार्यक्रमके दौरान सोनभद्रकी बसंती औरसुल्तानपुर के मनीरामके भाव भीकुछ ऐसे हीथे।

यह तोकुछ चंद उदाहरणहैं। पेंशन पानेवाले अधिकांश लोगोंके मनोभाव इसीतरह के हैं।उत्तर प्रदेश मेंपेंशन योजनाओं सेलाभांवित होने वालोंकी संख्या लगभग 93 लाख है। बातसिर्फ वृद्धावस्था पेंशनकी नहीं, निराश्रितमहिलाओं, दिव्यांगजन और वरिष्ठट्रांसजेंडर भी सरकारके लिए कुछइसी तरह सोचतेहैं।

छोटी-मोटीजरूरतों में पेंशनमददगार

दरअसल, अपनी जरूरतोंके लिए किसीके आगे हाथफैलाना सबसे मुश्किलकाम है। एकस्वाभिमानी व्यक्ति के लिएतो और भी।एक आम बुजुर्गके लिए यहआम बात है।उम्र की मजबूरीऔर अपनी छोटी-मोटी हरजरूरत के लिएवह अपने घर-परिवार पर निर्भरहो जाता है।अगर इन छोटी-मोटी जरूरतोंमें कोई मददगारबन जाए तोउसकी खुशी काकोई ठिकाना नहींरहता। हर पात्रबुजुर्ग को वृद्धावस्थापेंशन से आच्छादितकर यही खुशीसरकार देना चाहतीहै। दे भीरही है। आंकड़ेइस बात केप्रमाण हैं।

पात्रों को जोड़नेका सिलसिला जारी

बुजुर्ग व बेसहारालोग खुश रहें।उनकी बाकी कीजिंदगी आसान होइसके लिए योगीसरकार हर पात्रको पेंशन देनेके लिए प्रतिबद्धहै। ऐसा कोईभी पात्र पेंशनका लाभ पानेसे वंचित नरहे इसके लिएइनको जोड़ने कासिलसिला जारी है।सीएम योगी पहलेही कह चुकेहैं कि सरकारबुजुर्गों का सम्मानकरती है, हमारेलिए वह थातीहैं। उनका अनुभवहमारे लिए अनमोलहै। लिहाजा उनकीहर जरूरत काध्यान देना हमाराफर्ज है।

मदद केलिए एल्डर हेल्पलाइनभी

योगी सरकारअपनी विभिन्न योजनाओंके जरिए पूरीसंजीदगी और सेवाभावसे बुजुर्गों केहित में कामकर रही है।इस क्रम मेंउनको खाने केलिए मुफ्त राशन, बीमारी में मुफ्तइलाज के लिएआयुष्मान भारत कार्डकी व्यवस्था कीगई है। बुजुर्गोंको कभी भी, कहीं भी मददपहुचाने के लिएएल्डर हेल्पलाइन 14567 जारीकिया गया है।

मोबाइल पर मिलेगीपेंशन की सूचना

सरकार पेंशन पानेवाले बुजुर्गों कोएक और सुविधादेने जा रहीहै। बैंक खातेमें पेंशन आयीया नहीं इसकेलिए अब इनकोबैंक के चक्करनहीं लगाने होंगे।इसमें सबसे बड़ीदिक्कत पेंशन पाने वालेबुजुर्गों में सेसबके नंबर नहींथे। आधारकार्ड केप्रमाणीकरण के साथहुए आई-केवाई सी कीवजह अब अधिकांशलोगों के नंबरमिल चुके हैं।जिनके आधार काप्रमाणीकरण हो चुकाहै उनकी पेंशनकी सूचना उनकेमोबाइल पर मिलेगी।आधार प्रमाणीकरण कायह काम जारीहै। जिनके आधारका प्रमाणीकरण होचुका है वह https://sspy-up.gov.in/ पर जाकर अपनेजिले, ब्लॉक, नगरनिकाय, ग्राम पंचायत यानगरीय वार्ड कोसेलेक्ट कर अपनारजिस्ट्रेशन नंबर जानसकते हैं।

0 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0