google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

हर विधानसभा में बनेगा 100 बेड का अस्पताल, हेल्थ प्रेजेंटेशन में सीएम ने दिए आदेश


लखनऊ, 19 अप्रैल 2022 : पहले कार्यकाल में वैश्विकमहामारी कोरोना से जूझते-लड़ते और जीततेचली उत्तर प्रदेशकी योगी सरकारने 'एक जिला, एक मेडिकल कालेज' जैसा बड़ा लक्ष्यरखा और दावाहै कि 61 मेडिकलकालेज तैयार होगए। बाकी 14 जिलोंमें काम शुरूहोने वाला है।इसके साथ हीमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथने दूसरे कार्यकालके लिए संकल्पलिया है किहर विधानसभा क्षेत्रमें एक सौशैय्या अस्पताल होगा। पांचवर्षों के लिएतय चरणवार लक्ष्योंमें हर जिलेमें निश्शुल्क डायलिसिसकी सुविधा औरप्रत्येक जिले मेंजिला अस्पताल केअलावा एक फर्स्टरेफरल यूनिट कीव्यवस्था भी शामिलकी गई है।

योगी मंत्रिमंडलके समक्ष मंगलवारको एनेक्सी भवनमें चिकित्सा एवंस्वास्थ्य सेक्टर की चरणबद्धकार्ययोजना प्रस्तुत की गई।इस सेक्टर मेंशामिल चिकित्सा, स्वास्थ्यएवं परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा, आयुष, बालविकास एवं पुष्टाहारसहित खाद्य एवंऔषधि प्रशासन विभागने अपनी योजनाएंप्रस्तावित कीं।

बिंदुवार समीक्षा केबाद सीएम योगीआदित्यनाथ ने कहाकि पिछले पांचवर्ष में स्वास्थ्यएवं चिकित्सा केक्षेत्र में प्रदेशमें अभूतपूर्व कामहुआ है। इंसेफेलाइटिसउन्मूलन का प्रयासहो या कोविडप्रबंधन, प्रदेश को वैश्विकसंस्थाओं से सराहनामिली है। एकटीम के रूपमें यह प्रयाससतत जारी रखाजाए।

नियोजित प्रयासों सेएनएचआरएम और एनएचएमजैसी योजनाओं कोभ्रष्टाचार मुक्त बनाया गयाहै। यह शुचिताबनी रहे। भ्रष्टाचारकी हर शिकायतको गंभीरता सेलेते हुए कठोरतमकार्रवाई की जाए।इसके साथ हीउन्होंने लक्ष्य तय किए।कहा कि सभीविधानसभा क्षेत्रों में 100 शैय्याके अस्पताल कीउपलब्धता कराई जाए।विस्तृत कार्ययोजना तैयार करचरणबद्ध रूप सेइसे पूरा कराएं।जिस तरह पिछलेपांच वर्षों में 5000 स्वास्थ्य उपकेंद्रों की स्थापनाकी गई, उसीतरह अगले पांचवर्ष में 10,000 नएउपकेंद्र बनाने हैं।

उन्होंने निर्देशित कियाकि हर जिलेमें निश्शुल्क डायलिसिसकी सुविधा उपलब्धकराएं। डायलिसिस, सिटी स्कैन, न्यू बार्न स्टेबिलाइजेशनयूनिट, स्पेशल न्यू बार्नकेयर यूनिट कीसंख्या में बढ़ोतरीकी जरूरत है।अगले दो वर्षमें सभी जिलोंमें यह चिकित्सासेवाएं पहुंच जाएं। प्रत्येकजिले में जिलामुख्यालय के अलावासामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और 100 शैय्या अस्पताल जैसी एकफर्स्ट रेफरल यूनिट होनीचाहिए। हर जिलेमें ड्रग हाउसकी भी व्यवस्थाहो।

मानव संसाधनमजबूत करने केलिए नई भर्ती : मुख्यमंत्री ने निर्देशदिया है किबेहतर चिकित्सा सेवाओंके लिए डाक्टरोंऔर नर्सों कीपर्याप्त तैनाती होनी चाहिए।डाक्टर-नर्स काअनुपात 1:1 हो। आवश्यकताके अनुसार पदसृजित कर योग्यप्रोफेशनल का चयनकिया जाए। पैरामेडिकलस्टाफ स्वास्थ्य व्यवस्थाकी रीढ़ है।अगले छह माहमें 10,000 पैरामेडिकल स्टाफ कीनियुक्ति करें। नियुक्ति प्रक्रियाउत्तर प्रदेश अधीनस्थसेवा चयन बोर्डके माध्यम सेकराई जाएगी। साथही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताऔर सहायिकाओं के 20,000 पदों पर नियुक्तिप्रक्रिया भी अगलेछह माह मेंपूरी कराने केलिए कहा है।

राज्य कर्मचारी औरपेंशनरों को मिलेगाकैशलेस इलाज : योगी सरकारने अगले सौदिन के लक्ष्यमें रखा हैकि सभी राज्यकर्मचारी और पेंशनरोंको कैशलेस इलाजकी सुविधा दीजाएगी। वहीं, सभी आंगनबाड़ीकार्यकर्ताओं और स्वास्थ्यसखियों को आयुष्मानभारत योजना कालाभ दिलाया जाएगा।

मानसिक चिकित्सालयों मेंखुलेंगे उन्मुखीकरण केंद्र : मानसिकरोगियों की सहायताके लिए निजीस्वयंसेवी संस्थाओं का सहयोगलेने का सुझावसीएम ने दियाहै। कहा हैकि आगरा, बरेलीऔर वाराणसी केमानसिक चिकित्सालयों में उन्मुखीकरणकेंद्र खोला जानाचाहिए, ताकि आमजनको मानसिक रोगके संबंध मेंसही-सटीक जानकारीदी जा सके।

केजीएमयू में सेंटरआफ एक्सीलेंस, सिविलअस्पताल का विस्तार : लखनऊ स्थित केजीएमयू मेंक्षय रोग सेंटरआफ एक्सीलेंस कीस्थापना कराई जाएगी, जबकि श्यामा प्रसादमुखर्जी सिविल अस्पताल केविस्तारीकरण की आवश्यकताबताई गई है।लखनऊ में नेशनलसेंटर फार डिजीजकंट्रोल की शाखास्थापित करने केलिए कहा है।सीएम ने निर्देशदिया है किसभी सामुदायिक स्वास्थ्यकेंद्रों पर मैटरनलएनीमिया मैनेजमेंट सेंटर कीस्थापना कराई जाए।यह सुनिश्चित कराएंकि सभी फस्र्टरेफरल यूनिट मेंब्लड स्टोरेज यूनिटजरूर हो।

मेडिकल कालेज औरजिला अस्पतालों मेंबनेंगे नर्सिंग कालेज : स्वास्थ्यढांचे को मजबूतकरने के लिएतय किया हैकि सरकारी मेडिकलकालेजों व जिलाअस्पतालों में नर्सिंगकालेज की स्थापनाकर सीटें बढ़ाईजाएंगी। संसाधन निचले स्तरतक बढ़ाने परजोर है। हरआंगनबाड़ी केंद्र का अपनाभवन होगा। इन्हेंप्री-प्राइमरी केरूप में विकसितकिया जा रहाहै। कम सेकम 5000 नए आंगनबाड़ीकेंद्रों बनाने का लक्ष्यरखा गया है।

स्वास्थ्य के लिएसरकार का येभी एक्शन प्लान

  • डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, जीका वायरस, जापानीइंसेफेलाइटिस, एईएस औरकालाजार जैसी जलजनितबीमारियों के लिएमिशन जीरो चलायाजाएगा।

  • अगले 100 दिनों मेंकम से कम 800 नई एंबुलेंस बढ़ाएं। एएलएसकी संख्या कोएक वर्ष में 250 से बढ़ाकर 375 और फिरआगे 500 तक करनेका प्रयास।

  • 108 एंबुलेंस सेवा केरिस्पांस टाइम कोऔर कम कियाजाए।

  • सभी अस्पतालऔर स्वास्थ्य केंद्रोंपर दवाओं कीपर्याप्त उपलब्धता रहे। आवश्यकमानी जाने वालीकरीब 300 दवाओं की कमीन हो। इसकीसतत निगरानी होगी।

  • कोविड रिपोर्ट कीतर्ज पर हीडेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया कीजांच रिपोर्ट भीपोर्टल पर उपलब्धकराने के प्रयासहों।

  • आंगनबाड़ी केंद्रों मेंतीन से छहवर्ष आयु केबच्चों को हाटकुक्ड मील केसाथ-साथ अधिकपोषण युक्त मार्निंगस्नैक्स (दूध-फलआदि) भी देनेकी तैयारी।

  • उत्तर प्रदेश लाइवइमरजेंसी मानीटरिंग सिस्टम वालापहला राज्य होगा।मोबाइल एप आधारितडिजिटल प्लेटफार्म और कमांडकाल सेंटर कीतैयारी।

  • प्रदेश में ई-अस्पताल की स्थापनाकी रणनीति तैयारकी जाएगी औरदो वर्ष मेंइसे क्रियाशील कियाजाएगा।

  • अगले छहमाह में पांचनर्सिंग स्कूल, तीन पैरामेडिकल स्कूल और 24 स्किललैब की स्थापनाकी जाएगी।

  • नीट केमाध्यम से जीएनएमऔर बीएससी नर्सिंगमें प्रवेश दिलायाजाएगा। योग्यता और कौशलविकास में सुधारके लिए हरराजकीय मेडिकल कालेज मेंस्किल लैब बनेगी।

  • पैरामेडिकल के कौशलविकास के लिएपांच नए पाठ्यक्रम, ओटी टेक्नीशियन, रेडियोथैरेपीटेक्नीशियन, एनेस्थीसिया टेक्नीशियन, डायलिसिसटेक्नीशियन और एमआरआइटेक्नीशियन को जोडऩेकी कार्ययोजना बनेगी।

12 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0