google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

होटल लेवाना अग्निकांड में दो मालिक सहित जीएम को भेजा गया जेल, सीएम को सौंपी जाएगी रिपोर्ट


लखनऊ, 6 सितंबर 2022 : राजधानी लखनऊ के होटल लेवाना सुइट्स में सोमवार को अग्निकांड में चार लोगों की मौत के मामले में सरकार ने मालिकों पर शिकंजा कसा है। लखनऊ पुलिस ने होटल के मालिकों के साथ ही जीएम के खिलाफ कल ही गंभीर धाराओं में एफआइआर (FIR) दर्ज की थी। इन सभी को मंगलवार को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया।

लखनऊ के होटल लेवाना सुइट्स में सोमवार को आग लगने के कारण चार लोगों की मौत के मामले में होटल के मालिक राहुल अग्रवाल व रोहित अग्रवाल के साथ महाप्रबंधक सागर श्रीवास्तव को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है। इससे पहले आज तीनों को मेडिकल परीक्षण के बाद सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया था।

पुलिस ने होटल के मालिक राहुल, रोहित और पवन अग्रवाल के साथ होटल जीएम सागर श्रीवास्तव के खिलाफ कल केस दर्ज किया था। इनमें से राहुल व रोहित अग्रवाल के साथ होटल के जीएम सागर श्रीवास्तव को कल ही गिरफ्तार किया था। आज डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल में इनका मेडिकल करवा पुलिस इनको कोर्ट में पेश करेगी। इन तीनों के खिलाफ धारा 308 और 304 में केस दर्ज किया गया है। इमरजेंसी में तैनात डाक्टर ने इनका मेडिकल परीक्षण किया। इसके बाद राहुल अग्रवाल, रोहित अग्रवाल और सागर श्रीवास्तव को सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया।

उधर होटल लेवाना प्रबंधन इस होटल के अग्निकांड में सुरक्षित बचे लोगों का सामान भी लौटा रहा है। होटल में ठहरे सभी लोगों का मेडिकल परीक्षण भी कराया गया है।

जांच टीम भी अपने काम में लगी

लखनऊ के हजरतगंज में मदन मोहन मालवीय मार्ग पर स्थित होटल लेवाना सुइट्स में कल अग्निकांड के बाद अब जांच तेज हो गई है। इस केस की जांच के लिए लखनऊ की मंडलायुक्त डा. रोशन जैकब के साथ लखनऊ के पुलिस कमिश्नर एसपी शिरोडकर के नेतृत्व में टीम गठित की गई है। रोशन जैकब में कल ही लखनऊ विकास प्राधिकरण को कठघरे में खड़ा किया था। आज भी उन्होंने होटल में जाकर जांच की। माना जा रहा है कि वह आज शाम तक अपनी जांच रिपोर्ट शासन को सौंप सकती हैं।

पुलिस की टीम भी जांच में लगी

होटल लेवाना सुइट्स में फायर विभाग से गठित तीन सदस्यीय टीम भी जांच करने पहुंची। टीम में शामिल डीआइजी फायर, डायरेक्टर फायर और सीएफओ वाराणसी फैक्ट फाइंडिंग में लगे हैं।


1 view0 comments

Comments


bottom of page