google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

सदन में सीएम योगी बोले-समाजवादी पार्टी और सच तो नदी के दो छोर


लखनऊ, 20 सितंबर 2022 : उत्तर प्रदेश विधानमंडल केमानसून सत्र केदूसरे दिन विधानसभामें मंगलवार कोशब्दों के बाणजोरदार ढंग सेचले। नेता विरोधीदल अखिलेश यादवने योगी सरकारपर हमला बोलातो मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ की तरफसे उनको माकूलजवाब भी मिला।

समाजवादी पार्टी केअध्यक्ष अखिलेश यादव केभाजपा पर हमलोंके जवाब मेंमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथने कहा किसमाजवादी पार्टी और सचनदी के दोछोर हैं। सभीको पता हैकि यह कभीएक नहीं होसकते हैं। समाजवादीपार्टी को तोप्रदेश सरकार के अच्छेकार्यों को सहर्षस्वीकार करना चाहिएऔर नेता विरोधीकल अखिलेश यादवको इस बारेमें तो सचबोलना चाहिए।

पर उपदेशकुशल बहुतेरे

योगी आदित्यनाथने कहा किसदन में नेताप्रतिपक्ष जैसा बोलरहे थे, उससेतो ऐसा लगापर उपदेश कुशलबहुतेरे। आपको तोनेशनल हेल्थ सर्वेके आंकड़ें देखनेकी जरूरत है।प्रदेश में बीतेपांच वर्ष मेंशिशु और मातृमृत्यु दर मेंकमी आई है।उत्तर प्रदेश मेंस्वास्थ्य सेवाओं को लेकरलगातार बेहतर सुधार हुएहैं।

योगी आदित्यनाथने अखिलेश यादवको आईना दिखाया

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथने विधानसभा मेंगलत तथ्य पेशकर जनता कोगुमराह करने कीकोशिश पर समाजवादीपार्टी के मुखियाअखिलेश यादव कोआईना दिखाया। मंगलवारको विधानसभा मेंमुख्यमंत्री ने कहाकि समाजवादी पार्टीऔर सच तोनदी के दोकिनारे हैं, जोआपस में कभीनहीं मिलते, लेकिननेता प्रतिपक्ष कोसदन में सचबोलने की आदतडालनी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहाकि प्रदेश मेंचार बार समाजवादीपार्टी की सरकाररही, लेकिन प्रदेशकी स्वास्थ्य सुविधाओंको बेहतर करनेकी कोई कोशिशनहीं की गई।यहां तक किगोरखपुर व आसपासके जिलों मेंइंसेफेलाइटिस से मासूमबच्चों की हरसाल सैकड़ों मौतेंहोती रहीं, लेकिनसमाजवादी पार्टी की ओरसे संवेदना काएक भी शब्दनहीं फूटा।

तथ्यों और तर्कोंके साथ कारगुजारियोंकी पोल खोलकर रख दी

विधानमंडल के मानसूनसत्र के दूसरेदिन मंगलवार कोनेता प्रतिपक्ष अखिलेशयादव ने प्रदेशके स्वास्थ्य तंत्रपर अपना बयानदिया। जवाब मेंसीएम योगी आदित्यनाथने समाजवादी पार्टीके चार वर्षशासन के दौरकी कारगुजारियों कीपोल खोल कररख दी। तथ्योंऔर तर्कों केसाथ मुख्यमंत्री नेकहा कि गोरखपुरएम्स के लिएजमीन देने मेंयही तथाकथित समाजवादीरोड़ा अटकाते रहे।

अपने कार्यकालके बारे मेंसोचना चाहिए

मुख्यमंत्री ने कहाकि जब 2017 मेंनई सरकार बनीतो हमने जमीनकी रजिस्ट्री कराई।प्रदेश में सीएचसीऔर पीएचसी बंदीकी कगार परथे। जिला अस्पतालोंकी हालत दयनीयथी। पहले तोइन्ही बरसात केमहीनों में गोरखपुरमें इंसेफेलाइटिस काकहर होता था।हर वर्ष 1200 से 2000 तक मासूम बच्चों कीमौत होती थी।अकेले गोरखपुर केबीआरडी मेडिकल कालेज मेंपांच सौ मौतहर वर्ष होतीथी। यह बच्चेअनुसूचित जाति, अल्पसंख्यक वर्गऔर पिछड़ा वर्गपरिवारों के थे, लेकिन सरकारों नेकोई इंतजाम नहींकिया। इंसेफेलाइटिस काटीका 1905 में हीजापान में आगया था, लेकिनभारत तक पहुंचनेमें उसे सौवर्ष लग गए।आज सरकार परसवाल उठाने सेपहले इन्हें अपनेकार्यकाल के बारेमें सोचना चाहिए।

बीते पांचवर्ष में बड़ासुधार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथने राष्ट्रीय परिवारस्वास्थ्य सर्वेक्षण चार वपांच हवाले सेकहा कि बीतेसाढ़े पांच सालमें स्वास्थ्य क्षेत्रमें बेहतरीन सुधारहुआ है। एनीमियाकी रोकथाम कीकोशिशों का हीनतीजा है किआज प्रदेश मेंराष्ट्रीय औसत सेबेहतर हालात हैं।मातृ व शिशुमृत्यु दर मेंलगातार सुधार हो रहाहै। उन्होंने कहाकि हम आजविरासत की ऐसीही विकृतियों कोसुधार रहे हैं।

यह डबलइंजन सरकार केप्रतिबद्धतापूर्ण प्रयासों का हीनतीजा है किआज हालात ऐसीहै कि इससाल अब तकगोरखपुर में एईएसके 40 और जेईके मात्र सातमामले आये हैंऔर एक भीबच्चे की मृत्युनहीं हुई है। 108 एम्बुलेंस के रेस्पॉन्सटाइम को कमकिया गया है।सरकार के लिए 25 करोड़ प्रदेशवासी परिवार काहिस्सा हैं।

कोरोना संक्रमण कालमें कहां थेनेता प्रतिपक्ष

मुख्यमंत्री ने कहाकि कोरोना आयातो नेता प्रतिपक्षकहां थे, किसीको पता नहींथा। जनता कीकोई सुध नहींली। प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी की कोशिशोंसे कोरोना संक्रमणकी शुरुआत केमात्र नौ माहमें ही देशको दो स्वदेशीवैक्सीन मिले, नतीजतन आजपूरा देश, पूराउत्तर प्रदेश सुरक्षितहै। कोविड टीकेको लेकर अखिलेशयादव की राजनीतिको निंदनीय बतातेहुए मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ ने इसेजनता के जीवनसे खिलवाड़ करनेवाला कृत्य करारदिया।

मौका मिलातो कुछ नाकर सके

विधानसभा में मुख्यमंत्रीने कहा किजब इनको मौकामिला तो कुछन कर सके, लेकिन आज जबप्रदेश के हरजिले में मेडिकलकालेज खुल रहेहैं। गांवों मेंसाप्ताहिक आरोग्य मेले लगरहे हैं। इंसेफेलाइटिसखत्म हो रहाहै, तो नेताप्रतिपक्ष को खुशहोना चाहिए। सहयोगभले न करसकें लेकिन कमसे कम गलतऔर भ्रामक बयानदेकर प्रदेश कीबेहतरी में अड़ंगातो न लगाएं।अखिलेश यादव मुख्यमंत्रीरहे हैं, आजमुख्य विपक्षी दलके नेता हैं, जनता को भ्रमितकरना, गुमराह करनाइन्हें शोभा नहींदेता। सदन मेंबोलने से पहलेनेता प्रतिपक्ष कोआंकड़ों का सत्यापनकर लेना चाहिए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथने कहा किप्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नेदेश को फाइवट्रिलियन की अर्थव्यवस्थाबनाने का लक्ष्यरखा है। उत्तरप्रदेश ने भीइस लक्ष्य कोपूरा करने मेंसहयोग करते हुएखुद के लिएवन ट्रिलियन डालरकी अर्थव्यवस्था कासंकल्प लिया है।

सदन मेंआज अखिलेश यादवने प्रदेश केउपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक कोनिशाने पर रखाऔर उनको सिर्फछापामार बताया था। अखिलेशयादव उत्तर प्रदेशकी स्वास्थ्य सेवाओंको लेकर सदनमें तल्ख तेवरमें थे, लेकिनसीएम योगी आदित्यनाथने भी उनकोबेहद सधा साजवाब दे दिया।

0 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0