google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

कैसे होती है वोटों की गिनती और EVM-VVPAT पर्चियों का मिलान, जानिए मतगणना की पूरी प्रक्रिया



देश में 18वीं लोकसभा के लिए सात चरणों में चुनाव संपन्न हो चुके हैं। 97 करोड़ मतदाताओं ने 543 लोकसभा सीटों पर चुनावी मैदान में उतरे प्रत्याशियों के भाग्‍य का फैसला कर दिया है। इनमें से गुजरात की सूरत लोकसभा सीट छोड़कर 542 सीटों का फैसला कल यानी 4 जून 2024 को आएगा।


कैसे वोटों की गिनती होती है? मतगणना वाले दिन होता क्या-क्या है? वोटों की गिनती कौन करता है? काउंटिंग सेंटर के अंदर कौन जा सकता है? मतगणना के बाद EVM का क्या होता है?


कितने बजे से शुरू होगी वोटों की गिनती?


चुनाव आयोग के अनुसार, वोटों की गिनती सुबह 8 बजे से शुरू हो जाएगी। सबसे पहले पोस्टल बैलेट की गिनती होगी और उसके बाद ईवीएम के वोट गिने जाएंगे। पोस्टल बैलेट में भी दो कैटेगरी से मतगणना होगी। पहले सेना, पैरामिलिट्री फोर्स के जवानों और ऑफिसर्स के वोट काउंट होंगे। इसके बाद सेकेंड कैटेगरी में चुनाव ड्यूटी कर रहे कर्मचारियों, अधिकारियों और सुरक्षा कर्मियों के पोस्टल बैलट काउंट होंगे।

 

कौन शुरू करता है डाक मतपत्रों की गिनती ?


चुनाव संचालन नियम 1961 के नियम 54 ए के तहत, डाक मतपत्रों की गिनती सबसे पहले रिटर्निंग ऑफिसर (आरओ) की टेबल पर शुरू की जाएगी। केवल ऐसे डाक मतपत्रों की गिनती की जाएगी जो मतगणना शुरू होने के लिए निर्धारित समय से पहले आरओ को प्राप्त हो जाएं। डाक मतपत्रों की गिनती शुरू होने के 30 मिनट बाद ईवीएम से मतों की गिनती शुरू होती है।

 

मतगणना अधिकारी के क्या होते हैं दायित्व?


यदि निर्वाचन क्षेत्र में डाक मतपत्र नहीं है तो ईवीएम से मतों की गिनती निर्धारित समय पर शुरू की जा सकती है। मतों की गिनती के लिए मतदान केंद्र में इस्तेमाल की गई ईवीएम की कंट्रोल यूनिट (CU) के साथ फॉर्म 17सी की ही जरूरत होती है। ईवीएम के सीयू से परिणाम जानने से पहले, मतगणना अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि उन पर लगी पेपर सील बरकरार है और डाले गए कुल मत फॉर्म 17सी में उल्लिखित मतों से मेल खाते हैं।

 

कैसे होता है परिणाम घोषित


कंट्रोल यूनिट का परिणाम मतगणना पर्यवेक्षक, माइक्रो ऑब्जर्वर और उम्मीदवारों के मतगणना एजेंटों को दिखाने के बाद फॉर्म 17सी के भाग-II में नोट किया जाएगा। कंट्रोल यूनिट के डिस्प्ले पैनल में परिणाम प्रदर्शित न होने की स्थिति में, सभी सीयू की गणना पूरी होने के बाद संबंधित वीवीपैट की वीवीपैट पर्चियों की गणना की जाएगी। प्रत्येक सीयू का उम्मीदवार-वार परिणाम फॉर्म 17सी के भाग II में नोट किया जाएगा और मतगणना पर्यवेक्षक और मतगणना टेबल पर मौजूद उम्मीदवारों के मतगणना एजेंटों द्वारा हस्ताक्षरित किया जाएगा।

 

कब होती है VVPAT पर्चियों की गणना?

 

प्रत्येक मतदान केंद्र का फॉर्म 17सी फॉर्म 20 में अंतिम परिणाम पत्रक संकलित करने वाले अधिकारी को भेजा जाना चाहिए। वीवीपैट पर्चियों की गणना सीयू से मतों की गणना पूरी होने के बाद ही शुरू होगी। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र/संसदीय क्षेत्र के प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में यादृच्छिक रूप से चयनित पांच मतदान केंद्रों की वीवीपैट पर्चियों का अनिवार्य सत्यापन मतगणना पूरी होने के बाद ही किया जाएगा। जब जीत का अंतर अस्वीकृत डाक मतपत्रों की संख्या से कम हो, तो परिणाम घोषित करने से पहले ऐसे सभी अस्वीकृत डाक मतपत्रों का अनिवार्य रूप से पुनः सत्यापन किया जाएगा। यदि दो उम्मीदवारों को समान संख्या में सर्वाधिक मत प्राप्त होते हैं, तो परिणाम लॉटरी द्वारा घोषित किया जाएगा।

 


इतनी बड़ी संख्या में वोटों की गिनती कौन करेगा?


चुनाव आयोग (ECI) की ओर से रिटर्निंग ऑफिसर की नियुक्ति की जाती है, जो कल यानी 4 जून को पारदर्शिता के साथ बिना किसी बाधा के मतगणना कराएंगे। लोकसभा चुनाव में वोटों की गिनती रिटर्निंग ऑफिसर (RO) और सहायक रिटर्निंग ऑफिसर (AROS) की देखरेख में किसी बड़े हॉल में होती है। इनके अलावा, चुनाव आयोग की ओर से एक वरिष्ठ अधिकारी को पर्यवेक्षक के तौर पर तैनात किया जाता है।

 

वोटों की गिनती शुरू करने से पहले रिटर्निंग ऑफिसर और असिस्टेंट रिटर्निंग ऑफिसर मतों की गोपनीयता बनाए रखने की शपथ लेंगे। मतगणना शुरू होने से पहले जोर-जोर से बोलकर शपथ लेते हैं।

 

वोटों की गिनती कब शुरू होगी?


चुनाव आयोग के मुताबिक, मतगणना सुबह 8 बजे से शुरू होगी। हालांकि, किसी विशेष परिस्थिति में समय में बदलाव भी किया जा सकता है। सबसे पहले बैलेट पेपर और इलेक्ट्रॉनिकली ट्रांसमिटेड पोस्टल बैलेट सिस्टम ( ETPBS) के जरिए डाले गए वोटों की गणना होगी।


आमतौर पर बैलेट पेपर व ईटीपीबीएस के जरिए चुनाव ड्यूटी में तैनात सरकारी कर्मचारी, सैनिक, देश के बाहर सेवारत सरकारी अधिकारी, बुजुर्ग मतदाता व प्रिवेंटिव डिटेंशन में रहने वाले लोग मतदान करते हैं। इन वोटों को गिनने में करीब आधे घंटे का समय लग जाता है।

 

सुबह 8-30 बजे के बाद सभी टेबलों पर एक साथ EVM के वोटों की गिनती शुरू होती है। हॉल में एक राउंड में 14 ईवीएम के वोटों की गिनती की जाती है।

 

मतगणना केंद्र पर मौजूद रिटर्निंग ऑफिसर प्रत्येक राउंड की गिनती के बाद रिजल्ट का एलान करते हैं। साथ ही इसे चुनाव आयोग की वेबसाइट पर भी अपडेट किया जाता है। मतों की गिनती का पहला रुझान सुबह 9 बजे से आना शुरू हो जाएगा।


देश की 542 सीटों पर चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों की किस्‍मत का फैसला आएगा। इनमें से गुजरात की सूरत लोकसभा सीट पर भाजपा प्रत्याशी की निर्विरोध जीत हो गई थी।


 

भीषण गर्मी और लू से मतगणना कार्मिकों को सुरक्षित रखने के लिए दिये गये निर्देश

सभी जिला निर्वाचन अधिकारी मतगणना स्थल पर विशेष प्रबंध करते हुए सावधानी बरतें

मतगणना स्थल पर टेंट की पर्याप्त व्यवस्था की जाए


मतगणना स्थल पर शीतल जल, गुड़, ग्लूकोज, हल्के और ताजे बने भोजन की व्यवस्था की जाए


जनपद की स्वास्थ्य सेवाएं भी अलर्ट पर रहें


दिनांक : 03 जून, 2024


लखनऊ : उत्तर प्रदेश में लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2024 की मतगणना 04 जून को होनी है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी नवदीप रिणवा ने भीषण गर्मी और लू से मतगणना कार्मिकों को सुरक्षित रखने के लिए सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को मतगणना स्थल पर विशेष प्रबंध और सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं।


मतगणना स्थल पर टेंट की पर्याप्त व्यवस्था की जाए, जिसमें कूलर, एयर कंडीशनर और पंखों की सुविधा हो। राजनैतिक दलों के प्रतिनिधि, मतगणनाकर्मी, और मीडियाकर्मी हल्के सूती वस्त्रों का प्रयोग करें और सिर को ढकने के लिए सफेद सूती गमछा या अन्य कपड़ा रखें। मतगणना स्थल पर पीने योग्य शीतल जल, गुड़, ग्लूकोज की पर्याप्त व्यवस्था हो। मतगणना स्थल पर हल्के और ताजे बने भोजन की व्यवस्था की जाए। मतगणना स्थल पर ओआरएस पैकेट की उपलब्धता, मेडिकल कैम्प, डॉक्टर, दवाइयां, पैरा मेडिकल स्टाफ, ऑक्सीजन सिलेंडर और एम्बुलेंस की सुविधा हो। इन उपायों के अलावा, हीट स्ट्रोक से बचाव के लिए हैंड बिल तैयार किए जाएं और सभी मतगणना कार्मिकों को उपलब्ध कराए जाएं। जनपद की स्वास्थ्य सेवाएं भी अलर्ट पर रहें। इस प्रकार के उपायों से न केवल मतगणना की प्रक्रिया सुचारु रूप से संपन्न होगी, बल्कि मतगणना कर्मियों और अन्य संबंधितों की स्वास्थ्य सुरक्षा भी सुनिश्चित होगी।


 

उत्तर प्रदेश में प्रवर्तन एजेन्सियों व उड़नदस्तों द्वारा अवैध शराब, नकदी आदि की जब्ती संबंधी निर्देशों का किया गया कड़ाई से अनुपालन


01 मार्च से 02 जून तक कुल 55160.84 लाख रुपये कीमत की शराब, ड्रग, बहुमूल्य धातुएं व नकदी आदि जब्त की गयी


आदर्श आचार संहिता लागू होने से 02 जून तक कुल 50008.71 लाख रुपये कीमत की शराब, ड्रग, बहुमूल्य धातुएं व नकदी आदि जब्त की गयी


दिनांक 03 जून, 2024


लखनऊ। प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी, श्री नवदीप रिणवा ने बताया कि उत्तर प्रदेश में प्रवर्तन एजेन्सियों व उड़नदस्तों द्वारा अवैध शराब, नकदी आदि की जब्ती संबंधी आयोग के निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन किया गया। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा 16 मार्च, 2024 को लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2024 की निर्वाचन तिथियों की घोषणा के साथ ही प्रदेश में स्वतंत्र, निष्पक्ष, शांतिपूर्ण, भयमुक्त, प्रलोभनमुक्त, समावेशी व सुरक्षित मतदान कराने के लिए पूरे प्रदेश में आदर्श आचार संहिता प्रभावी है।


मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि आबकारी, आयकर, पुलिस एवं नार्कोटिक्स विभाग एवं अन्य प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा 01 मार्च से 02 जून, 2024 तक कुल 55160.84 लाख रुपये कीमत की शराब, ड्रग, बहुमूल्य धातुएं व नकदी आदि जब्त किये गये। इसमें 9128.78 लाख रुपये नकद धनराशि, 5776.58 लाख रुपये कीमत की शराब, 24238.29 लाख रुपये कीमत की ड्रग, 2889.47 लाख रुपये कीमत की बहुमूल्य धातुएं, 10714.81 लाख रुपये कीमत के मुफ्त उपहार एवं 2412.91 लाख रुपये कीमत की अन्य सामग्री जब्त की गयी।

Comments


bottom of page