google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

जापान और दक्षिण कोरिया से 25 हजार 456 करोड़ का एमओयू साइन


  • हस्ताक्षरित तथा प्रतिष्ठित कम्पनियों ने उद्योग स्थापित करने की दिखाई प्रतिबद्धता


  • यूपी ग्लोबल इन्वेटर्स समिट-2023 से पूर्व जापान-दक्षिण कोरिया से 50 हजार करोड़ का निवेश-जयवीर सिंह

  • जापान और दक्षिण कोरिया से कुल 75 हजार करोड़ का प्राप्त होगा निवेश

लखनऊ, 20 दिसम्बर, 2022 : उत्तर प्रदेश के पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह के नेतृत्व में जापान एवं दक्षिण कोरिया गयी टीम रोड-शो एवं बिजनेस डीलिंग करने के बाद मुख्यमंत्री से भेंट कर उन्हें रिपार्ट सौंपी। इन दोनों देशों के प्रमुख औद्योगिक घरानों से भारतीय मुद्रा में 25 हजार 456 करोड़ रूपये के एमओयू पर हस्ताक्षर सम्पन्न कराये गये तथा विदेशी कम्पनियों ने उ.प्र में उद्योग लगाने के प्रति अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की।

जयवीर सिंह ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि फरवरी में उ.प्र ग्लोबल इन्वेटर्स समिट-2023 से पूर्व दक्षिण कोरिया एवं जापान से 50 हजार करोड़ रूपये का निवेश प्राप्त होने की पूरी सम्भावना है। इस प्रकार कुल लगभग 75 हजार करोड़ रूपये का एमओयू जापान एवं दक्षिण कोरिया और उ.प्र सरकार के बीच सम्पादित होगा। इस मौके पर पर्यटन मंत्री ने मुख्यमंत्री को जापान से लाये गये एक धार्मिक प्रतीक चिन्ह भेंट किया।

जयवीर सिंह ने यह जानकारी देते हुए आज यहां बताया कि जापान एवं दक्षिण कोरिया में रोड-शो के दौरान विभिन्न प्रतिष्ठित कम्पनियों से चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री योगी जी के विकास माडल पर विशेष फोकस रहा। उन्होंने बताया कि दोनों देशों के कम्पनियों को बताया गया कि उ.प्र की कानून व्यवस्था एवं अवस्थापना सुविधा की विदेशों में सराहना की जा रही है। प्रदेश में रेल, वायु, सड़क एवं एक्सप्रेस-वे की बेहतर कनेक्टिविटी की वजह से देश-विदेश के निवेशक दिलचस्पी ले रहे हैं। इसलिए जाने माने औद्योगिक घराने के निवेशक चीन से अपना बिजनेस समेट कर भारत और उ.प्र की ओर रूख कर रहे हैं।

जयवीर सिंह ने बताया कि प्राविधिक शिक्षा मंत्री आशीष पटेल, अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद एवं नोएडा विकास प्राधिकरण के अरूण बीर सिंह, पूर्व ड्रग कन्ट्रोलर भारत सरकार एवं मुख्यमंत्री के सलाहकार जी0एन0 सिंह के अलावा अन्य अधिकारी शामिल थे। इस प्रतिनिधि मण्डल ने दक्षिण कोरिया तथा जापान के प्रतिष्ठित कम्पनियों जिसमें कोरिया की इण्डो अमेरिकन फ्रेंड्स फोरम ने सांस्कृतिक संबंधो पर चर्चा के दौरान विशेष रूचि दिखाई। इसके अलावा प्रवासियों के साथ शिक्षा क्षेत्र में निवेश के लिए दक्षिण कोरिया में शिक्षा क्षेत्र में भारतीय प्रवासियों के साथ चर्चा की गई। इसके अलावा डोंगकुक स्टील, ली क्यूंग-सैन से इस्पात उद्योग में निवेश की इच्छा और प्रोत्साहन के बारे में सूचना का आदान प्रदान हुआ।

पर्यटन मंत्री ने बताया कि इसी प्रकार टैगहाइव, लिक हान-क्यू, कोरियन टूर आपरेटर, सैमसंग इलेक्ट्रानिक्स तथा काऊपांग के सुश्री मिनेट बेलिंगन, प्रतिनिधि निदेशक, एमएसएमई, ओडीओपी उत्पादों के साथ मिलकर उनके ई-रिटेलिंग प्लेटफार्म पर काम करने की इच्छा व्यक्त की। इसके अलावा नोएडा में यमुना एक्सप्रेस-वे पर कोरियन टाउनशिप और डाटा सेंटर के विकास के बारे में कोरिया की सैमसंग इलेक्ट्रानिक्स से सार्थक चर्चा हुई। कोरियन टूर आपरेटर ने उ.प्र में अध्यात्मिक, ईको एवं कल्याण पर्यटन के लिए कोरियाई पर्यटकों की संख्या बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करने पर चर्चा हुई। इसके अलावा ऐडा परियोजना जैसे एक्सप्रेस-वे, डेटा सेंटर, आईटी पार्क, फिल्म सिटी और कई अन्य निवेश करने के बारे में दिलचस्पी दिखाई।

पर्यटन मंत्री ने बताया कि प्रतिनिधि मण्डल ने जापान के एचएमआई होटल ग्रुप और ओरा गु्रप ने होटल परियोजनायें के बारे में विस्तार से चर्चा की। एनटीटी ग्लोबल ने गौतमबुद्ध नगर में 2000 करोड़ रूपये की लागत से डेटा सेंटर स्थापित करने तथा जापान इंडिया इण्डस्ट्री प्रमोशन एसोसिएशन ने गौतमबुद्धनगर में 2500 करोड़ रूपये के निवेश से कपड़ा मशीनरी निर्माण इकाई स्थापित करने के लिए एमओयू हस्ताक्षरित किया। जिससे 5000 लोगों को रोजगार मिलेगा। इसके अलावा जापानी कम्पनी निसेंकेन गुणवत्ता मूल्यांकन केन्द्र टोकियो में 10,000 करोड़ रूपये के निवेश हेतु एमओयू किया, इससे 10 हजार लोगों को रोजगार प्राप्त होगा।

पर्यटन मंत्री ने बताया कि वन वर्ल्ड कारपोरेशन ने गौतमबुद्धनगर में 50 एकड़ एरिया में 5000 करोड़ रूपये की लागत से कूड़ा प्रबंधन हेतु एमओयू हस्ताक्षर किया तथा मित्सु एंड कम्पनी ग्लोबल लॉजिस्टिक्स ने अलीगढ़ में 5000 करोड़ रूपये की लागत से 200 एकड़ में फैले लॉजिस्टिक्स पार्क विकसित करने हेतु प्रतिबंद्धता दिखाई। इसके अलावा सेको एडवांस लि0 ने उ0प्र0 में 200 लोगों के रोजगार सृजन हेतु 850 करोड़ रूपये के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किया। इसके अतिरिक्त चुबु इलेक्ट्रिक पावर, इनोवेशन थ्रू एजर्नी, आईजो कापोरेशन ने भी प्रदेश में निवेश के लिए प्रतिबद्धता दिखाई। उन्होंने बताया कि केके जयपुर के ज्ञान प्रकाश मित्तल ने उ.प्र में 4 सितारा होटल की सम्पत्ति सृजित करने के लिए 300 करोड़ रूपये के एमओयू पर हस्ताक्षर किया।

जयवीर सिंह ने बताया कि रोड-शो एवं बिजनेस डीलिंग के दौरान दक्षिण कोरिया एवं जापान के प्रतिष्ठित कम्पनियों के प्रतिनिधियों को फरवरी में होने वाले यूपीजीआईएस-2023 के लिए आमंत्रित किया गया।

24 views0 comments
bottom of page