एक राज्य के मुख्यमंत्री जिनका नाम आया सोना तस्करी में !



कल्पना कीजिए उस राज्य की जिस राज्य के मुख्यमंत्री का नाम सोना तस्करी में आ जाए। जी हां ये सच है। जेल में बंद सोना तस्करी के मुख्य आरोपी का कहना है कि उसने मुख्यमंत्री के इशारे पर सोना तस्करी की।

जेल में बंद सोना तस्करी मामले में मुख्य आरोपित स्वप्ना सुरेश ने आरोप लगाया है कि डॉलर तस्करी मामले में मुख्यमंत्री विजयन, विधानसभा स्पीकर पी. श्रीरामकृष्णन और कुछ मंत्री के साथ ही संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के वाणिज्य दूतावास के कुछ कर्मचारी भी शामिल थे। मामले की जांच कर रहे सीमा शुल्क विभाग ने केरल हाई कोर्ट में शुक्रवार को दाखिल किए गए हलफनामे में यह दावा किया है।


मुख्यमंत्री और विधानसभा स्पीकर पर आरोप


सीमा शुल्क विभाग ने कहा है कि स्वप्ना सुरेश ने आपराधिक दंड प्रक्रिया संहिता यानी सीआरपीसी की धारा 108 और 164 के तहत दर्ज कराए बयान में उक्त आरोप लगाए हैं। सीमा शुल्क (निवारक) आयुक्त सुमीत कुमार की तरफ से दाखिल कराए गए हलफनामा में दावा किया गया है, 'यह बताया जाता है कि धारा 108 और धारा 164 के तहत दिए गए बयान में सुरेश ने मुख्यमंत्री, केरल विधानसभा के स्पीकर और राज्य कैबिनेट के कुछ सदस्यों के खिलाफ स्तब्धकारी राज उजागर किए हैं।


मुख्यमंत्री के इशारे पर हुई तस्‍करी



स्वप्ना सुरेश ने आरोप लगाया है कि यूएई के पूर्व महावाणिज्य दूत से मुख्यमंत्री पी. विजयन से बहुत करीबी संबंध हैं और अवैध लेनदेन हुई थी। हलफनामे में कहा गया है, 'उसने स्पष्टता के साथ कहा है कि वाणिज्य दूतावास की मदद से मुख्यमंत्री और स्पीकर के इशारे पर विदेशी मुद्रा की तस्करी हुई।


1.30 करोड़ रुपये की तस्‍करी का मामला


डॉलर मामला तिरुअनंतपुरम में यूएई के वाणिज्य दूतावास के पूर्व वित्त प्रमुख द्वारा ओमान के मस्कट में 1.90 लाख डॉलर (लगभग 1.30 करोड़ रुपये) की कथित तस्करी से जुड़ा है। सोना तस्करी मामले में आरोपित स्वप्ना सुरेश और सह-आरोपित सरित पीएस कथित तौर पर डॉलर तस्करी मामले में भी शामिल थे और सीमा शुल्क विभाग उन्हें पहले ही गिरफ्तार कर चुका है।


बड़े अधिकारियों से निकट संबंध का दावा


एजेंसी की तरफ से दायर हलफनामे में यह भी दावा किया गया है कि स्वप्ना ने अपने बयान में मुख्यमंत्री विजयन, उनके प्रधान सचिव और निजी सचिव के साथ निकट संबंध होने का भी दावा किया है। सीमा शुल्क विभाग ने यह हलफनामा अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (आर्थिक अपराध) अदालत के आदेश में कुछ टिप्पणियों को चुनौती देने वाली राज्य सरकार की याचिका के जवाब में दाखिल किया है।


स्वप्ना को सुरक्षा मुहैया कराने के आदेश


अदालत ने तिरुअनंतपुरम की महिला जेल में बंद स्वप्ना सुरेश को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश भी दिया था। सुरेश ने मजिस्ट्रेट के सामने दिए बयान में आरोप लगाया था कि जेल में उसे धमकाया जा रहा है और तस्करी मामले में शामिल बड़े लोगों का नाम देने पर गंभीर परिणाम की चेतावनी दी जा रही है।


आने वाले दिनों में केरल में चुनाव होने हैं। ऐसे में ये मामला तूल जरुर पकड़ेगा। केरल में कम्युनिस्ट सरकार है जिस पर आरोप है कि नोटबंदी के बाद केंद्र सरकार और अन्तर्राष्ट्रीय मदद पाने के लिए बरसात के मौसम में बांधों को नहीं खोला। जिससे केरल में भयानक बाढ़ त्रासदी हुई। केंद्र सरकार ने ऐसे नाजुक मौके पर राज्य के आम लोगों की भरपूर मदद की लेकिन कम्युनिस्ट सरकार की पोलपट्टी भी खुल गई।


टीम स्टेट टुडे



विज्ञापन
विज्ञापन