google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

माफिया मुख्तार के खास बिल्डर के एफआइ टावर पर चला बुलडोजर


लखनऊ, 25 दिसंबर 2023 : माफिया मुख्तार अंसारी के करीबी बिल्डर मोनीस और सिराज इकबाल के बर्लिंग्टन चौराहे के पास बने एफआइ टावर अपार्टमेंट के अवैध निर्माणों पर रविवार को एलडीए का बुलडोजर चला।

पार्किंग की जगह खाली कराने के साथ ही अवैध तरह से बनी सातवीं, आठवीं और नौंवी मंजिल को भी तोड़ा जाएगा। एलडीए उपाध्यक्ष डा. इंद्रमणि त्रिपाठी मौके पर मौजूद रहकर कार्रवाई करा रहे हैं।

मोनीस इकबाल ने स्वीकृत मानचित्र के विपरीत एफआइ टावर में अवैध निर्माण कराया था। मानचित्र की स्वीकृति 18 फरवरी 1997 को एलडीए से मिली थी। मोनीस ने जिस 23 हजार वर्ग मीटर की जमीन पर एफआइ टावर बनाया था, वह जमीन लखनऊ पब्लिशिंग हाउस के नाम से रजिस्टर्ड थी।

एलडीए ने छह तल की बिल्डिंग में 72 फ्लैट का नक्शा पास किया था। मोनीस ने स्वीकृत मानचित्र से अधिक आठ तल तक इमारत खड़ी कर दी थी। उसके ऊपर दो पेंट हाउस भी बनवा दिए थे। सातवें और आठवें अवैध तल पर 24 फ्लैट बनवा डाले।

अवैध निर्माण पर बिल्डर सिराज इकबाल, उसके भाई मोनीस इकबाल और सहयोगी माइकल के खिलाफ एलडीए के अवर अभियंता इम्तियाज अहमद ने 29 नवंबर को कैसरबाग कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद मोनीस इकबाल को कैसरबाग पुलिस ने जेल भेजा।

रविवार दोपहर एलडीए उपाध्यक्ष इंद्रमणि त्रिपाठी और एसीपी कैसरबाग प्रकाश अग्रवाल पुलिस बल और पीएसी के साथ पहुंचे। पहले एफआइ अस्पताल को सील किया। इमारत के अवैध रूप से निर्मित एरिया में रहने वाले लोगों से फ्लैट और दुकानें खाली कराने के लिए कहा गया। इसके बाद पार्किंग एरिया में बनी दुकानों को तोड़ा जाने लगा।

सातवें और आठवें तल पर रहने वाले लोगों ने फ्लैट खाली करना शुरू कर दिए। सातवें व आठवें तल पर बने 24 फ्लैटों और उसके ऊपर निर्मित दो पेंटहाउस खाली कराए गए। 24 में से पांच फ्लैट और एक पेंट हाउस पर कोर्ट से स्टे होने के कारण अभी उन्हें नहीं तोड़ा जा रहा है।

एक पेंट हाउस और दो फ्लैट मुख्तार के करीबियों के बताया जा रहा है कि इस इमारत में दो फ्लैट और पेंट हाउस मुख्तार अंसारी के करीबी के नाम हैं। वह जब पहले भी (जेल जाने से पहले) आता था तो यहां आराम करता था। लोगों से मीटिंग भी करता था। उस समय नामचीन लोगों का आना-जाना होता था। पेंट हाउस में पार्टियों का आयोजन भी होता था।

1 view0 comments

留言


bottom of page