google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

यूपी की राजधानी लखनऊ में हुआ ओलंपिक खिलाड़ियों का सबसे बड़ा सम्मान समारोह- नीरज चोपड़ा बोले बड़ी बात



उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में ओलंपिक खेलों में देश का नाम रौशन करने वाले खिलाड़ियों के लिए देश का सबसे बड़ा सम्मान समारोह आयोजित किया गया। भारत का परचम बुलंद करने वाले खिलाडिय़ों को उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार सम्मानित किया। भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी इकाना अंतराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, लखनऊ में कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा इन खिलाड़ियों का सम्मान किया।



सीएम योगी आदित्यनाथ इस मौके पर व्यक्तिगत खेलों में ओलिंपिक का पहला स्वर्ण पदक जीतने वाले जैवलिन थ्रोआर नीरज चोपड़ा को लेकर मंच पर पहुंचे। इस अवसर पर नीरज चोपड़ा ने कहा कि मैं यहां पर आकर थोड़ा नर्वस हो रहा हूं। उन्होंने कहा कि इतना नर्वस मैं टोक्यो ओलंपिक में भी नही था। यह आयोजन मुझे इंडिया के बड़े इवेंट की तरह लग रहा है। आज इतनी भीड़ देखकर अभिभूत हूं, इतना नर्वस तो ओलंपिक में भी नहीं था। सामने दर्शक दीर्घा में भविष्य के ओलंपियन बैठे हैं। युवाओं से कहना चाहता हूं कि खुद पर भरोसा करें और जमकर मेहनत करें। पुरस्कार हमेशा प्रोत्साहित करता है और अच्छा करने की प्रेरणा देता है। यूपी ने सभी का सम्मान करके एक मिसाल कायम की है। मैं लोगो से कहना चाहूंगा कि अपने ऊपर विश्वास रखे और इच्छा शक्ति बनाये रखे। मैं इस आयोजन के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ जी को धन्यवाद करता हूं। इस बड़े समारोह से देश व प्रदेश के बाकी खिलाड़ियों को काफी प्रोत्साहन मिलेगा।


पीवी सिंधू ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तरफ से जिस तरह हम खिलाड़ियों के लिए सम्मान समारोह आयोजित किया गया है। उसके लिए में सीएम योगी आदित्यनाथ का शुक्रिया अदा करती हूं। इस आयोजन से बाकी खिलाड़ियों को एक नई ऊर्जा मिलेगी।


भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह ने कहा कि मजबूत टीमों को हराने के बाद टीम का हौसला बुलन्द था लेकिन सेमीफाइनल मैच हारने के बाद टीम थोड़ा निराश थी। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का फोन आते ही ड्रेसिंग रूम का माहौल बदल गया। उन्होंने कहा कि आप दिल लगाकर खेले हैं, आप देश के हीरो हैं। पीएम से बात करके टीम का हौसला बढ़ा और हमने कांस्य पदक जीता।



भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष नरेंद्र ध्रुव बत्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार की ग्रास रुट लेबल योजना काफी कारगर रही। सरकार ने खेलों को लेकर काफी काम किया है। प्रोत्साहन से हौसला बढ़ता है, खिलाडिय़ों की ट्रेनिंग काफी पैसा खर्च किया गया। केंद्र और राज्य सरकारों ने काफी सहयोग किया। ओलिंपिक में पदकों की संख्या और बढ़ाएंगे। जितना प्यार और पुरस्कार मिला है, उससे खिलाड़ियों का हौसला बढ़ा है।


भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल ने कहा कि हाकी तीन मैच हारने के बाद भी हमने हिम्मत नहीं हारी, हम जानते थे कि हम दो मैच जीतकर क्वार्टर फाइनल में पहुंच सकते हैं। लड़कियां पूरे जोश से खेलीं। पदक विजेताओ के साथ ही भाग लेने वालों का सम्मान वाकई सराहनीय है। उत्तर प्रदेश सरकार ने एक मिसाल कायम की है।



प्रदेश के खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी ने कहा कि यह हर्ष और उल्लास का अवसर है कि देश का मस्तक ऊंचा करने वाले खिलाड़ियों का अभिनन्दन किया जा रहा है। प्रदेश सरकार खेलों के विकास को प्रतिबद्ध है। जो खिलाड़ी पदक जीतने से चुके हैं, उन विश्वास है कि अगले ओलिम्पिक में पदक जीते हैं। उत्तर प्रदेश पहला राज्य है जिसने ओलंपिक में भाग लेने वाले खिलाड़ियों को सम्मानित किया है।


मेजबानी के लिए विख्यात लखनऊ ने एक फिर बेमिसाल उदाहरण पेश किया। मौका था उन सितारों के स्वागत का जिन्होंने टोक्यो ओलंपिक में अपनी चमक बिखेर कर भारत का मस्तक ऊंचा किया । अटल बिहारी वाजपेई इकाना स्टेडियम आज उन सितारों के स्वागत के लिए बाहें फैलाए खड़ा था । दर्शक दीर्घा में प्रदेश से आए लगभग 5000 खिलाड़ी और इतने ही दर्शक तिरंगा लहराते हुए इस यशोगान में कोरस करते नजर आए। सबसे पहले ओलंपिक विजेता खिलाड़ियों ने मैदान में प्रवेश किया। स्टेडियम का दृश्य देखकर वह भी प्रफुल्लित दिखे। ढोल नगाड़े के बीच नृत्य करते कलाकार और तिरंगा लहराते दर्शको का शोर विजयघोष को ध्वनित करता दिखा।


टीम स्टेट टुडे



विज्ञापन

30 views0 comments
bottom of page