google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

सावधान भारतवर्ष! कोरोना रिटर्न्स



सावधान पाठकों! कोरोना वापस लौटा है। पहले से कहीं ज्यादा खतरा लेकर और रुप बदलकर। चीन की साजिश दुनिया पर फिर भारी पड़ी है। कोरोना के संक्रमण से जूझती दुनिया अभी पटरी पर लौटी भी नहीं कि वायरस की दहशत ने जनजीवन हिला दिया है।


कोरोना का खतरा ना सिर्फ बरकरार है बल्कि दक्षिण अफ्रीका में पाए गए कोरोना के नए वेरियन्ट का संक्रमण भारत पहुंच गया है।


बेंगलुरु के केंपगौड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर दक्षिण अफ्रीका के दो नागरिकों के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने पर हड़कंप मच गया।


बताया जा रहा है कि दोनों यात्रियों में डेल्‍टा वैरिएंट के लक्षण मिले है। बावजूद इसके ओमीक्रोन नाम के नए वैरियंट की पुष्टि होना अभी बाकी है। नमूनों की जिनोमिक सिक्‍वेंसिंग के नतीजे आने पर यह स्पष्ट होगा।

ओमीक्रोन नाम का नया कोरोना वैरिएंट बेहद घातक है। अमेरिका, अफ्रीका समेत कई देशों में यह कहर ढा रहा है। अमेरिका में संक्रमितों की संख्या फिर लाख के पार पहुंच गई है।


कर्नाटक के बेंगलुरु में कोरोना के नए खतरे की आहट के बाद देश के विभिन्न राज्यों की सरकारों ने विदेश से आने वाले यात्रियों को लेकर सख्‍त कदम उठा लिये हैं।



जानकारी के मुताबिक अत्यधिक जोखिम वाले 10 देशों से इस महीने अब तक भारत में 584 लोग आ चुके हैं। इनमें से दक्षिण अफ्रीका से 94 लोग भी शामिल हैं। सभी क्वारेंटीन हैं। फिर भी खतरा बड़ा और बढ़ा हुआ है।

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर पैदा हुई आशंकाओं के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को एक अहम बैठक की। इसमें पीएम मोदी ने अधिकारियों को ‘प्रोएक्टिव’ रहने की जरूरत बताई। साथ ही अधिकारियों से अंतरराष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंधों में ढील देने की योजना की समीक्षा करने के निर्देश भी दिए। प्रधानमंत्री ने लोगों को सतर्क रहने और मास्क पहनने समेत अन्य उपायों का पालन करने की भी सलाह दी।


कर्नाटक के धारवाड़ जिले में एसडीएम कालेज आफ मेडिकल साइंसेज में 116 और छात्रों को कोरोना से संक्रमित पाया गया है। एक दिन पहले 66 छात्र संक्रमित पाए गए थे। ये सभी छात्र कालेज परिसर में 17 नवंबर का आयोजित एक समारोह में शामिल हुए थे। हालांकि, इनमें बीमारी के गंभीर लक्षण नहीं है। सभी छात्रों का पूर्ण टीकाकरण हो चुका है।


कोरोना के नए वैरिएंट ओमीक्रोन मिलने से फैली अफरा-तफरी के चलते अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के शुरू होने पर संदेह है।


भारत में कोरोना की स्थिति


24 घंटे में नए मामले 8,318

कुल सक्रिय मामले 1,07,019

कुल मामले 3,45,63,749

24 घंटे में टीकाकरण 73.58 लाख

मौतें (24 घंटे में) 465

कुल मौतें 4,67,933

ठीक होने की दर 98.34 प्रतिशत

मृत्यु दर 1.35 प्रतिशत

पाजिटिविटी दर 0.86 प्रतिशत



कोविन पोर्टल के शाम छह बजे तक आंकड़ों के मुताबिक अब तक 121.76 करोड़ डोज लगाई गई हैं। इनमें 78.25 करोड़ पहली और 43.50 करोड़ दूसरी डोज शामिल हैं यानी 43.50 करोड़ लोगों को पूर्ण टीकाकरण हो गया है।


इसमें दोराय नहीं है कि केंद्र की मौजूदा मोदी सरकार ने जिस तरह चरणबद्ध तरीके से देश में टीकाकरण प्रक्रिया चलाई उसका असर दिख रहा है। परंतु एक सौ तीस करोड़ की आबादी वाले भारत में अभी भी कई लोगों को टीका लगना बाकी है।


सबसे खराब स्थिति मुस्लिम समाज की है। जहां तरह तरह की अफवाहों ने ना सिर्फ जगह बना रखी है बल्कि टीकाकरण ना कराने के चलते नए वैरियंट के खतरे के साथ साथ पुराने संक्रमण का खतरा बना हुआ है और बढ़ रहा है।


ऐसे में जरुरी है कि कोविड गाइडलाइंस का पालन जरुर करें। मास्क पहनें। सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें। सोशल डिस्टेंसिंग और साफ-सफाई का ख्याल रखें। आवश्यक होने पर ही निकलें और जब घर से निकले तो यह मान कर चलें कि सिर्फ आपकी ही जिम्मेदारी है कि खुद को कोरोना से बचाने का हर उपाय करना है।


टीम स्टेट टुडे



83 views0 comments