google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

पीलीभीत-मैलानी रेल सेक्शन सेतु का डीएम ने किया औचक निरीक्षण

Updated: Oct 19, 2022


पीलीभीत, 12 अक्टूबर 2022 : जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार ने निर्माणाधीन रेल उपरिगामी सेतु पीलीभीत टनकपुर रेल निकट ग्राम पिपरिया अगरू व पीलीभीत मैलानी रेल सेक्शन सेतु निकट ग्राम गायबोझ का औचक निरीक्षण किया गया।



निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्था उप्र राज्य सेतु निगम बरेली से रेल उपरिगामी सेतु पिपरिया की लम्बाई व लागत के सम्बन्ध में जानकारी ली। कार्यदायी संस्था द्वारा अवगत कराया गया कि सेतु की लम्बाई 620.12 मीटर है जिसकी लागत 2490.43 लाख है। निरीक्षण के दौरान सेतु की भौतिक प्रगति के अनुसार 80 प्रतिशत कार्य कराया जा चुका है। निरीक्षण के दौरान उन्होंने कार्यदायी संस्था को निर्देश दिये गये कि मिट्टी डलवाकर समतलीयकरण का कार्य कराया जाये, रेलिंग में जंग पाये जाने पर साफ सफाई कराकर रेलिंग को ठीक कराया जाये, निर्माणाधीन पुल में रि-बाल गैप में सीमेन्ट/मसाला भरने एवं अन्य मरम्मत कार्य कराने के निर्देश दिये गये। निरीक्षण के दौरान उन्होंने प्रयोग की जा रही सामाग्री व सरिया की गुणवत्ता परखी। जिलाधिकारी द्वारा कार्यों में फिनिशिंग लाने के निर्देश दिये गये।

इसके उपरान्त जिलाधिकारी द्वारा रेल उपरिगामी सेतु पीलीभीत मैलानी रेल सेक्शन का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान कार्यदायी संस्था द्वारा अवगत कराया गया कि सेतु की लम्बाई 607.04 मीटर है जिसकी कुल लागत रू. 2680.60 लाख है। कार्यदायी संस्था द्वारा अवगत कराया गया निर्माणाधीन सेतु का 87 प्रतिशत कार्य पूर्ण किया चुका है। निरीक्षण के दौरान रि-बाल भाग में फ्रश बैरियर के बीच गैप पाये जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुये गैप को सीमेन्ट से भरने के निर्देश दिये गये। कार्यदायी संस्था द्वारा अवगत कराया गया कि रेलवे पोर्शन में गर्डर बनाने का कार्य फर्म द्वारा प्रगति पर है। गर्डर जल्द बनवाकर लांचिग हेतु निर्देशित किया गया। जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्था को निर्देशित करते हुये कहा कि कार्यों में तेजी लाई जाये तथा निर्माणाधीन सेतुओं का निर्माण माह मार्च-2023 तक पूर्ण करना सुनिश्चित करें। इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। निरीक्षण के दौरान परियोजना प्रबन्धक व कार्यदायी संस्था के अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे।

रिपोर्टर - रमेश कुमार


78 views0 comments

Commentaires


bottom of page