google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

पीएम मोदी बोले- 21वीं सदी में भारत की ग्रोथ स्टोरी को मोमेंटम देगा यूपी


लखनऊ, 3 जून 2022 : उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अपने लगातार दूसरे कार्यकाल के पहले ही चरण में पांच लाख लोगों को रोजगार का अवसर देने की नींव रखी। पीएम नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को लखनऊ में यूपी इंवेस्टर्स समिट 3.0 का आगाज किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आज दिन में ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी 3.0 में 80,224 करोड़ की 1406 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। जिससे पांच लाख लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस अवसर पर उत्तर प्रदेश को देश की सबसे बड़ी पावर बताया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश इस समय भारत की प्रगति की सबसे बड़ी शक्ति है। इस सुपर पावर के दम पर देश आगे बढ़ रहा है। उत्तर प्रदेश में 15 से अधिक शहर की आबादी 15 लाख से ऊपर की है, जो कि बड़ी संभावना बना रहे हैं।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस अवसर पर कहा कि मैं आज थोड़ा लालची भी हो रहा हूं। मैं प्रधानमंत्री होने के साथ ही वाराणसी का सांसद भी हूं। इसी कारण आप सभी निवेशकों को वाराणसी भी आमंंत्रित कर रहा हूं। एक बार समय निकाल कर काशी जरूर आइए। काशी बहुत बदल गयी है। काशी का सांसद हूं, आग्रह है कि समय निकालकर मेरी काशी को देख आइए। पुरातन काशी इतनी नई नवेली हो सकती है यह यूपी सरकार के संकल्प से ही संभव है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया इतनी तेजी से आगे बढ़ रही है कि अब हम अपने फैसले को एक साल या पांच वर्ष तक सीमित नहीं रख सकते हैं। इसी कारण सबको अपनी भूमिका निभानी होगी। उन्होंने निवेशकों से कहा कि उत्तर प्रदेश की युवा शक्ति पर भरोसा करने के लिए आप सभी निवेशकों का धन्यवाद। यूपी के युवाओं की प्रतिभा, उनका संकल्प और समर्पण आपके सभी सपनों को पूरा करेगा।

सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- हमने इंवेस्टमेंट फ्रेंडली माहौल बनाया : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ ही राजनाथ सिंह, महेन्द्र नाथ पाण्डेय तथा सभी निवेशकों का स्वागत किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि प्रदेश ने अपने परंपरागत उद्यम को बढ़ाते हुए आज ओडीओपी जैसी योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन के फलस्वरूप निर्यात को 88,000 करोड़ रुपया से बढ़ाकर 1.56 लाख करोड़ रुपया सालाना करने में भी सफलता प्राप्त कर ली है। इस इंवेस्टर्स समिट जो 1,400 से अधिक निवेश की परियोजनाएं हैं, इनमें डाटा सेंटर, कृषि क्षेत्र, आइटी सेक्टर, इंफ्रास्ट्रक्चर, मैन्युफैक्चरिंग, हथकरघा, टेक्सटाइल, एमएसएमई आदि शामिल हैं। इससे पांच लाख प्रत्यक्ष एवं 20 लाख अप्रत्यक्ष रोजगार के अवसर प्रदेश को प्राप्त होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम लोगों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म मंत्र को अंगीकार किया है। मुझे प्रसन्नता है कि प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में विगत पांच वर्ष में उत्तर प्रदेश छठवें नंबर वाली अर्थव्यवस्था से दूसरे नंबर वाली अर्थव्यवस्था की ओर तेजी से अग्रसर है। प्रधानमंत्री मोदी के मार्गदर्शन में विगत आठ वर्षों के दौरान भारत ने जिन ऊंचाइयों को प्राप्त किया, उसकी सर्वत्र सराहना हुई है। पीएम मोदी को एक यशस्वी नेतृत्वकर्ता के रूप में सफलतापूर्वक इन आठ वर्षों के निर्वहन के लिए मैं बधाई देता हूं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारे प्रदेश का बुंदेलखंड क्षेत्र जो विकास व जल के लिए तरसता था, आज वहां बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे व डिफेन्स कॉरिडोर के 02 प्रमुख नोड झांसी एवं चित्रकूट में बन रहे हैं। हम अब यहां पर हर घर नल योजना से प्रत्येक घर तक शुद्ध पेयजल की आपूर्ति का कार्यक्रम आगे बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश ने 2017 में अपनी औद्योगिक निवेश और रोजगार प्रोत्साहन नीति लागू की थी। इसके साथ ही हम लोगों ने 20 इन्वेस्टमेंट फ्रेंडली सेक्टोरियल पॉलिसी को उद्यमिता, इनोवेशन और मेक इन इंडिया की तर्ज पर आगे बढ़ाने का कार्य किया है। अब प्रदेश में श्रम, भूमि आवंटन, संपत्ति रजिस्ट्रेशन, पर्यावरणीय अनुमोदन, कर भुगतान आदि क्षेत्रों में रिकॉर्ड 500 से अधिक सुधार लागू किए गए। निवेश मित्र के रूप में 29 विभागों की 349 सेवाएं आज इंवेस्टर्स को प्रदेश में ऑनलाइन प्राप्त हो सकती हैं। इसके साथ मेगा एवं उससे उच्च श्रेणी के उद्योगों को आवेदन करने के 15 दिन में भूमि प्रदान करने का प्रावधान इस व्यवस्था के साथ लागू किया गया है। हमारी सरकार ने उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था को बेहतर करने के साथ इंवेस्टमेंटफ्रेंडली माहौल बनाया है। अब ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में उत्तर प्रदेश दूसरे स्थान पर आ गया है। लीड्स रैंकिंग-2021 में उत्तर प्रदेश को 07 स्थानों की उल्लेखनीय बढ़ोतरी प्राप्त हुई है।

राजनाथ सिंह बोले- पीएम मोदी के विजन को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगे बढ़ाया: लखनऊ के सांसद और देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन किया। उन्होंने कहा कि यह मेरा संसद क्षेत्र है इसीलिए शायद मुझे कुछ कहने के लिए बुलाया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश को एक नई ऊंचाई और दिशा देने के लिए कार्य कर रहे हैं। उनके कार्यों के प्रति लगन कर्मठता व ईमानदारी की वजह से ही इज ऑफ डूइंग मामले में उत्तर प्रदेश दूसरे नंबर पर पहुंच गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र की वजह से भारत दुनिया 62 नंबर पर दुनिया में पहुंच चुका है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्य से अंतरराष्ट्रीय जगत में भारत की प्रतिष्ठा बढ़ी है इसका पूरा श्रेय उनको जाता है। आप सभी लोगों प्रदेश में जिस प्रकार इन्वेस्ट करने का फैसला लिया है, वह काफी बड़ा कदम है। अब लोगों को जितना भी सहयोग मिल सकता है वह मिलेगी। यह जो भी कुछ हो रहा है उसके पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोच है। उनका मुख्यमंत्रियों को समय देना उनको लक्ष्य देकर सहयोग देना है आदत में शुमार है। इसी वजह से उत्तर प्रदेश आगे बढ़ा है।

उत्तर प्रदेश तेजी के साथ आगे बढ़ रहा है। आज ईज आफ डूईंग में प्रदेश दूसरे स्थान पर आ गया है। पूरी दुनिया आज कान खोलकर भारत को सुन रही है। प्रधानमंत्री ने दुनियाभर में देश का सम्मान बढ़ाया है। यूपी अब बड़ी उड़ान भरने की ओर है। पीएम मोदी का विजन लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ आगे बढ़ रहे हैं। मैं इस क्षेत्र का सांसद हूं इस आधार पर मैं प्रधानमंत्री जी का स्वागत करता हूं। मुख्यमंत्री योगी जी के लिए कहना चाहूंगा कि निर्णय लेने की क्षमता की वजह से आज उत्तर प्रदेश ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में दूसरे नम्बर का राज्य बन गया है। उत्तरप्रदेश रिसोर्स के मामले में अभूतपूर्व है,आप सभी निवेशकों से कहना चाहूंगा कि मुख्यमंत्री जी आप सबके लिए हर क्षण तैयार हैं। उत्तरप्रदेश में जो हो रहा है उसका श्रेय मुख्यमंत्री जी को जाता है।

उत्तर प्रदेश में बड़े काम करने को लेकर उत्साहित : उद्योगपति मैथ्यू एरिस ने कहा कि हम उत्तर प्रदेश में काम कर के बेहद उत्साहित हैं। हम तेजी से अपने प्रोजेक्ट में निवेश बढ़ा रहे हैं। हम गर्व के साथ भारत मे काम करने की अनुशंषा करते हैं। हम उत्तर प्रदेश में बड़े कार्यों को लेकर सुनिश्चित हैं।

विकास के लक्ष्य को लेकर इनका नजरिया कभी भी नहीं बदलता: इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के सेरेमनी हाल में प्रख्यात उद्योगपति गौतम अदाणी ने इस अवसर पर कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का लक्ष्य निर्धारित है। इनके विकास के लक्ष्य को लेकर इनका नजरिया कभी भी नहीं बदलता। उन्होंने कहा कि अदाणी ग्रुप उत्तर प्रदेश में करीब 70 हजार करोड़ रुपए के निवेश से 30 हजार लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा कर रही है। उद्योगपति गौतम अदाणी ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश प्रगति का प्रतीक बन रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक नया भारत निर्मित कर रहे हैं। आप एक आर्किटेक्ट के रूप में यह कर रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुड़ गवर्नेंस को कर के दिखाया है। आप मे निर्णय लेने की आश्चर्यजनक और सराहनीय क्षमता है।

गौतम अदाणी ने कहा कि

मैं सोच भी बदलता हूँ

नजरिया भी बदलता हूँ

बदलता नहीं कुछ तो वह लक्ष्य है

उस पाने का नजरिया नहीं बदलता हूँ।

एक युग परिवर्तन जैसा रहा : आदित्य बिड़ला ग्रुप के प्रमुख कुमार मंगलम बिड़ला ने कहा कि नरेन्द्र मोदी सरकार ने सफलतापूर्वक आठ वर्ष पूरे किए हैं। यह एक युग परिवर्तन जैसा रहा, दुनिया ने देखा। आज पूरी दुनिया आज भारत की क्षमता को मान रही है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के सोनभद्र के रेनुकूट में हिंडाल्को आज दुनिया की एल्युमिनियम निर्माता में शीर्ष है। नई पहल योजना से हम हेल्थ रिफॉर्म करने में लगे हैं। उत्तर प्रदेश आज भारत मे एक बेहतरीन निवेश स्थल बन चुका है। हम शिक्षा के क्षेत्र में भी स्कूलों की श्रृंखला चला रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब हौसला बना लिया ऊंची उड़ान का, फिर देखना फिजूल है कद आसमान का।

हीरानंदानी ग्रुप के मुखिया निरंजन हीरानंदानी ने कहा कि यूपी में निवेश, उसके अमल की स्पीड का उनका अनुभव गजब का है। पूरे दावा के साथ कह सकता हूँ कि यूपी सरकार जो वादा करती है वह पूरा करती है।

इससे पहले इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के सेरेमनी हाल में औद्योगिक विकास मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ सभी का स्वागत किया। अपने स्वागत भाषण में नंदी ने कहा कि आपका स्वागत और अभिनंदन है। प्रधानमंत्री जी आपने बिना रुके बिना थके 130 करोड़ भारतीयों के लिए काम किया। देश की तकदीर और तस्वीर आप ने दोनों बदली है। उन्होंने कहा कि अब उत्तर प्रदेश की पहचान यूपी अमेठी और सैफई से नहीं बल्कि अयोध्या, काशी और मथुरा से होती है। यूपी ने आध्यात्मिक धरोहर को सजाने के साथ औधोगिक और विनिर्माण के क्षेत्र में बड़ी छलांग लगाई है। आज ईज आफ बिजनेस डूईंग में हम 14वें से 2सरे स्थान यक पहुंच गए हैं। हम पीएम मोदी और योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में प्रदेश को शीर्ष ऊंचाई तक ले जाएंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सेरेमनी हाल में पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को कांच का राम दरबार भेंट कर स्वागत किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तीसरे ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में 80,224 करोड़ रुपये की 1406 परियोजनाओं का वर्चुअल शिलान्यास किया। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, भारी उद्योग मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय के अलावा देश के विख्यात उद्योगपति गौतम अदाणी, कुमार मंगलम बिड़ला, निरंजन हीरानंदानी तथा फिल्म निर्माता बोनी कपूर सहित कई दिग्गज शामिल थे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वायु सेना के विशेष विमान से लखनऊ के चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंचे। एयरपोर्ट पर राज्यपाल आनंदीबेन, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व ब्रजेश पाठक ने उनका स्वागत किया।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आगमन के साथ ही विभिन्न स्टाल का निरीक्षण किया। इनमें 75 स्टाल उत्तर प्रदेश के जिलों के हैं, जिनमें एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) का प्रदर्शन किया जा रहा है। इसके साथ ही अन्य विभागों के उत्पादों को भी एक्जिबीशन हाल में प्रदर्शित किया गया।

इस बड़े आयोजन से योगी आदित्यनाथ सरकार का लक्ष्य अगले पांच वर्षों में दस लाख करोड़ रुपये का निवेश प्रदेश में लाने का है। समारोह में शामिल होने के लिए देश-दुनिया के लगभग 170 प्रमुख उद्योगपति और औद्योगिक घरानों के प्रतिनिधि गुरुवार शाम तक लखनऊ पहुंच चुके थे। इनमें अदाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अदाणी, आदित्य बिड़ला ग्रुप के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला, हीरानंदानी ग्रुप के चेयरमैन निरंजन हीरानंदानी, एयर लिक्विड लिमिटेड के वाइस प्रेसीडेंट मैथ्यू आइरिस, रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर लिमिटेड के डायरेक्टर अनंत अंबानी जैसे दिग्गज शामिल हैं।

इन्वेस्टर्स समिट के माध्यम से उत्तर प्रदेश में हर क्षेत्र में निवेश आया है। जीबीसी-3 में निजी विश्वविद्यालय से लेकर डेयरी प्लांट तक की आधारशिला रखी जाएगी। क्षेत्रवार सर्वाधिक 805 सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) श्रेणी के प्रोजेक्ट हैं। दूसरे नंबर पर कृषि और उससे जुड़े उद्योगों के 275, तीसरे स्थान पर फार्मास्यूटिकल्स और मेडिकल सप्लाई के 65 प्रोजेक्ट धरातल पर उतर रहे हैं। शिक्षा से जुड़ी 1,183 करोड़ की छह परियोजनाएं हैं। ऐसे ही डेयरी के 489 करोड़ के सात, पशुपालन के 224 करोड़ के छह प्रोजेक्ट लग रहे हैं। इसमें 500 करोड़ रुपये से अधिक के 29 प्रोजेक्ट का आगाज होगा। जिसमें कुल निवेश 40,106 रुपये का है। 200 से 500 करोड़ रुपये तक के 52 प्रोजेक्ट लगाने की नींव पड़ेगी। जिसमें 15,614 करोड़ रुपये का कुल निवेश हो रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पहले कार्यकाल में 2018 में हुए इन्वेस्टर्स समिट में चार लाख 68 हजार करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव आए थे। इन औद्योगिक परियोजनाओं के दो भूमिपूजन समारोह (ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी) हो चुके।

1 view0 comments

Comments


bottom of page