google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

मन की बात के 101वें एपिसोड में बोले पीएम मोदी- अगले 25 साल देश के लिए महत्वपूर्ण


नई दिल्ली, 28 मई 2023 : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मन की बात कार्यक्रम के 101वें एपिसोड को संबोधित किया। पीएम मोदी ने 101वें एपिसोड को संबोधित करते हुए कहा कि मन की बात से कई लोग एक मंच पर आए। उन्होंने कहा कि जनभागीदारी सबसे बड़ी ताकत है।

'दुनिया भर में लोगों ने सुना मन की बात का 100वां एपिसोड'

पीएम ने कहा-जब 'मन की बात' का प्रसारण हुआ, तो उस समय दुनिया के अलग-अलग देशों में, अलग-अलग समय में, कहीं शाम हो रही थी तो कहीं देर रात थी। इसके बावजूद, बड़ी संख्या में लोगों ने 100वें एपिसोड को सुनने के लिए समय निकाला।

पीएम मोदी ने की वीर सावरकर की तारीफ

मन की बात में पीएम मोदी ने वीर सावरकर का जिक्र किया। पीएम मोदी ने कहा- वीर सावरकर का व्यक्तित्व ताकत और उदारता का था। उनका निडर और स्वाभिमानी स्वभाव गुलामी की मानसिकता को बर्दाश्त नहीं कर सका।

जनभागीदारी ही इस कार्यक्रम की सबसे बड़ी ताकत- पीएम

उन्होंने आगे कहा कि 'मन की बात' का ये एपिसोड सेकेंड सेंचुरी का प्रारंभ है। पिछले महीने हम सभी ने इसकी स्पेशल सेंचुरी को सेलिब्रेट किया है। आपकी भागीदारी ही इस कार्यक्रम की सबसे बड़ी ताकत है।

मन की बात में बोले पीएम मोदी

मन की बात को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि बीते दिनों हमने मन की बात में काशी तमिल संगमम की बात की। सौराष्ट्र तमिल संगमम की बात की। कुछ समय पहले ही वाराणसी में काशी तेलुगू संगमम भी हुआ। एक भारत श्रेष्ठ भावना को ताकत देने वाला ऐसे ही एक और अनूठा प्रयास देश में हुआ है। ये प्रयास है युवा संगम का।

मन की बात के 101वें एपिसोड में पीएम मोदी ने कहा- युवा संगम के पहले दौर में करीब 1200 युवाओं ने देश के 22 राज्यों का भ्रमण किया। हर कोई जो इसका हिस्सा रहा है, ऐसी यादें लेकर लौट रहा है, जो जीवन भर उनके दिलों में बसी रहेंगी।

हिरोशिमा के शांति स्मारक संग्रहालय को PM ने किया याद

पीएम ने कहा कि कुछ दिन पहले ही मैं जापान में हिरोशिमा में था। वहां मुझे Hiroshima Peace Memorial Museum में जाने का अवसर मिला। ये एक भावुक कर देने वाला अनुभव था। जब हम इतिहास की यादों को संजोकर रखते हैं तो वो आने वाली पीढ़ियों की बहुत मदद करता है।

उन्होंने कहा- कुछ दिन पहले ही भारत में International Museum Expo का भी आयोजन किया था। इसमें दुनिया के 1200 से अधिक Museums की विशेषताओं को दर्शाया गया। हमारे यहां भारत में अलग-अलग प्रकार के ऐसे कई Museums हैं, जो हमारे अतीत से जुड़े अनेक पहलुओं को प्रदर्शित करते हैं।

गुरुग्राम के Museo Camera संग्रहालय का किया जिक्र

पीएम मोदी ने आगे कहा कि गुरुग्राम में एक अनोखा संग्रहालय है, Museo Camera, इसमें 1860 के बाद के 8 हजार से ज्यादा कैमरों का कलेक्शन मौजूद है। तमिलनाडु के Museum of Possibilities को हमारे दिव्यांगजनों को ध्यान में रखकर डिजाइन किया गया है। मुंबई का छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संग्रहालय एक ऐसा म्यूजियम है, जिसमें 70 हजार से भी अधिक चीजें संरक्षित की गई हैं।

'भारत में बनें नए-नए तरह के म्यूजियम और मेमोरियल'

पीएम ने कहा- बीते वर्षों में भी हमने भारत में नए-नए तरह के म्यूजियम और मेमोरियल बनते देखे हैं। स्वाधीनता संग्राम में आदिवासी भाई-बहनों के योगदान को समर्पित 10 नए म्यूजियम बनाए जा रहे हैं। 2010 में स्थापित Indian Memory Project एक तरह का Online Museum है। ये जो दुनियाभर से भेजी गई तस्वीरों और कहानियों के माध्यम से भारत के गौरवशाली इतिहास की कड़ियों को जोड़ने में जुटा है। विभाजन की विभिषिका से जुड़ी स्मृतियों को भी सामने लाने का प्रयास किया गया है।

देश में हो रहा 75 अमृत सरोवरों का निर्माण- पीएम मोदी

मन की बात के 101वें एपिसोड में पीएम मोदी ने कहा कि हम सबने एक कहावत कई बार सुनी होगी, बार-बार सुनी होगी 'बिन पानी सब सून'। बिना पानी जीवन पर संकट तो रहता ही है, व्यक्ति और देश का विकास भी ठप्प पड़ जाता है। भविष्य की इसी चुनौती को देखते हुए आज देश के हर जिले में 75 अमृत सरोवरों का निर्माण किया जा रहा है।

30 अप्रैल को प्रसारित हुआ था 100वां एपिसोड

बता दें कि 30 अप्रैल को मन की बात के 100वें एपिसोड का प्रसारण हुआ था। पीएम मोदी ने मन की बात के 100वें एपिसोड को संबोधित किया था। इस अवसर पर उन्होंने देशवासियों को बधाई देते हुए कहा था कि बधाई के पात्र तो ‘मन की बात’ के श्रोता हैं, हमारे देशवासी हैं।

2 views0 comments

Comentários


bottom of page