google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

लेह-लद्दाख पहुंच कर पीएम ने निकाल ली दुश्मन की आंख



सामने वाले की आंखों से काजल नहीं दुश्मन की आंख निकालना क्या होता है ये भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ इस अंदाज में किया कि दुश्मन भौचक रह गया। पीएम मोदी शुक्रवार सुबह लेह पहुंच गए। वही लेह जहां इस समय चीन के साथ सीमा विवाद चल रहा है और हालात सबसे नाजुक मोड़ पर हैं। पीएम 11 हजार फुट की उंचाई पर नीमू बेस पहुंचे जहां उन्‍होंने सेना और आईटीबीपी के जवानों के साथ मुलाकात की और उनका हौसला बढ़ाया। प्रधानमंत्री मोदी के साथ चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और सेना प्रमुख नरवणे भी मौजूद थे।

प्रधानमंत्री मोदी लद्दाख भी गए जहां उन्होने गलवान घाटी में चीन के सैनिकों के साथ लड़ाई में घायल हुए सैनिकों से मुलाकात की। घायल जवानों की हौसला अफजाई करते हुए पीएम ने कहा कि उन्होने दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब दिया। पूरा भारत, देश का हर व्यक्ति सैनिकों पर गौरव महसूस कर रहा है। आपका यह पराकम और शौर्य और लंबे समय तक प्रेरणा देता रहेगा।


जवानों से बात करते हुए पीएम ने कहा - मैं आपको प्रणाम करने आया हूं। आपको छूकर, देखकर एक ऊर्जा, एक प्रेरणा लेकर जा रहा हूं। हमारा भारत आत्‍मनिर्भर बने, हम दुनिया की किसी भी ताकत के सामने न झुके हैं न कभी झुकेंगे, मैं यह बात आप जैसे वीर पराक्रमी साथियों के कारण कह पा रहा हूं। आपको प्रणाम, आपको जन्‍म देने वाली माता को शतशत नमन, जिन्‍होंने आप जैसे वीर योद्धाओं को जन्‍म कर, देश पर न्‍यौछावर कर दिया। उन माता को जितना नमन करें उतना कम है। पीएम मोदी ने जवानों के शीघ्र स्‍वस्‍थ होने की कामना करते हुए कहा कि आप जल्‍द ठीक हो जाएं, स्‍वास्‍थ्‍य लाभ हो और फिर हम सब साथ मिलकर चलें।

आपको याद दिला दें कि 15 जून को पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीन की सेना के साथ झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे। जबकि कई घायल हुए थे।

पीएम मोदी के दौरे से चीन को कड़ा संदेश गया है। गलवान घाटी विवादित क्षेत्र अक्साई चिन में है। गलवान घाटी लद्दाख और अक्साई चिन के बीच भारत-चीन सीमा के नज़दीक स्थित है। इसी इलाके में ही वास्तविक नियंत्रण रेखा अक्साई चिन को भारत से अलग करती है। अक्साई चिन पर भारत और चीन दोनों अपना दावा करते रहे हैं। ये घाटी चीन के दक्षिणी शिनजियांग और भारत के लद्दाख तक फैली है। दरअसल, 1962 के बाद चीन ने इस इलाके पर अवैध रूप से कब्जा किया था, जिसपर विवाद होता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लद्दाख में कहा कि ‘विस्तारवाद’ का युग खत्म हो चुका है

यह युग विकासवाद का है।

विस्तारवाद की नीति ने विश्व शांति के लिए खतरा पैदा किया है।

पूरे विश्व ने इस बार फिर विस्तारवाद के खिलाफ मन बना लिया है।

विकासवाद के लिए अवसर है और विकासवाद भविष्य का आधार भी है।

विस्तारवाद की जिद किसी पर सवार हो जाती है तो उसने हमेशा विश्व शांति के सामने खतरा पैदा किया है और यह न भूलें इतिहास गवाह है।

ऐसी ताकतें मिट गई हैं या मुड़ने को मजबूर हो गई है।

इंसानियत का दुश्‍मन है विस्‍तारवाद

शांति के लिए खतरा हैं ऐसी ताकतें

न संभलेंगे तो मिट जाएंगे

अब नहीं चलेगी दादागीरी

चीन के खिलाफ एकजुट हो रही दुनिया

बांसुरीवाले कृष्ण हमारे आराध्‍य, सुदर्शन चक्रधारी कृष्ण भी

वीर ही करते हैं अपनी मातृभूमि की रक्षा

पीएम ने जवानों से कहा

- आपका साहस उस ऊंचाई से भी ऊंचा है, जहां, आप तैनात हैं।

- आपका निश्चय, उस घाटी से भी सख्त है, जिसको आप रोज अपने कदमों से नापते हैं।

- आपकी भुजाएं, उन चट्टानों जैसी मजबूत हैं, जो आपके इर्द-गिर्द हैं।

- आपकी इच्छा शक्ति आस पास के पर्वतों की तरह अटल हैं।

- भारत के दुश्मनों ने आपकी फायर भी देखी है और आपकी फ्यूरी भी।


टीम स्टेट टुडे



27 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0