google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

यूपी में लोकसभा चुनाव को धार देंगे RSS प्रमुख


लखनऊ, 22 सितंबर 2023 : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत के लखनऊ आगमन को भले ही उनके वार्षिक प्रवास का हिस्सा बताया जा रहा हो लेकिन उनका आना लोकसभा चुनाव के लिए उर्वर भूमि तैयार करने में जुटी भाजपा की तैयारियों को वैचारिक खाद-पानी देगा।

शुक्रवार को अवध प्रांत के चार दिवसीय प्रवास पर आ रहे संघ प्रमुख निरालानगर स्थित सरस्वती कुंज में ठहरेंगे और संघ के दायित्वधारकों के साथ विभिन्न बैठकें करेंगे। माना जा रहा है कि इन बैठकों के जरिये सरकार के कामकाज का फीडबैक लेने के साथ संघ की कोशिश उप्र की राजनीतिक नब्ज टटोलने की भी होगी।

तीसरी बार केंद्र में सत्तारूढ़ होने के लिए 80 लोकसभा सीटों वाला उप्र भाजपा के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। अपने प्रवास के दौरान भागवत अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा के वैचारिक मार्गदर्शन का मार्ग प्रशस्त करने के साथ ही भाजपा सरकार व संगठन और संघ पदाधिकारियों के बीच बेहतर समन्वय की बुनियाद भी रखेंगे। सरसंघचालक के आगमन के दृष्टिगत संघ के पदाधिकारियों के साथ बुधवार को हुई संघ और भाजपा की समन्वय बैठक में इसकी पृष्ठभूमि तैयार कर ली गई है।

संघ प्रमुख का अवध प्रांत आगमन तब हो रहा है जब अयोध्या में अगले वर्ष जनवरी में प्रस्तावित श्रीराम जन्मभूमि मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा की तैयारियों की सुनगुन तेज हो गई है। बहुसंख्यक समुदाय से जुड़े इस भावनात्मक मुद्दे की राजनीतिक संवेदनशीलता का भान संघ को भली भांति है। प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद ही लोकसभा चुनाव होंगे। ऐसे में संघ की योजना माहौल को राममय बनाने की है जिसका स्वाभाविक लाभ भाजपा को मिलेगा। इसमें भाजपा व उसके सहयोगी संगठनों और विश्व हिंदू परिषद की सक्रिय भूमिका होगी।

संघ वर्ष 2025 में अपना शताब्दी वर्ष मनाने की तैयारियों में जुटा है। शताब्दी वर्ष के परिप्रेक्ष्य में संघ प्रदेश में अपनी सांगठनिक गतिविधियों को विस्तार दे रहा है। सांगठनिक विस्तार की दृष्टि से संघ में महिलाओं का प्रतिनिधित्व बढ़ाने पर विचार हो रहा है। महिलाओं को लोकसभा और विधानसभाओं में 33 प्रतिशत आरक्षण देने के लिए मोदी सरकार की ओर से संसद के दोनों सदनों में पारित कराये गए विधेयक की सर्वत्र हो रही गूंज के बीच संघ के कार्यकलापों में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने का यह प्रयोग आधी आबादी के बीच कमल की स्वीकार्यता बढ़ाने में सहायक होगा।

दलितों और आदिवासियों के बीच पैठ बनाकर उनको समाज की मुख्य धारा में लाने के लिए संघ अरसे से प्रयासरत रहा है। इसी उद्देश्य से संघ का समरसता भोज व भजन संध्या के आयोजन और नशामुक्ति की मुहिम पर जोर है। किसानों और छोटे व्यापारियों के बीच भी संघ अपनी उपस्थिति बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। अंत्योदय से प्रेरित मोदी सरकार की गरीब कल्याण की योजनाएं भी इन्हीं वर्गों पर केंद्रित हैं।

आज आएंगे संघ प्रमुख, 26 को वापस जाएंगे

भागवत शुक्रवार सुबह 10.40 बजे लखनऊ एयरपोर्ट पर उतरेंगे और 11.30 बजे निरालानगर स्थित सरस्वती कुंज पहुंचेंगे। लखनऊ में चार दिवसीय प्रवास के बाद वह 26 सितंबर को सुबह लखनऊ हवाई अड्डे से इंदौर के लिए रवाना होंगे। संघ का प्रयास होगा कि उपेक्षितों और वंचितों के उत्थान के उसके प्रयासों और सरकार के गरीब कल्याण के एजेंडे की समन्वित तस्वीर प्रस्तुत कर भाजपा की राजनीतिक राह को सुगम बनाया जाए।


0 views0 comments

Comentarios


bottom of page