google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

आरक्षित सीटों पर सतीश चंद्र मिश्रा बसपा कार्यकर्ताओं को दे रहे हैं जीत का मंत्र



आरक्षित विधान सभा सीट मंझनपुर (कौशाम्बी) , खागा (फतेहपुर) और चैल विधानसभा की पर माननीय श्री सतीश चंद्र मिश्र जी के नेतृत्व में एक दिवसीय कार्यकर्त्ता सम्मलेन का कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में श्री मिश्र जी से बसपा से विधानसभा प्रत्याशियों के लिए जनता से वोट देने की अपील करते हुए जनता को सम्बोधित किया।



प्रदेश की आरक्षित सीटों पर बीएसपी की जीत सुनिश्चित करने के लिए पार्टी महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने कौशांबी की मंझनपुर और फतेहपुर खागा की चैल विधानसभा सीट पर कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित किया।

पार्टी महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने बसपा के कार्यकर्ताओं को बताया कि कौशाम्बी (मंझनपुर) विधानसभा बसपा प्रत्याशी नीतू कनौजिया और फतेहपुर (खागा) विधानसभा से बसपा प्रत्याशी दशरत लाल पासी को पार्टी सुप्रीमो मायावती का आशीर्वाद मिला है। साथ ही चायल विधानसभा सीट से बसपा प्रत्याशी अतुल द्विवेदी के लिए भी वोट अपील की ।


सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि भाजपा सरकार के सनकी रवैये के कारण 14 महीनों तक किसान आंदोलन चलता रहा। और इस आंदोलन में 700 से ज्यादा किसान शहीद हो गए।


भाजपा वाले किसानों को आतंकवादी,उग्रवादी,बलात्कारी,अपराधी सब बोलते हैं। इनको ये नहीं मालूम की किसान हमारी भूख मिटाने के लिए सिर्फ आनाज ही नहीं उगता अपने बच्चों को बॉर्डर पर भी लड़ने के लिए भेजता है।


भाजपा सरकार ने तो किसानों के पीट पर छुरा भोकने का काम किया है। चुनाव के लिए अपने पूंजीपति दोस्तों से चंदा लेकर किसानों की जमीने उनको बेच दी गई।



ये तीन काले कृषि कानून सिर्फ यूपी चुनाव के लिए वापस लिया गया ,चुनाव ख़त्म होते ही फिर से ये कानून वापस लेते आएंगे।


एमएसपी (MSP) पर कोई कानून नहीं ला रही सरकार क्योंकि अगर MSP पर कानून बन गया तो किसानों को कैसे लूट पायेगी ये सरकार। उनके उत्पादनों का कम रेट लगाकर किसानों के साथ ठगी नहीं कर पायेगी।

भाजपा सरकार ने 700 से अधिक किसानों की बलि चढ़ाई है। उनके परिवार को न मुआवजा मिला न ही कोई नौकरी। उनके परिवार उजड़ गए भाजपा सरकार के वजह से और ये उनके दुःख और आंसुओं पर राजनैतिक रोटियां सेकने लगे।


महिलाओं को भी धोखा देने का काम भाजपा सरकार ने किया है। सुरक्षा देने के नाम पर महिलाओं का वोट ले लिया लेकिनआज आप हालात देख ही रहे हैं कि सबसे ज्यादा महिलाओं का उत्पीड़न उत्तर प्रदेश में किया जा रहा है।


NRCB की रिपोर्ट कहती है कि हर दो घंटे में रेप हो रहे हैं।


हाथरस में दलित की बेटी के साथ जिस तरीके से प्रशासन और शासन ने मिलकर बर्बरता की वह कोई भूल नहीं सकता हाथरस मामले ने उत्तर प्रदेश का सर शर्म से झुक आने का काम किया है


सपा का शासनकाल तो आपको याद ही होगा किस तरह का गुंडाराज,माफिया राज था। जब तक व्यापारी फिरौती ना दें तब तक वह घर पर सुरक्षित नहीं रह पाते थे।


सपा सरकार में जिस तरह की अराजकता फैली हुई थी वहीं भाजपा सरकार में भी फैली हुई है.


समाजवादी पार्टी के पहले मुखिया जो पूर्व मुख्यमंत्री भी रहे हैं मंच से बलात्कार जैसे गंभीर मुद्दे पर व्यंग करते हैं की लड़कों से गलती हो जाती है। वो ऐसा इसलिए कहते हैं क्योंकि उनके खास मंत्री भी महिलाओं का उत्पीड़न करने में पीछे नहीं रहते थे।


आजकल,दंगे,फसाद,ध्रुवीकरण जैसी बातें करके भाजपा सरकार सत्ता हासिल करना चाहती है। और दंगे-फ़साद होते नहीं सत्ताधारी लोग अपने फायदे के लिए करवाते हैं। सपा और भाजपा में सबसे अधिक दंगे,फसाद,आगजनी हुए। लेकिन बहन जी के कार्यकाल में एक भी दंगा नहीं हुआ।

जबसे देश आजाद हुआ है तबसे सबसे ज्यादा बेरोजगारी की समस्या हुई है तो वो भाजपा सरकार के आने के बाद हुई है।



भाजपा सरकार नहीं चाहती की की इस देश का युवा नौकरी करे पढ़े-लिखे एक सभ्य समाज में रहे । क्योंकि अगर सब लोग पढ़ लिख लेंगे तो ये भाजपा वाले किसको गुमराह करेंगे,धोखा देंगे और फिर वोट लेंगे।

भाजपा सरकार सबसे बड़ी आरक्षण विरोधी पार्टी है। ये बड़े शातिराना तरीके से आरक्षण खत्म कर रहे है ,सरकारी संस्थानों को बेचकर,सरकारी नौकरियां खत्म करके। क्योंकि इनको पता है की प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण का कोई भी नियम कानून नहीं है।


वित्तविहीन शिक्षकों का वोट लेकर उनके साथ धोखा किया और उन्हें एक भी पैसा नहीं दिया गया।


यह धर्म की राजनीति सिर्फ वोटों के लिए करते हैं। राम मंदिर इन के लिए सिर्फ और सिर्फ वोट बैंक का मुद्दा है।


आज दलित,मुस्लिम,ब्राह्मण,ओबीसी,बैकवर्ड वर्ग कोई भी सुरक्षित नहीं है।


दलित परिवार के 4 लोगों की हत्या हो गई ,आजमगढ़ में दलित दंपत्ति की हत्या हो गई तब सरकार ने दलित समाज के कातिलों के घरों पर बुलडोजर चलाने का काम नहीं किया।


पुलिस के बड़े-बड़े अधिकारियों को गुंडों का मुखौटा पहना दिया है भाजपा सरकार ने। पुलिस अधिकारियों को भी यह समझना पड़ेगा कि भाजपा की सरकार 5 साल की नहीं सिर्फ और सिर्फ 3 महीने की बची है। सरकार

अधिकारियों गुंडागर्दी कराने का काम कर रही है।



कानून का नहीं भाजपा सरकार में गुंडागर्दी का राज चल रहा है।


इन सब चीजों का हिसाब हम लिख रहे हैं और सरकार बनने पर हम हिसाब चुकता करेंगे।


दलित,मुस्लिम,ओबीसी,बैकवर्ड,ब्राह्मण और सभी समाज के लोगों को मालूम है कि सिर्फ एक ही सरकार है माननीय बहन जी की जिनका सबसे सफल और शांतिप्रिय शासन है।


उन्होंने कहा कि बीएसपी के शासनकाल में बड़े-बड़े गुंडे,माफिया और जो अधिकारी आज के समय में सत्ता की हनक में चूर हैं वह मायावती के सीएम रहते सामने भी खड़े होने से डरते थे। माफिया और गुंडे प्रदेश छोड़कर बाहर भाग जाते थे।


अगर इस बार आप चुप रह गए तो फिर आपको दोबारा मौका नहीं मिलेगा। आप अपने भविष्य के जिम्मेदार खुद होते हैं या तो बना लें या बिगड़ लें।


20 लाख परीक्षार्थी TET नौकरी के लिए एग्जाम देने आए आधे एग्जाम में पता चला परीक्षार्थियों को कि सरकार ने पेपर रद्द कर दिया है। 20 लाख परीक्षार्थियों का सपना चकना चूर कर दिया इस सरकार ने।


टीईटी पेपर लीक भाजपा सरकार की सोची समझी साजिश थी क्योंकि यह नौकरी नहीं देना चाहते हैं यह सिर्फ और सिर्फ धोखा देकर वोट लेना चाहते हैं।


एक गरीब परिवार का बच्चा अपनी गरीबी मिटाने के लिए कितनी मेहनत करके सरकारी नौकरी की तैयारी करता है और जब पेपर रद्द हो जाता तो उसके ऊपर क्या बीती आप यह सोच सकते हैं। भाजपा सरकार सिर्फ नौकरी देने की बात करते है लेकिन ये पेपर लीक कराकर परीक्षार्थियों को लुभाने और फिर को धोखा देने का काम कर रहे हैं।


भाजपा सरकार ने कोरोना से हुई मौतों का आकड़ा छुपाने का काम किया है। सर्वोच्च न्यायालय ने भी सरकार इसपर लताड़ने का काम किया है।


भाजपा सरकार निकम्मी सरकार इनके ऊपर कोई असर नहीं होने वाला।


अगर आज कौशांबी जिला तरक्की पर है तो यह मायावती की देन है क्योंकि बसपा प्रमुख मायावती ने ही इस जिले का निर्माण किया था। क्योंकि जब एक जिला बनता है तो वहां अस्पताल,स्कूल,कॉलेजेस सभी तरह के विकास कार्य होते हैं।


टीम स्टेट टुडे

11 views0 comments

コメント


bottom of page