google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

केंद्र सरकार की चेतावनी- देश में कोरोना की दूसरी लहर अभी खत्म नहीं, 2 माह बाद बढ़े मामले, हालात खराब



करीब दो माह के अंतराल के बाद कोरोना के मामलों में तेज वृद्धि देखने को मिली है। पिछले 24 घंटों में कोरोना के 47,092 नए मामले सामने आने से कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,28,57,937 हो गई है। पिछली बार 63 दिन पूर्व पहली जुलाई को 48,786 मामले सामने आए थे। देश में सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 3,89,583 हो गई है।


केंद्र सरकार ने देश की जनता को आगाह किया है कि हालात अभी भी बेहतर नहीं है। केंद्र सरकार की नई एडवाइजरी में स्पष्ट किया गया है कि कोरोना काल में सामूहिक समारोहों को टाला जाना चाहिए। बावजूद इसके अगर इसमें भाग लेना जरूरी हो तो इसके लिए पूर्ण टीकाकरण एक पूर्व अपेक्षा होनी चाहिए। केंद्र सरकार ने लोगों से जागरूकता लाने और कोविड प्रोटोकाल का पालन करने का आग्रह किया है।

प्रेस कांफ्रेंस में सरकार की ओर से चेतावनी दी गई कि देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है। सरकार ने कहा है कि भले ही साप्ताहिक पाजिटिविटी दर में समग्र रूप से गिरावट का रुख दिख रहा हो लेकिन हालात बहुत बेहतर नहीं हैं।


सरकार ने लोगों को सलाह दी है कि घर पर त्योहार मनाना चाहिए और कोविड प्रोटोकाल का पालन करना चाहिए। सभी को टीकाकरण भी अपनाना चाहिए। सरकार ने कहा कि देश के 39 जिलों ने 31 अगस्त को समाप्त सप्ताह में 10 फीसद से अधिक साप्ताहिक कोविड पाजिटिविटी दर दर्ज की जबकि 38 जिलों में यह 5 से 10 फीसद के बीच थी।



भारत में कोविड-19 के डेल्टा प्लस वैरिएंट के लगभग 300 मामले पाए गए हैं। इसके प्रति भारतीय वैक्सीन कारगर पाई गई। आइसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा कि डेल्टा प्लस स्ट्रेन के खिलाफ टीके की प्रभावकारिता का परीक्षण किया गया है। उन्होंने कहा कि पहले हमें 60-70 मामले मिलते थे अब डेल्टा प्लस के लगभग 300 मामले हैं। मालूम हो कि कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस वैरिएंट की पहचान 11 जून को की गई थी और इसे चिंता के एक प्रकार के रूप में वर्गीकृत किया गया था।


देश में कोरोना की स्थिति


24 घंटे में नए मामले 47,092
कुल सक्रिय मामले 3,89,583
24 घंटे में टीकाकरण 66.65 लाख
कुल टीकाकरण 66.89 करोड़
(आंकड़े स्वास्थ्य मंत्रालय के)
54 फीसद आबादी को वैक्सीन की एक डोज

इस बीच कोरोना के नए वैरिएंट के डर के मद्देनजर सात देशों दक्षिण अफ्रीका, बांग्लादेश, चीन, न्यूजीलैंड, बोत्सवाना, जिम्बाब्वे और मारीशस से भारत आने वाले यात्रियों के लिए आरटी-पीसीआर जांच को अनिवार्य कर दिया गया है। केंद्र ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पत्र लिखकर कहा कि सार्स-सीओवी-2 वायरस में हो रहे नए-नए म्यूटेशन की रिपोर्ट के अलावा वैश्विक स्तर पर वैरिएंट आफ कंसर्न (वीओसी) और वैरिएंट आफ इंटरेस्ट (वीओआइ) की बढ़ती संख्या पर विचार करते हुए सात देशों को उन देशों की सूची में शामिल किया गया है, जहां से आने वाले यात्रियों को भारतीय हवाई अड्डों पर उतरने के समय एक और आरटी-पीसीआर जांच करवानी होगी। इसके अलावा उन्हें भारत के लिए उड़ान भरने से पहले भी आरटी-पीसीआर जांच करानी होगी।


केरल में संभल नहीं रहे हालात


नए मामलों में 32,097 केस अकेले केरल के हैं। केरल में अब तक 41 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं। केरल में कोरोना के हालात फिलहाल काबू होते नजर नहीं आ रहे हैं।


टीम स्टेट टुडे


विज्ञापन

Comments


bottom of page