google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

Uttar Pradesh के सभी हवाई अड्डों के साथ अन्य राज्यों से आने वाली व्यावसायिक उड़ानों वाले हवाई अड्डों पर एयर इंटेलिजेंस यूनिट्स सक्रिय



एयर इंटेलिजेंस यूनिट्स हवाई मार्ग से नकदी की आवाजाही पर कड़ी निगरानी रख रही


प्रत्येक जिले में तैनात क्विक रिस्पांस टीम को अस्थायी हवाई पट्टियों एवं हेलीपैड की निगरानी के निर्देश


शिकायत हेतु लखनऊ में टोल फ्री नंबर 18001807540 और व्हाट्सएप नंबर 6388736373 के साथ नियंत्रण कक्ष स्थापित


2 अप्रैल, 2024 लखनऊ। प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी नवदीप रिणवा ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश पर आयकर विभाग के अन्वेषण निदेशालय ने लोकसभा आम चुनाव-2024 में काले धन के इस्तेमाल पर रोक लगाने के लिए व्यापक प्रबंध किए हैं। इसके लिए उत्तर प्रदेश राज्य के सभी हवाई अड्डों के साथ-साथ अन्य राज्यों से आने वाली व्यावसायिक उड़ानों वाले हवाई अड्डों पर एयर इंटेलिजेंस यूनिट्स (ए.आई.यू.) कार्य कर रही हैं। ये इकाइयां हवाई मार्ग से नकदी व अन्य कीमती सामान की आवाजाही पर कड़ी निगरानी रख रही हैं।


आयकर विभाग द्वारा हवाई अड्डों पर एआईयू (एयर इंटेलिजेंस यूनिट्स) की स्थापना की गयी है। लखनऊ एवं वाराणसी में स्थायी रूप से एआईयू कार्यरत है तथा अयोध्या, बरेली, मुरादाबाद, श्रावस्ती, कानपुर, चित्रकूट, गाजियाबाद (हिंडन), आगरा, अलीगढ़, गोरखपुर, कुशीनगर, आजमगढ़, प्रयागराज पर अस्थायी रूप से एआईयू कार्यरत है। इसके अतिरिक्त प्रत्येक जिले में तैनात क्यूआरटी को अस्थायी हवाई पट्टियों एवं हेलीपैड की निगरानी के भी निर्देश दिए गए हैं।


आयकर विभाग ने इस संबंध में सूचना/शिकायत प्राप्त करने के लिए टोल फ्री नंबर 18001807540 और व्हाट्सएप नंबर 6388736373 के साथ एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। यह 24 घंटे काम करता है। लोगों को इस नंबर पर कॉल करने और चुनाव प्रक्रिया को अनावश्यक रूप से प्रभावित करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले संदिग्ध नकदी या अन्य क़ीमती सामान से संबंधित विशिष्ट जानकारी प्रस्तुत करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। व्हाट्सएप नंबर 6388736373 पर नकदी की अवैध आवाजाही के संबंध में दस्तावेजों, छवियों और मल्टीमीडिया के रूप में साक्ष्य भी साझा किया जा सकता है। कॉल करने वालों की पहचान गोपनीय रखी जाएगी।


क्विक रिस्पांस टीम (क्यूआरटी) खुफिया जानकारी इकट्ठा करने, जरुरी कार्यों को करने के लिए जिम्मेदार होंगे और ऐसे निर्दिष्ट जिलों में जहॉ पर हवाई अड््डा और हेलीपैड संचालित हैं, लेकिन नियमित एआईयू स्थापित नहीं है वहॉ पर एयरपोर्ट इंटेलिजेंस यूनिट के रुप में कार्य करेंगी।

100 views0 comments

Comentarios


bottom of page