google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

लखनऊ के सीजी सिटी में बनेगा नौसेना संग्रहालय


लखनऊ, 21 अक्टूबर 2023 : मुख्‍यमंत्री योगी आद‍ित्‍यनाथ ने सीजी स‍िटी में नौसेना संग्रहालय के भूमि पूजन में ह‍िस्‍सा ल‍िया। बता दें क‍ि शौर्य संग्रहालय में आईएनएस गोमती के टारपीडो, मिसाइल और गन प्रदर्शित की जाएगी। यहां नौसेना के सी विंग हेलीकॉप्टर और विमान भी प्रदर्शित होंगे। साथ ही नौसेना की जानकारी देने के लिए डिजिटल इंट्रिपेशन सेंटर भी बनेगा। सिंधु घाटी की सभ्यता के समय के जलयान को भी दर्शाया जाएगा।

नौसेना के पश्चिमी कमान के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ वाइस एडमिरल दिनेश के त्रिपाठी में कहा कि लखनऊ और नौसेना का गहरा नाता है। आईएनएस गोमती का नाम लखनऊ से बह रही गोमती के नाम पर। रखा गया। इसके क्रिस्ट पर छतर मंजिल का चिन्ह हैं। पूरे विश्व के ट्रेड समुद्र से होता है। समुद्र देश की खुशहाली के लिए अहम है। आज से चार हजार साल पहले गुजरात में बनाया गया था पहला पानी का जहाज। इतिहास साक्षी रहा की नौसैनिक देश की समरसता और सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं।

पहले से ज्यादा सुरक्षा के लिए कदम उठा रहे हैं। अग्निपथ के लिए भी ये संग्रहालय युवाओ को प्रेरणा प्रदान करेगा। आशा है भारतीय नौसेना में जल्द ही नया आईएनएस गोमती को शामिल किया जाएगा।

मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने कहा कि लखनऊ के पर्यटन में अहम रोल निभायेगा यह संग्रहालय। नेवी की सामरिक, व्यापारिक और आंतरिक सुरक्षा के बारे में युवाओं को पता चलेगा। ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी के लिए पर्यटन और संस्कृति बहुत महत्वपूर्ण हैं। हमारा प्रदेश सबसे ज्यादा 32 करोड़ पर्यटकों को साल आकर्षित किया है। यह 7.5 एकड़ में यह नौसेना संग्रहालय बन रहा है।

पर्यटन व संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह ने कहा कि पहले लगा पर्यटन जनता से सरोकार वाला विभाग नहीं है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सेंटर की स्थापना भी होगी। साल 2017 से पहले माफियाराज था, देश और विदेश में अब आपके कानून के राज की चर्च है। सर्वाधिक 32 करोड़ पर्यटक को आकर्षित किया ।पर्यटन व संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह ने कहा कि पहले लगा पर्यटन जनता से सरोकार वाला विभाग नहीं है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सेंटर की स्थापना भी होगी। साल 2017 से पहले माफियाराज था, देश और विदेश में अब आपके कानून के राज की चर्च है। सर्वाधिक 32 करोड़ पर्यटक को आकर्षित किया ।

0 views0 comments

Commentaires


bottom of page