google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

“योगी का शासन”, बांदा की जेल और “लाचार मुख्तार” – यूपी लाया जा रहा है हत्याओं और दंगों का आरोपी



-16 साल से प्रदेश की जेलों में जश्न मनाता आया है अंसारी
-भाजपा सरकार में मुश्किलें बढ़ीं तो खिसक गया था पंजाब


तकरीबन 16 सालों से प्रदेश की अलग-अलग जेलों में रहकर ‘राजसी ठाठ’ उड़ाने वाले बाहुबली माफिया विधायक ‘मुख्तार अंसारी’ एक बार फिर ‘यूपी वाले बाबा’ की बांदा जेल में जश्न नहीं मना पाएगा। इसी वजह से ही मुख्तार अंसारी ढाई साल पहले गोटी फिट कर पंजाब सरक गया था। अब जब इस डान की बांदा जेल मे दोबारा वापसी हो रही है तो उसकी पत्नी और भाई मुख्तार अंसारी की जान को खतरा बताकर रोना रो रहे हैं।



गौरतलब हो कि वर्ष 2005 में मुख्तार अंसारी ने योजनाबद्ध तरीके से जमानत कटाकर गाजीपुर जेल में शरण ली थी। गाजीपुर जेल को मुख्तार के लिए वीआईपी डाक बंगला बताया गया था। यहां उसके सुख सुविधाओं का पूरा ख्याल रखा गया था। बताते हैं कि सपा सरकार में मुख्तार को जेल के अंदर ऐसी सुविधाएं मिली थीं कि आम आदमी जेल से बाहर रहकर भी नहीं पाता। उसके खाने के लिए जेल के अंदर उसके मन पसंद बासमती चावल की खेती तक कराई जाती थी। इसी तरह लखनऊ, झांसी, कानपुर, आगरा आदि जेलों मे भी मुख्तार अंसारी की समानान्तर सरकार चलती रही। वर्ष 2017 में भाजपा की योगी सरकार में मुख्तार की सुविधाओं में अर्चन आने लगी। बांदा जेल में भी मुख्तार की मुश्किलें कम नहीं हुईं। यहां तो उसने खुद को जेल के अंदर अपनी जान का खतरा बताया था। यही वजह है कि उसने गणित फिट कर अपना तबादला पंजाब जेल करा लिया। तब से वह रूप नगर जेल में आराम फरमा रहा था।


बताते हैं कि पंजाब की कांग्रेस सरकार में मुख्तार के जेल मंत्री से काफी गहरे संबंध थे। इन्हीं संबंधों से वह जेल में जश्न मना रहा था। विधायक कृष्णानंद राय की पत्नी अलका राय ने इस बात की कई शिकायतें प्रियंका गांधी और अन्य मंत्रियों से की थी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। अब जब मुख्तार दोबारा यूपी की बांदा जेल आ रहा है तो संभव है कि यहां जेल में उसकी दाल न गले। इस बात से उसके समर्थक और परिजन संतुष्ट नहीं बताए जा रहे। मुख्तार की पत्नी अशफा बेगम और भाई सांसद अफजाल अंसारी ने जान का खतरा बताकर गुहार लगानी शुरू कर दी है।



मुख्तार की होगी वीडियो मानीटरिंग


मंडल कारागार की बैरिक नंबर 15 में मुख्तार अंसारी को रखे जाने की पूरी तैयारियां कर ली गई हैं। यह बैरिक अब तक अल्पवयस्क अपराधियों के लिए आरक्षित थी। जेल प्रशासन ने इस बैरिक में रहने वाले बंदियों को दूसरी बैरिकों में शिफ्ट कर दिया है। मुख्तार अंसारी अकेले ही इस बैरिक में रहेगा। शासन के निर्देश पर प्रशासन ने बैरिक को वीडियो वाल से लैस कर दिया है। वीडियो वाल के जरिए ही शासन और प्रशासन मुख्तार अंसारी पर नजर रखेंगे।


चिकित्सकों की चार सदस्यीय टीम गठित


जिला व जेल प्रशासन की ओर से राजकीय मेडिकल कॉलेज के चिकित्सक डा. अभिषेक राय के नेतृत्व में 4 डॉक्टरों की टीम गठित की गई है। राजकीय मेडिकल कालेज प्राचार्य डा.मुकेश यादव ने बताया कि डायलिसिस व ऑक्सीजन आदि की व्यवस्था की गई है। कार्डियोलॉजी व न्यूरोलाजी की गंभीर समस्या पैदा होने पर बाहुबली को रेफर किया जाएगा। प्राचार्य ने बाहुबली के मेडिकल कालेज आने पर सुरक्षा बढ़ाने का अनुरोध किया है।



संदीप तिवारी (बांदा)
संदीप तिवारी (बांदा)

रिपोर्ट- संदीप तिवारी (बांदा)

टीम स्टेट टुडे















विज्ञापन
विज्ञापन

42 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0