google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

बैंक डूबा तो 90 दिन के अंदर वापस मिलेगी जमा धनराशि – मोदी कैबिनेट का महत्वपूर्ण फैसला



देश के आम आदमी के लिए संकटकाल में मोदी सरकार अब तक की सबसे बड़ी राहत लेकर आई है। अर्थव्यवस्था की आंकड़ेबाजी के बीच लगातार बैंकों के मर्जर आए दिन बैंक और बैंक में जमा आम आदमी की रकम डूबने की खबर लोगों के भीतर घबराहट पैदा करती है। अब मोदी कैबिनेट के एक फैसले के बाद ये सुनिश्चित हो गया कि अगर कोई बैंक डूब जाता है तो भी ग्राहकों की जमा धनराशि 90 दिन के भीतर वापस की जाएगी।


कैबिनेट के फैसले के अनुसार अगर आरबीआई किसी बैंक पर मोरेटोरियम लगाता है तो इसके 90 दिन के भीतर उस बैंक के जमाकर्ताओं को पांच लाख रुपये तक की जमा राशि वापस मिल जाएगी। पहले 45 दिनों में संकट में फंसे बैंक अपने सभी खातों को जमा करेंगे, जहां क्लेम करने होंगे। इन्हें प्रस्तावित DICGC को दिया जाएगा।


केंद्रीय कैबिनेट ने इसके लिए DICGC Act में संशोधन के प्रस्ताव को को मंजूरी दे दी है।


वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन एक्ट, 1961 में संशोधन का एलान किया था। अब इससे संबंधित विधेयको को संसद के मॉनसून सत्र में लाया जाएगा।


हाल ही में यस बैंक, लक्ष्मी विलास बैंक सहित कई बैंक दिवालिया हो गए थे। ऐसे में जमाकर्ताओं के लिए राहत की बात हो सकती है। अगर बैंक का लाइसेंस रद्द होता है तो बैंक ग्राहकों को पांच लाख रुपये तक का डिपॉजिट इंश्योरेंस मिलता है। यह नियम चार फरवरी 2020 से लागू है। डिपॉजिट इंश्योरेंस में 1993 के 27 साल बाद पहली बार बदलव किया गया है।


सरकार ने 2020 में ही डिपॉजिट इंश्योरेंस की लिमिट पांच गुना बढ़ाई थी। पहले इसकी लिमिट एक लाख रुपये थी।


यह अधिनियम सभी प्रकार के बैंकों में पांच लाख तक की सभी प्रकार की जमा राशियों को कवर करेगा। वित्त मंत्री ने बताया कि डीआईसीजीसी अधिनियम द्वारा सभी जमा खातों का 98.3 फीसदी और जमा मूल्य का 50.98 फीसदी कवर किया जाएगा।


सीतारमण ने कहा कि हर बैंक में जमा राशि के 100 रुपये के लिए 10 पैसे का प्रीमियम हुआ करता था। लेकिन इसे बढ़ाकर 12 पैसे किया जा रहा है। वहीं यह प्रति 100 रुपये के लिए 15 पैसे से ज्यादा नहीं हो सकता।



एलएलपी विधेयक में पहला संशोधन


लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप यानी एलएलपी अधिनियम में पहला संशोधन प्रस्तावित किया है। यह अधिनियम 2008-2009 में अस्तित्व में आया। एलएलपी के लिए कुल 12 अपराधों को मुक्त किया जाना है।

मौजूदा समय में एलएलपी अधिनियम में 24 दंडात्मक प्रावधान, 21 कंपाउंडेबल अपराध और तीन गैर-शमनीय अपराध हैं। लेकिन आज के बाद दंड प्रावधानों को 22 तक काट दिया जाएगा, कंपाउंडेबल अपराध केवल सात होंगे, गैर-कंपाउंडेबल अपराध केवल तीन होंगे। निपटाए जाने वाले डिफॉल्ट्स की संख्या 12 होगी।


इससे ईज ऑफ डूइंग बिजनेस अभियान को गति मिलेगी। छोटी एलएलपी के दायरे का विस्तार होगा।


मौजूदा समय में 25 लाख रुपये या उससे कम योगदान वाले और 40 लाख रुपये से कम टर्नओवर वाले एलएलपी को छोटे एलएलपी माना जाता है। लेकिन अब 25 लाख रुपये की सीमा को बढ़ाकर पांच करोड़ रुपये तक कर दिया गया है और टर्नओवर का आकार 50 करोड़ हो गया है।


MoU पर हस्ताक्षर


केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्रों और बहुपक्षीय एजेंसियों, सुरक्षा आयोगों के अंतरराष्ट्रीय संगठन और बीमा पर्यवेक्षकों के अंतरराष्ट्रीय संघ के बीच एक बहुपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं।


टीम स्टेट टुडे



विज्ञापन



50 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0