google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

बैंकिग संकट की भेंट चढ़ा एक और अमेरिकी बैंक


नई दिल्ली, 1 अप्रैल 2023 : अमेरिकी नियामकों की ओर से सोमवार को कहा गया कि संकटग्रस्त फर्स्ट रिपब्लिक बैंक को सीज कर दिया गया है और उसकी सभी संपत्तियों का अधिग्रहण जेपी मॉर्गन द्वारा कर लिया गया है। यह पिछले दो महीनों में अमेरिका में तीसरा बैंक है, जो डूब गया है। सामचार एजेंसी रॉयटर्स की ओर से जानकारी दी गई है।

जेपी मॉर्गन की ओर से जारी किए बयान में कहा गया है कि उसके द्वारा फर्स्ट रिपब्लिक बैंक के 173 अरब डॉलर के लोन पोर्टफोलियो और 30 अरब डॉलर की सिक्योरिटी के साथ 92 अरब डॉलर के बैंक डिपाजिट का अधिग्रहण कर लिया गया है। आज सोमवार को अमेरिका के 8 राज्यों में स्थित फर्स्ट रिपब्लिक बैंक की 84 ब्रांच जेपीमॉर्गन चेस बैंक के रूप में खुली।

फर्स्ट रिपब्लिक बैंक का शेयर 36 प्रतिशत गिरा

प्रीमार्केट ट्रेंड में फर्स्ट रिपब्लिक बैंक का 36 प्रतिशत तक गिर गया और इस साल अब तक बैंक का शेयर 97 प्रतिशत अपनी वैल्यू खो चुका है। वहीं, जेपी मॉर्गन का शेयर 2.6 प्रतिशत की बढ़त के साथ कारोबार कर रहा था। बता दें, फर्स्ट रिपब्लिक बैंक का फोकस केवल अमीर लोगों पर था और इसका बिजनेस मॉडल भी मार्च में डूब चुके सिलिकॉन वैली बैंक जैसा था।

कई बार बिक चुका है फर्स्ट रिपब्लिक बैंक

फर्स्ट रिपब्लिक बैंक को कई बार बेचा जा चुका है। मेरिल लिंच एंड कंपनी ने 2007 में फर्स्ट रिपब्लिक बैंक का 1.8 अरब डॉलर में अधिग्रहण किया था। इसके बाद 2009 में मेरिल लिंच एंड कंपनी ने इसे बैंक ऑफ अमेरिका को बेच दिया। फिर 2010 के मध्य में जनरल अटलांटिक और कॉलोनी कैपिटल के नेतृत्व में कुछ इन्वेस्टमेंट फर्मों ने मिलकर फर्स्ट रिपब्लिक बैंक को 1.86 अरब डॉलर में खरीद लिया था, जिसके बाद बैंक को पब्लिक कर दिया गया।

बैंक को मिली थी 30 अरब डॉलर की सहायता

अमेरिकी नियामकों की ओर से सिलिकॉन वैली बैंक के डूबने के बाद फर्स्ट रिपब्लिक बैंक को 11 बड़े अमेरिकी बैंकों ने मिलकर 30 अरब डॉलर की सहायता दी थी।


1 view0 comments

Comments


bottom of page