google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

सावधान! साइबर ठगी का नया तरीका, मोबाइल पर फर्जी बिजली बिल भेजकर लगा रहे चूना


लखनऊ, 14 जून 2022 : अगर आपके मोबाइलपर बिजली बिलके फर्जी मैसेजभेज कर उपभोक्ताओंसे अनाधिकृत व्यक्तियोंद्वारा फोन परबिल जमा करनेकी बात कहीजा रही है, तो होशियार रहे।मध्यांचल एमडी नेअपील की हैकि उपभोक्ता ऐसेजालसाजों से सावधानरहे। फोन परजालसाज उपभोक्ता से प्लेस्टोर पर एकएप डाउनलोड करनेको कहते हैंऔर फिर एपकरने पर आइपीएड्रेस टाइप का 12 डिजिट का आटोजनरेटेड कोड मांगाजाता है उसकोड को बतातेही मोबाइल कीसमस्त जानकारी अज्ञातव्यक्ति के पासचली जाती हैं।उसके बाद संबंधितव्यक्ति द्वारा गूगल पेया अन्य माध्यमसे एक खातेसे पेमेंट अपनेखाते में करलिया जाता है।

मध्याचंल द्वारा जारीएक प्रेस नोटमें बताया गयाहै कि उपभोक्ता 9919700251, 9450366033 और 9412870456 नंबरों से सावधानरहे, क्योंकि इन्हींनंबरों से फोनआते हैं। उपभोक्ताओंको एसएमएस केजरिए एक लिंकभेजा जाता हैऔर यह कहाजाता है किआप लिंक परक्लिक कर अपनेबिजली बिल काभुगतान कर दें।आइटी के जानकारोंने बताया किकुछ उपभोक्ताओं कोमैसेज भेजकर यहकहा जाता हैकि इस एपको ओपन करे।मध्याचंल का दावाहै कि ऐसेमैसेज बिजली विभागद्वारा नहीं भेजेजा रहे हैं।

उपभोक्ता बिजली विभागके काउंटर, ईसुविधा काउंटर, कस्टमर केयरसेंटर, बिलिंग एजेंट औरबिजली सखी केजरिए ही बिलजमा करे। इसकेअलावा www.upenergy.in पर उपलब्धनेट बैकिंग डेबिटकार्ड/क्रेडिट कार्ड/भीम एप/पेटीएम सहित कईमाध्यमों से उपभोक्ताभुगतान कर सकतेहैं। उपभोक्ता केपास अगर कोईऐसा फोन आताहै तो उपभोक्ता 1912 पर पहले इसकीपुष्टि कर लेऔर स्थानीय अभियंतासे भी संपर्ककरके जानकारी लेनेके बाद हीकदम उठाए। क्योंकिअधिकारी, कर्मचारी/एसएमएस द्वारालिंक भेज करमोबाइल नंबर सेलिंक भेजने औरस्क्रीन शेयर करनेके लिए अधिकृतनहीं है।

2 views0 comments