google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

चार्ज लेते ही एक्शडन में पुलिस कमिश्नर, अवैध स्टैंड संचालन में इंस्पेक्टर PGI निलंबित


लखनऊ, 2 अगस्त 2022 : रायबरेली रोड पर एल्डिको चौकी से चंद कदम दूरी पर चल रहे अवैध आटो स्टैंड संचालक ने साथियों के साथ मिलकर रविवार देर रात आटो चालक की हत्या कर दी थी। हत्या मामले में पुलिस कमिश्नर एसबी शिरडकर के निर्देश पर डीसीपी पूर्वी प्राची सिंह ने पीजीआइ इंस्पेक्टर देवेंद्र विक्रम सिंह को मंगलवार को निलंबित कर दिया। चौकी के पास अवैध आटो स्टैंड चलने के मामले में पुलिस कर्मियों की मिली भगत की आशंका है। प्राथमिक जांच में इसकी जानकारी पुलिस अधिकारियों को हुई है। पुलिस कमिश्नर के निर्देश पर डीसीपी पूर्वी ने एडीसीपी पूर्वी सैयद अली अब्बास को पूरे मामले की जांच के लिए कहा गया है। उल्लेखनीय है मूल रूप से बाराबंकी के लोनी कटरा के नरदही गांव में रहने वाले सुभाष चंद्र पाल यहां पर रायबरेली रोड सेक्टर पांच वृंदावन डूडा कालोनी में रहते थे।

सुभाष चंद्र पाल रविवार देर रात आटो लेकर वृंदावन सेक्टर पांच डूडा कालोनी घर जा रहे थे। इस बीच एल्डिको चौकी के पास उतरेटिया बाजार में अवैध आटो स्टैंड संचालक चंदन मिश्रा और उसके साथी कार व बाइक से पहुंचे थे। चंदन ने साथियों संग सुभाष को घेर लिया था। विरोध पर चंदन ने गाली-गलौज करते हुए उसे आटो से खींचकर सड़क पर गिरा दिया। इस बीच उसके साथियों ने डंडे से ताबड़तोड़ भाई पर वार किया। चंदन ने एक बड़ा पत्थर उठाया और उसने भाई के सिर पर लगातार कई वार किया था जिससे सुभाष की मौत हो गई थी। डीसीपी पूर्वी ने बताया कि इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया है। अवैध स्टैंड संचालन मामले में उनकी भूमिका की जांच की जा रही है।

इंस्पेक्टर ने बताया था एक्सीडेंट, एसीपी की भी भूमिका की जांच : घटना के बाद राहगीरों ने सुभाष को खून से लतपथ सड़क पर पड़ा देखकर पुलिस को सूचना दी थी। इस पर पुलिस कर्मी सुभाष को अस्पताल लेकर पहुंचे जहां, डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पूछने पर इंस्पेक्टर देवेंद्र विक्रम सिंह ने बताया था कि सुभाष के आटो पर पर एक पत्थर पड़ा था। जिससे शीशा टूट गया था। इसके बाद उसका एक्सीडेंट हो गया था। यही उन्हें जानकारी मिली थी। उधर, डीसीपी ने पूरे मामले में एसीपी कैंट अर्चना सिंह की भूमिका की भी जांच के आदेश दिए हैं।


1 view0 comments