google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

डिजिटल प्लेटफार्म्स पर तंत्र-मंत्र, ज्योतिष और अंधविश्वास के सहारे फलफूल रहा है ठगी का कारोबार



ठगी का धंधे का उसूल है लोगों की कमजोर नस पकड़ कर उन्हें ठग लेना। तरह तरह के छल-प्रपंच का शिकार आप कभी ना कभी हुए होंगे। अब डिजिटल युग है। ठगों ने डिजिटल माध्यम से लोगों को ठगने का काम बहुत पहले ही शुरु कर दिया है। अकसर आप को फोन काल या मैसेज के जरिए अपने आधार नंबर, बैंक डिटेल आदि की जानकारी मांगी जाती है। समझदार लोग ठगों की इस चाल को बेहतर तरीके से समझ गए हैं और उनके झांसे में नहीं आते।


अब ठगों ने नई चाल चली है। ज्योतिष के सहारे ठगी का खेल परवान चढ़ रहा है। हाल के दिनों में कई लोगों को ऐसे फोन काल, मैसेज या मेल किए गए जिसमें उन्हें ग्रह नक्षत्रों का भय दिखाया गया। कारोबार, पारिवारिक कलह जैसे विषयों पर फोन करके लोगों को ठगों ने अपने जाल में फंसाया। कई लोग इस तरह के झांसे में आए और नुकसान उठा बैठे।


समय की जरुरत है कि आप सतर्क हो जाएं।


इन दिनों इंटरनेट मीडिया के माध्यम से तंत्रमंत्र का एक नया कारोबार पनप रहा है। इंटरनेट मीडिया के माध्यम से कुंडली देखकर पूजन के तौर तरीके बताए जा रहे हैं। इसके बाद वसूली का खेल शुरू होता है। किसी से पूजन के नाम पर पैसा लिया जाता है तो किसी को अन्य टिप्स बताए जाते हैं। तंत्रमंत्र के नाम पर चल रहे इस कारोबार पर वैसे साइबर पुलिस सतर्क है। गोपनीय तौर पर टीमों को लगाया गया है। कुछ स्थानों पर तंत्रमंत्र के नाम पर ठगी करने वालों की शिकायतें भी दर्ज हुई हैं। पुलिस ने कार्रवाई भी की है। बावजूद इसके ठगों का कारोबार बदस्तूर जारी है।


इसलिए आप सावधान रहिए और इस तरह की झूठी काल्स और मैसेज से बच के रहिए। अगर काल रिसीव भी कर लीजिए तो कभी भी ठगों के झांसे में आकर पैसों का लेनदेन या अपनी व्यक्तिगत जानकारियां साझा कतई मत करिए।


टीम स्टेट टुडे




33 views0 comments

Comentarios


bottom of page