google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

5 जुलाई से यूपी में कोरोना कर्फ्यू में थोड़ी और ढील , देखिए अब और कहां कहां क्या क्या खुलेगा


यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ का 'एक व्यक्ति, एक पौधा' अभियान को जनांदोलन बन गया। प्रदेश में 25.51 करोड़ पौधे रोपे गए

रिपोर्ट - आदेश शुक्ला


कोरोना कर्फ्यू के चलते दूसरी लहर को थामने में प्रदेश सरकार को बड़ी कामयाबी मिली। सोमवार से शुक्रवार तक बहुत सारी रियायतें पहले ही दी जा चुकी हैं। शनिवार और इतवार की बंदी अभी जारी है। स्थिति थोड़ा और नियंत्रण में आने के बाद उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने फैसला लिया है कि चरणबद्ध तरीके से अन्य गतिविधियों को भी प्रतिबंध से मुक्त किया जा रहा है। इसी क्रम में 5 जुलाई यानी सोमवार से उत्तर प्रदेश में अब मल्टीप्लेक्स, सिनेमा हाल, जिम और स्टेडियम खोल दिए जाएंगे। हांलाकि मुख्यमंत्री कोरोना प्रोटोकाल का सख्ती से पालन का निर्देश पहले ही दे चुके हैं।


इस संबंध में रविवार को मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने गाइडलाइन जारी कर दी है, जिसमें कहा गया है कि कंटेनमेंट जोन को छोड़कर मल्टीप्लेक्स, सिनेमा हाल, जिम और स्पोर्ट्स स्टेडियम सप्ताह में पांच दिन खुल सकेंगे।


केंद्र सरकार का निर्देश है कि कोरोना संक्रमण कम होने पर स्थिति की समीक्षा करते हुए राज्य अपने अनुसार प्रतिबंधों से राहत दे सकते हैं। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने इसी फार्मूले पर काम शुरू किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तय किया कि जिन-जिन जिलों में कोरोना के सक्रिय मामले घटते जाएंगे, वहां कोरोना कर्फ्यू से राहत दे दी जाएगी। धीरे-धीरे पूरा प्रदेश अनलाक हो गया। अभी प्रदेश में रात नौ से सुबह सात बजे तक रात्रिकालीन बंदी और शनिवार-रविवार की साप्ताहिक बंदी अभी लागू है।


मल्टीप्लेक्स, सिनेमा हाल, जिम और स्पोर्ट्स स्टेडियम में पल्स आक्सीमीटर, इन्फ्रारेड थर्मामीटर, सैनिटाइजर, कोविड हेल्प डेस्क, मास्क और दो गज की दूरी का पालन अनिवार्य होगा। फिलहाल स्वीमिंग पूल अग्रिम आदेशों तक बंद रहेंगे।


क्या हो रही है मांग


व्यापारी चाहते हैं कि रविवार की बंदी भले ही चलती रहे, लेकिन सरकार को शनिवार को बाजार-दुकान, प्रतिष्ठान खोलने की अनुमति दे दी चाहिए। इसके अलावा उच्च शिक्षा से जुड़े शैक्षिक संस्थान, कोचिंग को खोला जाना चाहिए, क्योंकि उनमें पढ़ने आने वाले छात्र बड़े होते हैं और कोविड प्रोटोकाल का पालन कर सकते हैं। इधर, सरकार भी इस दिशा में समीक्षा और विचार मंथन कर रही है।


टीम स्टेट टुडे


विज्ञापन

127 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0