google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

सीएम योगी ने किया कोरोना पीड़ितों के लिए बड़ा ऐलान, प्रदेश में दिख रहा है कोरोना कर्फ्यू का असर



रिपोर्ट - आदेश शुक्ला


कोरोना के कहर से सहमे उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन का कुछ असर दिखा है। यूपी में बीते 24 घंटे में जो आंकड़े सामने आए उसमें संक्रमित मिलने और मौत के आंकड़ों में मामूली कमी दिखी तो कोरोना को मात देकर ठीक होने वालों की तादात बढ़ी है।


यूपी में 24 घंटे में 208 लोगों की मौत हुई है जबकि शनिवार को ये संख्या 223 थी। प्रदेश में आज सर्वाधिक 19 मौत कानपुर में हुई है। इसके अलावा वाराणसी में 15, लखनऊ में 14, गौतमबुद्धनगर में 11 और प्रयागराज व गाजियाबाद में दस-दस लोगों ने इसके कहर से दम तोड़ा है।


प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 35,614 नए मामले सामने आए हैं। शनिवार को यह आंकड़ा 38055 था। बीते 24 घंटे में 25,633 लोग डिस्चार्ज हुए हैं। जबकि इससे पिछले दिन 23,231 लोग डिस्चार्ज हुए थे। अब तक प्रदेश में इसके कहर से उबरने वालों की संख्या 7.77 लाख के पार हो गई है।



राजधानी लखनऊ का हाल


लखनऊ में पूरे प्रदेश के मुकाबले सबसे ज्यादा संक्रमित मिलने का क्रम जारी है। बीते 24 घंटे में 5187 नए संक्रमित मिले हैं अब एक्टिव केस 52028 है। बड़ी बात ये है कि लखनऊ में बीते 24 घंटे में 6247 लोग ठीक भी हुए हैं।


लखनऊ के बाद कानपुर में 2153, वाराणसी में 2057, प्रयागराज में 1395, गौतमबुद्धनगर में 1310, बरेली में 1084, झांसी में 1021, लखीमपुर खीरी में 805, गाजियाबाद में 714, मुजफ्फरनगर में 660, गाजीपुर में 620, मुरादाबाद में 607, जौनपुर में 569, सुल्तानपुर में 568, शाहजहांपुर में 566,सहारनपुर में 558 और बिजनौर में 537 नए संक्रमित केस मिले हैं।


जारी है टीकाकरण


प्रदेश में अब तक 97,79,846 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लग गई है। इसके साथ ही इनमें से 19,97,363 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज लगी है।


मास्क तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग जरूरी: अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि अगर आप बाहर न निकलें, भीड़भाड़ वाली जगह पर न जाएं। मास्क लगाने और फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें तो केस कम होंगे। यूपी में कोरोना जांच के लिए निर्धारित से ज्यादा शुल्क लेने की शिकायतों पर उन्होंने कहा कि प्रदेश में टेस्टिंग के लिए जो दर निर्धारित है, उससे अधिक कोई फीस लेता है तो ये एपेडेमिक एक्ट के तहत आएगा।



सीएम का ऐलान सरकार उठाएगी खर्च कोरोना मरीजों का


यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि कोई भी निजी या सरकारी अस्पताल कोरोना मरीजों के इलाज से इनकार नहीं कर सकता। अगर सरकारी अस्पताल में बेड नहीं मिल रहा तो निजी अस्पताल में इलाज कराएं। नियमानुसार सरकार इनके उपचार का खर्च वहन करेगी, लेकिन मरीज को तुरंत चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जानी चाहिए। एंटीजन टेस्ट में पॉजिटिव आए लोगों को समुचित इलाज उपलब्ध कराया जाए। ये बातें उन्होंने रविवार को टीम-11 के साथ समीक्षा बैठक में कही।


18 वर्ष से अधिक आयु के नागरिकों के निःशुल्क टीकाकरण का निर्णय लेने वाला पहला राज्य उत्तर प्रदेश है। एक मई से प्रारंभ हो रहे इस वृहद टीकाकरण अभियान के संबंध में भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप सभी आवश्यक तैयारियां समय से पूरी कर ली जाएं।


50-50 लाख डोज का ऑर्डर दोनों स्वदेशी वैक्सीन निर्माता कंपनियों को भेज दिया गया है। इसके अतिरिक्त भारत सरकार द्वारा वैक्सीन की डोज उपलब्ध कराई जाएगी। इस संबंध में व्यापक कार्ययोजना तैयार कर ली जाए। वैक्सीन वेस्टेज न हो, यह प्रत्येक दशा में सुनिश्चित करें।


यह युद्धस्तर पर किए गए प्रयासों का ही नतीजा है कि आज उत्तर प्रदेश में अन्य राज्यों की तरह हाहाकार की स्थिति नहीं है। ऑक्सीजन आपूर्ति सामान्य है। भारत सरकार ने प्रदेश का आवंटन बढ़ाया है। इसकी आपूर्ति यथाशीघ्र प्रदेश में कराई जाए। ऑक्सीजन एक्सप्रेस जैसे अभिनव सहयोग से बड़ा लाभ हुआ है। ऑक्सीजन एयरलिफ्ट भी कराई जा रही है। निजी हो या सरकारी, किसी कोविड हॉस्पिटल में ऑक्सीजन का अभाव नहीं है।

प्रदेश के 100 बेड से अधिक क्षमता वाले सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाने की कार्रवाई तेजी से आगे बढ़ाई जाए। यह शासन की शीर्ष प्राथमिकता का कार्य है।



टीम स्टेट टुडे

विज्ञापन
विज्ञापन

151 views0 comments

Comments


bottom of page