google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

यूपी में तेजी से फैल रहा कोरोना, फर्रूखाबाद, इटावा, औरैया और बांदा में मिले संक्रमित


लखनऊ, 23 अप्रैल 2023 : कोरोना संक्रमण यूपी में तेजी से पांव पसार रहा है। शुक्रवार को यूपी में 991 नए मरीज मिले थे। सबसे ज्यादा 197 नए रोगी गौतमबुद्ध नगर में मिले थे। गाजियाबाद में 124, लखनऊ में 107, पीलीभीत में 60, मेरठ में 58, फर्रुखाबाद में 47, गोरखपुर में 33 और कानपुर में 32 नए रोगी मिले थे।

फर्रुखाबाद में कोरोना संक्रमण की चपेट में बच्चे भी आने लगे हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी की गई रिपोर्ट में 12 लोग संक्रमित निकले हैं। इनमें छह वर्षीय बालक और 10 वर्षीय बालिका भी शामिल हैं। अब कुल संक्रमितों की संख्या 120 हो गई है। अवकाश होने की वजह से कम लोगों की कोविड जांच की जा सकीं।शनिवार को राजेपुर ब्लाक के सात, कायमगंज, शमसाबाद ब्लाक के एक-एक और बढ़पुर ब्लाक के तीन लोगों की रिपोर्ट कोरोना संक्रमित आई है। बालक और बालिका भी राजेपुर ब्लाक के हैं। अब स्वास्थ्य टीम संक्रमितों के स्वजन की जांच करेगा। ताकि अन्य लोगों को संक्रमण से बचाया जा सके। नोडल अधिकारी डा. आरसी माथुर ने बताया कि अब जनपद में कुल संक्रमितों की संख्या 120 हो गई है। छह लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं। शनिवार को 79 लोगों की जांच की गई।

औरैया में जांच रिपोर्ट में मिले नए 12 संक्रमित मरीज

कोविड-19 संक्रमण से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ रही है। रोजाना नए संक्रमित मरीज आ रहे हैं। शनिवार को आरटीपीसीआर जांच में आठ व एंटीजन में चार केस मिले। अब कुल सक्रिय केसों की संख्या 55 हो गई है। होम आइसोलेशन में चार मरीज ठीक हुए।होमआइसोलेशन में शनिवार काे चार मरीज जहां स्वस्थ हुए, वहीं 28 आरटीपीसीआर सैंपल लिए गए। जिनकी रिपोर्ट रविवार को लैब में जांच होकर आएगी। 58 लोगों की एंटीजन जांच की गई।

हालांकि इनमें चार की रिपोर्ट पाजिटिव पाई गई। आठ केस आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट में संक्रमित पाए गए। मुख्य चिकित्साधिकारी डा. अर्चना श्रीवास्तव ने बताया कि सैंपलिंग की संख्या बढ़ाई गई है। ब्लाक स्तर पर भी स्वास्थ्य टीम को सतर्क किया गया है। उन्होंने जनपदवासियों से कोविड से बचाव में शारीरिक दूरी बनाए रखने का आग्रह किया है। बिना मास्क लगाए घर से न निकलें। भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें।

बांदा में महिला समेत सात मरीज और मिले कोरोना संक्रमित

कोरोना का फैलाव थम नहीं रहा है। जिले में अब तक संक्रमित 72 मरीज मिल चुके हैं। जबकि उपचार के बाद 24 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। बचाव के नियमों का पालन करें। शनिवार को महिला समेत सात मरीजों की रिपोर्ट और पाजिटिव आई है। उनका उपचार किया जा रहा है। जनपद में कोराना फिर से बढ़ रहा है। बचाव के नाम पर बिल्कुल भी लापरवाही न करें। शुक्रवार को जहां निम्नीपार, सिविल लाइंस आदि जगहों पर चार संक्रमित मिले थे। वहीं शनिवार को 20 वर्षीय व 27 वर्षीय दो युवकों, 45 वर्षीय दो पुरुषों, 33 वर्षीय व 44 वर्षीय मरीजों के साथ 43 वर्षीय महिला की जांच रिपोर्ट पाजिटिव आई है। संक्रामक रोग विशेषज्ञ डा. प्रसून ने बताया कि शारीरिक दूरी के नियमों का पूरी तरह पालन करें। संक्रमण के लक्षण मिलने पर जांच जरूर कराएं। मास्क लगाकर घर से बाहर निकलें। भीड़ की जगह जाने से बचें।

इटावा में 15 हुई कोरोना संक्रमितों की संख्‍या

एक नया कोरोना संक्रमित मरीज सामने आने के बाद जिले में कुल संक्रमितों की 15 हो गई। इन संक्रमितों में से सात लोग स्वस्थ हो चुके हैं। शनिवार को आई कोरोना जांच रिपोर्ट में भरथना के होमगंज में रहने वाली एक 30 वर्षीय महिला चिकित्सक आरटीपीसीआर जांच में कोरोना संक्रमित पाई गई है। कुल संक्रमितों की संख्या 15 हो गई जिसमें से सात संक्रमित पूर्ण रूप से ठीक हो चुके हैं। काेविड के नोडल अधिकारी डा. बीएल संजय ने बताया कि जो मरीज अभी संक्रमित हैं उनको होम आईसोलेशन में रखा गया है सभी के परिवार के अन्य सदस्यों की जांच भी कराई गई है। उन्होंने कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए लगातार लोगों की सेंपलिंग की जा रही है।

फतेहपुर में कोरोना की दस्तक, चार नये केस मिले

निकाय चुनाव का दौर है तो शहरी क्षेत्र की हर गली व मुहल्ले में लोगों का आवागमन बढ़ा है। कोरोना के प्रोटोकाल की अनदेखी अब शहरवासियों के लिए परेशानी बन गई है। शनिवार को कोरोना ने शहर में दस्तक दे दी। अलग-अलग मुहल्लों में मिले केस के बाद महकमा अलर्ट हो गया है। सीएमओ ने टेस्टिंग पर जोर दिया है, हालांकि निर्देश के बाद भी कोरोना टेस्टिंग की रफ्तार बेहद धीमी है। ओपीडी में पहुंचने वाले सर्दी, जुकाम के मरीज जांच तक नहीं करा रहे हैं।

चुनाव के कारण जगह-जगह भीड़, नहीं लगा रहे मास्क

शहर क्षेत्र के देवीगंज, ज्वालागंज व सिविल लाइन इलाके में मिले यह इन चारों पुरूष मरीजों को घर में ही क्वारंटाइन कर दिया गया है। सीएमओ डा. सुनील भारतीय ने बताया कि चिन्हित मरीजों को कोरोना में काम आने वाली दवाएं दिलाई गई है। मरीजों की स्थिति में कोई गंभीरता नहीं है। इन मरीजों के संपर्क में रहे लोगों को भी जांच कराने के लिए कहा गया है। इनके घरों में टेस्टिंग और ट्रेसिंग के लिए टीमें भेजी जा रही है। बता दें कि अभी तक जिले के अलग-अलग हिस्से में ही कोरोना के केस निकल रहे थे, अब शहर में केस मिलने से संक्रमण बढ़ने का खतरा भी जताया जा रहा है।

0 views0 comments

Comments


bottom of page