google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

ज्ञानवापी परिसर में वीडियोग्राफी करने के लिए पहुंची टीम, सड़क पर हंगामा


वाराणसी, 6 मई 2022 : ज्ञानवापी परिसर में वीडियोग्राफीको लेकर शुक्रवारसुबह से हीसुरक्षा बढ़ा दीगई है। परिसरको होर्डिंग आदिसे ढक दियागया है। सुरक्षाकर्मियोंकी संख्या बढ़ादी गयी है।परिसर स्थित मांशृंगार गौरी केदर्शन-पूजन कोलेकर दायर याचिकापर जिला अदालतने कमीशन बैठाकरवीडियोग्राफी कराने का आदेशदिया है। इसकेलिए छह वसात अप्रैल कीतिथि तय कीहै। सर्वे कीकार्रवाई के लिएकोर्ट कमिश्नर सहितहिंदू और मुस्लिमपक्ष के वादीऔर वकीलों नेअंदर प्रवेश किया।इस दौरान काशीविश्वनाथ मंदिर के गेटनंबर 4 पर इसदौरान काशी विश्वनाथमंदिर के गेटनंबर 4 पर मुस्लिमसमुदाय के युवाओंकी ओर सेजमकर नारेबाजी कीगई।

पुलिस की कड़ीसुरक्षा घेरेबंदी में कमीशनकी कार्यवाही केलिए ज्ञानवापी पहुंचेएडवोकेट कमिश्नर। अधिवक्ताओं कीचेकिंग कर उन्हेंपरिसर में प्रवेशकराया गया। इंतजामियाकमेटी में पांचअधिवक्ता हैं। उन्होंनेकहा कि कानूनकी बात मानेंगेपर कुछ अलगहोगा तो शिकायतकरेंगे।

शुक्रवार को जुमेकी नमाज केलिए काफी संख्‍या मेंनमाजी पहुंचे थेऔर शांतिपूर्ण तरीकेनमाज पढ़कर निकलनेलगे। इस दौरानएक महिला काशीविश्वनाथ मंदिर के गेटनम्बर 4 पर पढ़नेलगी नमाज। महिलाको हिरासत मेंलिया गया। वाराणसीपुलिस कमिश्नर एसतीश गणेश केअनुसार उसके पाससे हिंदू देवी-देवाओं की फोटोमिली है। उसकेपरिवार वालों से बातकी गई तोपता चला किउसकी दिमागी स्थितिठीक नहीं है।नमाजी महिला कोपकड़ कर थानेले गए हैं।उसकी पहचान जैतपुरानिवासी आयशा केतौर पर हुईहै।

वहीं जुमेकी नमाज केलिए काफी संख्यामें लोग पहुंचेहैं। स्थानीय लोगोंका कहना हैकि आमतौर परइतनी संख्या मेंलोग ईद केदिन भी नमाजके लिए नहींपहुंचे थे। पुलिसपूरी तरह सेमुस्तैद है बेवजहभीड़ लगाने वालोंको हटाया गया।वहीं शांति व्यवस्थाको बनाए रखनेके लिए स्थानीयलोगों का भीसहयोग लिया जारहा है। इसबीच परिसर केअंदर प्रवेश रोककरलोगों को वापसकर दिया गया, कुछ दुकानें भीबंद हुईं।

यह हैमामला

नई दिल्लीकी राखी सिंह, लक्ष्मी देवी, सीता साहू, मंजू व्यास वरेखा पाठक कीओर से 18 अगस्त 2021 को सिविल जज (सीनियरडिवीजन) की अदालतमें वाद दाखिलकिया गया था।वाद में कहागया है किभक्तों को मांशृंगार गौरी केदैनिक दर्शन-पूजनएवं अन्य अनुष्ठानकरने की अनुमतिदेने के साथही परिसर मेंस्थित अन्य देवी-देवताओं के विग्रहोंको सुरक्षित रखाजाए। वाद मेंप्रदेश सरकार के अलावाजिलाधिकारी, पुलिस आयुक्त, अंजुमनइंतजामिया मसाजिद कमेटी औरकाशी विश्वनाथ मंदिरट्रस्ट को पक्षकारबनाया गया है।इस वाद परमौके की वस्तुस्थितिजानने के लिएसिविल जज (सीनियरडिवीजन) रवि कुमारदिवाकर की अदालतने कमीशन कार्यवाहीका आदेश दियाहै।

25 views0 comments

Comments


bottom of page