google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

"मानव सभ्यता पर प्रश्न-चिन्ह" - ओम प्रकाश मिश्र



यह सत्य है कि मानव जीवन के प्रार्दुभाव के समय पुराना पत्थर काल का प्रारम्भ ही रहा होगा। जंगलों में रहना होता था, हथियार भी पत्थरांे व लकड़ियों व कभी-कभी हड्डियों से बनाये जाते थे। आग जलाने के लिए पत्थर को रगड़कर ही प्रक्रिया करनी पड़ती थी। शिकार तथा जंगली फलों के ही ऊपर भरण-पोषण होता था। इस प्रकार के जीवन में संभवतः वस्त्रों के स्थान पर वृक्षों की छालों व जानवरों के चमड़े कभी-कभी वृक्षों के पत्तों आदि का उपयोग किया जाता रहा होगा। लोग समूहों में रहते रहें होंगे,परिवार व्यवस्था का बीज पड़ना आरम्भ हुआ होगा। उस समय हिंसक पशुओं से अपनी सुरक्षा के लिए समूहों में रहना आरंभ हुआ होगा, यह सारी बातें मानव जीवन के मानव-समाज व मानव-सभ्यता के बीजारापण का काल रहा होगा, ऐसा माना जाता हैं। यह अनेकों शोधों व परिकल्पनाओं के आधार पर विकसित हुआ विचार व विश्वास है। मानव समाज, कालान्तर में जंगलों से कृषि की ओर अग्रसर हुआ। कृषि को व्यवसाय बनाने से, यायावरी जीवन का क्रमशः हृास हुआ तथा जीवन की प्रक्रिया व्यवस्थित होने लगी। छोटे-छोटे गाँवों का प्रादुर्भाव व परिवार व्यवस्था का स्वरूप सामने आने लगा। इसी के बाद से मानव-समाज की सभ्यता व संस्कृति में गुणात्मक परिवर्तन आरंभ हुये। यह कृषि क्रान्ति का वस्तुतः बीजारोपण था।

कृषि प्रधान समाज के बाद, औद्योगिक समाज का धीरे-धीरे प्रादुर्भाव हुआ। पहले तो कृषि प्रधान उद्योग, फिर लोहे-इस्पात व अन्य प्रकार के उद्योगों के आधार पर औद्योगिक क्रान्ति का आरंभ देखा गया। इस काल खण्ड में मानव सभ्यता व संस्कृति का एक दम से अलग प्रकार का विकास हुआ। अलग-अलग क्षेत्रों व मानव समाजों में कुछ तत्व समान होते हुये भी अन्तर दिखने लगे थे।

सभ्यताओं व संस्कृतियों की संकल्पना में एक मूल अन्तर है। सभ्यताओं में अहंकार हो सकता है, परन्तु संस्कृति में ऐसा होना आवश्यक नहीं हैं। यह अलग बात है कि किसी समाज को अपनी संस्कृति को, दूसरी संस्कृतियों से श्रेष्ठ समझने की प्रवृत्ति भी होती है, तो आश्चर्य नहीं।

अपनी सभ्यता को दूसरी सभ्यता से श्रेष्ठ समझने की प्रवृत्ति से एक दम्भ की उत्पत्ति होती है, जो आगे चलकर पश्चिमी जगत के कई हिस्सों में लगातार देखी गयी है। पहले व दूसरे विश्व युद्धों के पीछे, यद्यपि उनके तत्कालीन राष्ट्राध्यक्षों के दम्भ उनकी असीमित महत्वाकांक्षाओं तथा समग्र आर्थिक हितों का भी योगदान था, परन्तु उनके एक महत्वपूर्ण तत्व के रूप में अपनी सभ्यता को दूसरों से श्रेष्ठ मानने की प्रवृत्ति भी अत्यन्त महत्वपूर्ण घटक थी।

चमत्कारी वैज्ञानिक अनुसंधानों ने खासकर पश्चिमी जगत को, चमत्कारी आर्थिक विकास तो दिया ही, साथ ही साथ, अपनी श्रेष्ठता का दम्भ भी बढ़ता गया। एक समय ग्रेट ब्रिटेन का सूर्य संसार से अस्त नहीं होता था। इस श्रेष्ठता के भाव, आर्थिक हितों एवं उपनिवेश बनाने की प्रवृत्ति ने मानव सभ्यता व समाज का भयंकर अहित किया है। बहुत बड़ी संख्या में लोग मारे गये हैं, और यह परम्परा अभी चली ही आ रही है। कोई भी कालखण्ड इससे अछूता नहीं रहा है।

दो विश्व युद्धों के बाद, अनगिनत युद्धों, संघर्षों की पृष्ठभूमि से चलकर आज रूस व यूक्रेन के बीच का विवाद, वह पूरी मानव सभ्यता के समक्ष को एक अंधकार के कालखण्ड में ले जा रहा है।

विशेषकर दूसरे विश्व युद्ध के बाद आये शीत युद्ध के बाद स्पष्टतः यह दिखता है कि मानव सभ्यता एक नये अवसान की ओर जा रही है।



रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान, विभिन्न अन्तर्राष्ट्रीय गठबन्धनों के घटक देश, अपने अपने गुट के देशों के हित नहीं संरक्षित कर पा रहे है। विरोधाभासी आर्थिक हितों के कारण, जो आज दिख रहा है, उसमें भूमण्डलीकरण की संकल्पना भी धूमिल होती दिख रही है।

4.4 करोड़ की जनसंख्या का देश, यूक्रेन आज जिस सामरिक संकट से गुजर रहा है, विश्व की तमाम व्यवस्थायें चरमरा रहीं हैं। वैसे तो ‘‘मात्स्य न्याय‘‘ हमेशा से संसार में रहा है। यानी बड़ी मछली, छोटी मछली को खा जाती हैं। पिछले कई दशकों के संघर्षों व युद्धों में इसी को बार-बार प्रमाणित भी किया है।

सोवियत रूस के विघटन की प्रक्रिया में वर्ष 1991 में यूक्रेन एक देश बना। उस समय के बाद से यूक्रेन को विसैन्यीकृत करने का जो लक्ष्य, रूस ने रखा है, वह अमरीकी नेतृत्व वाले ‘नाटो‘ सन्धि संगठन के पाले में यूक्रेन को जाने से रोकने मात्र के लिए नहीं हैं। यह वस्तुतः विश्व के शक्ति समीकरण में सोवियत संघ के खोये हुये गौरव को फिर से प्राप्त करने का प्रयास भी है। आज पूरा विश्व तथा खासकर यूरोप ऐसे संकट से गुजर रहा है।

यद्यपि, बड़ी शक्तियों द्वारा, दूसरे देशों पर युद्ध, संघर्ष आदि थोपना कोई नई बात नहीं है, फिर क्या अमरीका द्वारा क्यूबा, वियतनाम आदि पर थोपी हुई लडाइयाँ भूली जा सकती है। रूस का अफगानिस्तान पर युद्ध जैसा माहौल, वर्ष 2008 में रूस द्वारा जर्जिया तथा 2014 में क्रीमिया पर कब्जा भी सर्व विदित ही है।

अमरीका ने समय-समय पर तानाशाहों की सरकारों को खुला समर्थन किया था। पाकिस्तान, इराक, लीबिया के तानाशाहों को अमरीका ने सैनिक साज समान की सहायता दी थी। जो रूस व अमरीका हैं, वे समय-समय पर दूसरे देशों को युद्धों में न केवल फँसाते रहें हैं, वरन् अनेकों बार प्रत्यक्षतः युद्धों व आक्रमणों का शिकार बनाते रहें है।

आज रूस-यूक्रेन संघर्ष में, यूक्रेन एक मोहरा भर बन कर रह गया है। एक तरफ शक्ति के दंभ में आकंठ डूबा रूस तो दूसरी ओर अमरीकी नेतृत्व वाले नाटो संगठन के बीच में यूक्रेन पिस रहा हैं आज यूक्रेन को हथियार देकर नाटो संगठन केवल संघर्ष बढ़ाने का काम कर रहे है।

इस युद्ध में हजारों लोग मारे जा चुके हैं, रूस की अर्थव्यवस्था पर संकट जैसा आ रहा है, यूक्रेन तहस-नहस हो रहा है। यूक्रेन के सबसे बड़े नाभिकीय संयंत्र पर भी रूसी हमले से सारे संसार में चिन्ता बढ़ गई है। रूस-यूक्रेन युद्ध ने अन्तर्राष्ट्रीय शक्ति-समीकरणों में एक बदलाव भी प्रदर्शित किया है। सामान्यतः अमरीकी गुट में माना जाने वाला इसरायल, रूस के विरूद्ध कड़ी टिप्पणी नहीं कर रहा है।

भारत, चीन व पाकिस्तान किसी भी मतविभाजन के समय, अन्तर्राष्ट्रीय संस्थाओं की बैठकों में वोटिंग सं अनुपस्थित रहे हैं। यद्यपि भारत के सम्बन्ध चीन व पाकिस्तान से अच्छे नहीं है। चीन और पाकिस्तान भारत के विरूद्ध ही विश्वमंचों पर दिखते हैं, परन्तु रूस-यूक्रेन युद्ध में भारत, चीन, पाकिस्तान तीनो ही अन्तर्राष्ट्रीय संस्थाओं में वोटिंग में अनुपस्थित रहे हैं। वैसे ये किसी बड़े परिवर्तन के संकेत नहीं है।

युद्ध से किसी देश या सभ्यता को कुछ नहीं मिलता। मात्र विनाश, विनाश और विनाश। राष्ट्रों की नींव को युद्धों की कामना दीमक की भाँति पहले खोखला करती है, फिर युद्धों में भयावह बरबादी आती है। युद्ध सदैव मानव समाज का अहित ही करता रहा है। युद्ध में विजयी व पराजित देश दोनों को न केवल जन-धन की अपार हानि होती है, बल्कि पीढ़ियों तक उसके परिणामों का दंश झेलना पड़ता है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, जापान के हिरोशिमा व नागासाकी में पैदा हुये बच्चे, आणविक हथियारों के दुष्प्रभाव झेलते रहे हंै। वस्तुतः हिंसा, संघर्ष व युद्ध, किसी भी समस्या का हल हो नहीं सकते हैं, ये तो समस्यायों का जंजाल लेकर हीं आते है।



युद्धों के दुष्परिणामों पर मेरी कविता स्पष्टतः चित्रित करती है-

‘‘आदमी कई बार चला-

और पहुँचा-

फिर वहीं क्यो कि-

दुनिया गोल है-

कहते है चैथा विश्वयुद्ध पत्थरों से लड़ा जायगा-

डर लगता है तीसरे विश्वयुद्ध की चर्चा भर से-

आखिरी तीसरी बड़ी लड़ाई की रिमोट कन्ट्रोल बटनें

बैठी हैं तैयार।।।‘‘

कविता ‘‘तीसरी बड़ी लड़ाई‘‘