google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

अखिलेश यादव ने कहा- निम्न स्तर पर पहुंच गईं प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाएं


लखनऊ, 14 जून 2022 : समाजवादी पार्टी के अध्यक्षअखिलेश यादव नेकहा कि पिछलेपांच साल केभाजपा राज मेंस्वास्थ्य सेवाएं निम्न स्तरपर पहुंच गईंहैं। नए स्वास्थ्यमंत्री इस सच्चाईसे अवगत भीहैं पर नतीजाढाक के तीनपात ही है।भाजपा सरकार मेंन तो एंबुलेंसहै, न दवा, न ही मरीजोंको उपचार मिलरहा है।

अखिलेश ने एकबयान में कहाकि समाजवादी सरकारने नए मेडिकलकालेजों की स्थापनाके साथ एमबीबीएसकी सीटें भीबढ़ाई थीं। गंभीरबीमारियों कैंसर, किडनी, हार्टऔर लिवर केइलाज की मुफ्तव्यवस्था की थी।भाजपा सरकार नेगरीबों के इलाजमें कोई रुचिनहीं दिखाई। कीमतीमशीनों के डिब्बेखोलकर भी नहींदेखे गए।

भाजपा सरकार कीमानसिकता गरीब विरोधीऔर पूंजी-घरानोंके संरक्षण कीहै। इसलिए सरकारीअस्पतालों की हालतबिगड़ती जा रहीहै और प्राइवेटअस्पताल व नर्सिंगहोम फलते-फूलतेजा रहे हैं।समाजवादी सरकार की एंबुलेंससेवा 108 और 102 बदहाली सेगुजर रही है।भाजपा सरकार नेअस्पतालों के नामपर खंडहर खड़ेकर दिए हैंजहां मेडिकल-पैरामेडिकलसेवाएं गायब हैं।अस्पतालों में मरीजभगवान भरोसे रहतेहैं।

भाजपा सरकार पांचसाल बिताने केबाद अब छठेवर्ष में प्रवेशकर रही है, लेकिन गरीब मरीजोंके प्रति उसकीउदासीनता बरकरार है। सच्चाईछुपती नहीं औरझूठ ज्यादा दिनोंतक चलता नहीं।जनता भाजपा सरकारके झूठे वादोंके पोस्टरों औरविज्ञापनों से ऊबचुकी है। जनताअब किसी केभी बहकावे मेंआने वाली नहींहै।
बता देंकि इससे पहलेअखिलेश यादव नेयोगी आद‍ित्‍यनाथ सरकारपर हमलावर होतेहुए कहा थाकि भाजपा सरकारकी मानसिकता किसानविरोधी है। किसानोंकी कीमत परपूंजी-घरानों कापोषण हो रहाहै। गन्ना किसानोंका सहकारी चीनीमिलों पर अरबोंरुपये बकाया है।खीरी की हीचीनी मिल परगन्ना किसानों का 13 अरब रुपये बकाया है।भाजपा सरकार लगातारबकाया राशि केबारे में झूठबोल रही है।

सपा अध्यक्षने शनिवार कोजारी बयान मेंकहा था कि 14 दिन में गन्नेका भुगतान कादम भरने वालीभाजपा सरकार यहक्यों नहीं बतातीकि किसानों काअब तक भुगतानक्यों नहीं हुआ? खीरी जिले मेंदो सहकारी औरसात निजी क्षेत्रकी चीनी मिलेहैं। रूहेलखंड केबरेली, बदायूं, पीलीभीत औरशाहजहांपुर जिलों में चीनीमिलों पर करोड़ोंरुपये बकाया है।किसान बदहाली केशिकार हैं। भाजपासरकार के कर्जमाफीके झूठे दावोंतले दबे किसानोंकी जाने जारही हैं।

1 view0 comments
bottom of page