google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

मोदी क्यों मोदी हैं और योगी क्यों योगी – समझिए पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के जरिए



रिपोर्ट - आदेश शुक्ला


किसी कालखंड का वर्तमान इतिहास में अमर कैसे किया जाता है इसका तरीका कोई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सीखे। उत्तर प्रदेश की धरती पर पीएम मोदी ने एक बार फिर वो किया जिसकी कल्पना सियासत करने वाले शायद अब करें।



मौका था पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के उद्घाटन का। यूं तो प्रधानमंत्री किसी भी प्रकार से वहां पहुंच सकते थे लेकिन उन्होंने जो तरीका चुना वही अपने आप में रोमांचक और यादगार बन गया। प्रधानमंत्री मोदी जब पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पहुंचे तो अपने नियमित साधनों से अलग भारतीय वायुसेना के हरक्यूलिस विमान से आए। यह विमान सेना के ऐसे युद्ध विमानों का सारथी है जिसमें बड़े-बड़े टैंक और तोपे समा जाएं। सबसे पहले आप यही नजारा देखिए



पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का उद्घाटन करते हुए पीएम मोदी ने विधानसभा चुनाव के लिहाज से बीजेपी की राह के ना सिर्फ सियासी कांटों को दूर किया बल्कि जनता के मन में उम्मीद के फूल खिला दिए।


पिछड़े अंचलों में शामिल रहे पूर्वांचल को 341 किलोमीटर का एक्सप्रेस-वे देने के साथ ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उम्मीदों की नई राह दी। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को उत्तर प्रदेश के विकास और नए यूपी के निर्माण का एक्सप्रेस-वे बताते हुए दावा किया कि जिस क्षेत्र को माफियावाद और गरीबी के हवाले कर दिया गया था, वह विकास का नया अध्याय लिख रहा है। अब प्रदेश का भाग्य और तेजी से बदलने का विश्वास जताते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को 'कर्मयोगी' बताते हुए बधाई दी और विपक्ष पर तंज कसा कि जो अपने समय में विफल रहे, वह योगी की सफलता कैसे देख और पचा सकते हैं।



प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में इतना काम आजादी के बाद पहली बार हो रहा है। पश्चिम को सम्मान मिला है तो पूर्वांचल भी प्राथमिकता में है। योगी सरकार भेदभाव, जातिवाद और परिवारवाद के बिना सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास के मूलमंत्र पर काम कर रही है।


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि पूरी दुनिया में किसी को यूपी और यहां के लोगों के सामर्थ्य पर संदेह हो तो वह सुलतानपुर आकर सामर्थ्य देख सकता है। तीन-चार वर्ष पहले जहां सिर्फ जमीन थी, वहां से अब इतना बड़ा एक्सप्रेस-वे गुजर रहा है। बोले कि इस परियोजना के शिलान्यास के वक्त सोचा भी नहीं था कि इसी एक्सप्रेस-वे पर वह खुद विमान से उतरेंगे। इसे यूपी के विकास, प्रगति, नए के निर्माण और मजबूत होती अर्थव्यवस्था का एक्सप्रेस-वे बताने के साथ ही दृढ़ होती इच्छाशक्ति का प्रकटीकरण भी करार दिया। एक्सप्रेस-वे को यूपी की शान और कमाल बताते हुए कहा कि इसे पूर्वांचल को समर्पित करते हुए धन्य महसूस कर रहे हैं।



समारोह में एक्सप्रेस-वे की हवाई पट्टी पर वायुसेना की ओर से एयरशो भी किया गया, जिसमें मिराज, जगुआर और सुखोई जैसे लड़ाकू विमानों ने यहां उतरकर उड़ान भरी और हवाई करतब से रोमांचक युद्ध कौशल भी दिखाया। इससे पहले जनसभा में पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा कि जितनी जरूरी देश की समृद्धि है, उतनी ही जरूरी देश की सुरक्षा भी है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे वायुसेना के लिए एक और ताकत बन गया है। यहां जरूरत पर फाइटर प्लेन उतरेंगे। लड़ाकू विमानों के जिक्र के साथ फिर विपक्ष मोदी के निशाने पर आ गया। बोले कि इन विमानों की गर्जना उन लोगों के लिए भी योगी, जिन्होंने डिफेंस इंफ्रास्ट्रक्चर को दशकों तक नजरअंदाज किया।


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हालत देख चिंता होती थी कि यहां की सरकारें यूपी को कैसी सजा दे रही हैं। 2014 में जब देश की सेवा का मौका मिला तो प्रदेश से सांसद होने के नाते बारीकियों में जाना शुरू किया।

शौचालय, आवास आदि देने का प्रयास शुरू किया। पीड़ा है कि तब यूपी की सरकार ने साथ नहीं दिया।



प्रधानमंत्री ने तत्कालीन सरकार के मुखिया पर तंज कसा कि उन्हें सार्वजनिक रूप से मेरे साथ खड़े होने में वोटबैंक के नाराज होने का डर सताता था। हवाई अड्डे पर स्वागत करने के बाद खो जाते थे। उन्हें शर्म आती थी, क्योंकि विकास का हिसाब देने के लिए नहीं था। ऐसे लोगों को यूपी के लोग विकास के रास्ते से हटा देंगे।


पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ के सामने भारतीय वायु सेना के लड़ाकू विमानों ने ताकत का अहसास कराने के साथ ही अद्भुत करतब दिखाए। सुलतानपुर में बनी हवाई पट्टी पर सुखोई और मिराज जैसे लड़ाकू विमानों का शो आयोजित हुआ। विमानों ने आकाश में अंग्रेजी के आठ का आकार बनाने के साथ ही तिरंगा भी बनाकर लोगों की तालियां बटोरी।


3.2 किलोमीटर लंबी हवाई पट्टी के पास ही मिराज में फ्यूल भी भरा गया। करीब 40 मिनट के एयर शो में 30 लड़ाकू विमानों ने करतब दिखाए।



सुलतानपुर जिले के अरवलकीरी करवत मंगलवार को देश के इतिहास में दर्ज हो गया। जब पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के लोकार्पण समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जहां एक्सप्रेस-वे राष्ट्र को समर्पित किया, वहीं एक्सप्रेस-वे पर ही बनी एयर स्ट्रिप पर लड़ाकू विमानों का युद्ध कौशल दिखाकर इस मौके को यादगार बना दिया। वायुसेना के जांबाजों ने लड़ाकू विमानों की कलाबाजियां दिखाते हुए देश को भरोसा दिलाया कि हम सीमा की सुरक्षा के लिए हर पल तैयार हैं।


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को 341 किलोमीटर लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन किया। पीएम मोदी ने यहां लखनऊ को गाजीपुर से जोड़ने वाले छह लेन एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन किया। इसका निर्माण 22,500 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से किया गया है। प्रधानमंत्री दोपहर 1:21 बजे पर वायुसेना के सी-130 (हरक्यूलिस) विमान से एयर स्ट्रिप पर उतरे। मंच पर संबोधन के बाद दोबारा फिर तीन बजे वह एयर स्ट्रिप पर विमानों का करतब देखने पहुंचे।


टीम स्टेट टुडे



{{count, number}} view{{count, number}} comment
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0