google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

सपा प्रत्याशी कीर्ति कोल का नामांकन पत्र निरस्त, भाजपा के धर्मेन्द्र व निर्मला का निर्वाचन तय


लखनऊ, 2 अगस्त 2022 : उत्तर प्रदेश विधान मंडल के विधानसभा तथा विधान परिषद में बहुमत हासिल कर चुकी भारतीय जनता पार्टी उच्च सदन में भी अधिक मजबूती प्राप्त करती जा रही है। उत्तर प्रदेश विधान परिषद सदस्य की खाली दो सीट पर होने वाले उप चुनाव में समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी का नामांकन पत्र निरस्त कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश विधान परिषद सदस्य की दो रिक्त सीट पर भारतीय जनता पार्टी के धर्मेन्द्र सिंह सैंथवार तथा निर्मला पासवन के साथ ही समाजवादी पार्टी की कीर्ति कोल ने सोमवार को अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था।

विधान भवन के टंडन हॉल में मंगलवार को इन तीनों नामांकन पत्र की जांच की गई। इस जांच में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी धर्मेन्द्र सिंह सैंथवार तथा निर्मला पासवान का नामांकन पत्र वैध पाया गया। तीसरी प्रत्याशी समाजवादी पार्टी की कीर्ति कोल का नामांकन पत्र निरस्त कर दिया गया है। उन्होंने नामांकन पत्र दाखिल करने के दौरान मानकों का पालन नहीं किया था। समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी कीर्ति कोल का नामांकन पत्र निरस्त कर दिया गया है। आयु वर्ग के प्रकरण में उनका नामांकन पत्र निरस्त किया गया है। उन्होंने कल नामांकन पत्र दाखिल करने के दौरान अपनी अपनी उम्र 28 वर्ष दर्ज की थी जबकि विधान परिषद सदस्य के नामांकन पत्र दाखिल करने के दौरान प्रत्याशी की उम्र 30 वर्ष होना अनिवार्य होता है।

कम उम्र लिखना पड़ा भारी

उत्तर प्रदेश विधान परिषद सदस्य के उप चुनाव में समाजवादी की प्रत्याशी कीर्ति कोल ने सोमवार को ही अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था और मंगलवार को उनका नामांकन पत्र निरस्त हो गया। विधान परिषद सदस्य के निर्वाचन के लिए न्यूनतम आयु 30 वर्ष की निर्धारित है। समाजवादी पार्टी की विधान परिषद उम्मीदवार कीर्ति कॉल ने नामांकन पत्र में अपनी उम्र 28 वर्ष लिखी थी। निर्वाचन अधिकारी ने नामांकन पत्र की जांच के दौरान आज उनका नामांकन पत्र खारिज कर दिया।

2 views0 comments

Comments


bottom of page