google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

नए प्रधानों के शपथ ग्रहण की तैयारी, तारीखों का ऐलान, वर्चुअल माध्यम से होगा कार्यक्रम




उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के नतीजे आने के बाद शपथ का इंतजार कर रहे जनप्रतिनिधियों के लिए खुशखबरी है।


यूपी में ग्राम पंचायत प्रधान व ग्राम पंचायत सदस्य 25 व 26 मई को शपथ लेंगे व पहली बैठक की तारीख 27 मई तय की गई है।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अनुमति के बाद राज्य सरकार ने आदेश जारी कर दिया है। 24 मई को जिलाधिकारी ग्राम पंचायतों के गठन की अधिसूचना जारी करेंगे।


राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देश पर उत्तर प्रदेश पंचायती राज विभाग ने पंचायत चुनाव में ग्राम प्रधान पद पर जीत करने वालों को शपथ दिलाने का कार्यक्रम तय कर लिया है।


यूपी पंचायत चुनाव में चुने गए ग्राम प्रधानों का वर्चुअल शपथग्रहण कराया जाएगा। इस दौरान कोविड-19 गाइडलाइन का सख्त रूप से पालन किया जाएगा।


अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह की ओर से सभी जिलाधिकारियों को इसे लेकर आदेश जारी किए गए हैं। पत्र में स्पष्ट आदेश दिए गए हैं कि कोविड-19 के चलते ग्राम प्रधानों और सभी सदस्यों को एक साथ बुलाकर शपथ नहीं दिलाई जाएगी। बता दें कि पंचायत चुनाव के नतीजों में 58,176 ग्राम प्रधान और 7,31,813 लाख ग्राम पंचायत सदस्य चुने गए हैं।


कहां होगा शपथग्रहण


शासनादेश के अनुसार, ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत सदस्य अपने-अपने ग्राम पंचायत में ही अधिकारियों के सामने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से शपथ लेंगे। शपथ ग्रहण पंचायत घर, सामुदायिक भवन या ग्राम पंचायत क्षेत्र में स्थित कॉमन सर्विस सेंटर पर कोविड-19 प्रोटोकॉल के साथ आयोजित होगा।


कई लोग नहीं ले पाएंगे शपथ


इसके बाद भी बड़े लोग इससे वंचित रहेंगे। इनमें बड़ी संख्या में वह लोग हैं, जिनकी परिणाम आने से पहले ही कोरोना संक्रमण या फिर अन्य कारण से मृत्यु हो गई है। इसके अलावा परिणाम में विवाद होने के कारण भी बड़ी संख्या में लोग ग्राम प्रधान का चुनाव जीतने के बाद भी शपथ लेने से वंचित रहेंगे।


क्या रही है चुनावी प्रक्रिया


उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव की मतगणना दो, तीन व चार मई तक चली और गांवों को उनकी नई सरकार मिल गई। पंचायती विभाग ने प्रस्ताव में 12 मई को शपथग्रहण की बात की थी, लेकिन गांवों में तेजी से फैल रहे कोरोना के मद्देनजर हर कार्यक्रम पर रोक लगा दी थी। उत्तर प्रदेश में 29 अप्रैल को पंचायत चुनाव संपन्न हुए। इसके बाद वोटों की गिनती 2 मई को शुरू हुई। 20 दिन बाद ग्राम प्रधान व पंचायत सदस्यों के शपथ ग्रहण की तारीख तय हो गई है।


अभी किस बात पर है विवाद


चुनाव प्रक्रिया पूरी होने पर भी विवाद थमता नजर नहीं आ रहा है। शिक्षक व कर्मचारी संघों का दावा है कि चुनाव प्रक्रिया के दौरान चुनाव ड्यूटी पर तैनात करीब 1621 शिक्षक-कर्मचारियों की मौत हुई है। हालांकि, बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा पहले तो इसे खारिज किया गया लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आदेश जारी कर कहा कि मृतक शिक्षक व कर्मचारियों के परिजनों के साथ सरकार पूरी संवेदनशीलता से पेश आएगी।


टीम स्टेट टुडे


विज्ञापन
विज्ञापन

Comments


bottom of page