google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में यूपी की लंबी छलांग- कर्मयोगी बोले उत्तर नहीं उद्यम प्रदेश बोलिए



उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की उपलब्धियों में एक और तमगा जुड़ गया है। योगी सरकार ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में लंबी छलांग मारी है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राज्य में रिफॉर्म को लेकर साल 2019 की सालाना रैंकिंग जारी की है। इसके मुताबिक की रैंकिंग में उत्तर प्रदेश 12 नंबर पर था, अब ये सीधा उछलकर नंबर 2 के पायदान पर काबिज हो गया है।



इसका मतलब ये कि उत्तर प्रदेश में कारोबार शुरू करना और उसे आगे बढ़ाना और आसान हो गया है। वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि 'यूपी ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में कई अग्रणी राज्यों जैसे गुजरात, तेलंगाना, राजस्थान, महाराष्ट्र को पीछे छोड़ा है' BRAP-19 में उत्तर प्रदेश ने Department for Promotion of Industry and Internal Trade (DPIIT) के सुझाए 187 रिफॉर्म्स में से 186 को लागू किया।


आंध्र प्रदेश ने फिर मारी बाजी

ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की रैंकिंग में लगातार तीसरे साल पहले स्थान पर आंध्र प्रदेश है, दूसरे स्थान पर उत्तर प्रदेश। तीसरे पर तेलंगाना फिर मध्य प्रदेश है। यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के ऑफिस ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, 'सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में प्रदेश समृद्धि और सृजन के नए सोपान रच रहा है। यूपी द्वारा 'ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग' में गत वर्ष 12वें स्थान के सापेक्ष इस वर्ष द्वितीय स्थान प्राप्त करना, इसका प्रमाण है। 'आत्मनिर्भर भारत' की संकल्पना साकार हो रही है।


ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की रैंकिंग

1. आंध्र प्रदेश

2. उत्तर प्रदेश

3. तेलंगाना

4. मध्य प्रदेश

5. झारखंड

6. छत्तीसगढ़

7. हिमाचल प्रदेश

8. राजस्थान

9. पश्चिम बंगाल

10. गुजरात


इसके अलावा जम्मू कश्मीर 21वें नंबर पर, गोवा 24वें पर, Bihar 26वें पर और केरल 28वें पायदान पर है। त्रिपुरा सबसे नीचे 36वें नंबर पर है।


ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की रैंकिंग जारी करने का मकसद निवेशकों को आकर्षित करना और राज्य में कारोबारी माहौल सुधारने के लिए होता है। इस रैकिंग से पता चलता है कि व्यापार में सुधार के लिए कौन सा राज्य कितना बेहतर काम कर रहा है, जिससे कि निवेशक, उन राज्यों में व्यापार बढ़ाने के लिए आकर्षित हो।


टीम स्टेट टुडे



3 views0 comments

Commentaires


bottom of page