google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

आईएसआई के इशारे पर करीना को ऑफर हुआ सीता का रोल! बॉलीवुड के खान और पाकिस्तान में खानदानी



जैसे ही ये जानकारी आई कि सैफ अली खान की बीबी करीना खान एक फिल्म में सीता का रोल करेंगी, बवाल मच गया। लोगों ने सोशल मीडिया पर तैमूर की अम्मी की धज्जियां उड़ा दीं।


क्या आपको पता है कि ये पूरा खेल क्या था। अगर नहीं पता तो समझिए बॉलीवुड में किस तरह भारत और हिंदुओं खिलाफ षडयंत्र रचा जा रहा है और कौन है इसका सूत्रधार -


बॉलीवुड की दुनिया काले कारनामों और निर्लज्जता से भरी पड़ी है। बॉलीवुड में मुस्लिमों का दबदबा किस कदर है इसका अंदाजा आप शायद ही लगा सकें। हालात ये हैं कि जैसे ही कोई हिंदू लड़की बॉलीवुड में किसी भी क्षेत्र में हाथ आजमाने का प्रयास करती है मुस्लिमों का एक झुंड उसे अपनी गिरफ्त में ले लेता है। फिर चाहे वो क्षेत्र लेखन से जुड़ा हो, अभिनय से जुड़ा हो, संगीत से जुड़ा हो, गायन, विज्ञापन या कोई अन्य।


बॉलीवुड में हिंदू धर्म को बदनाम करने और भारत की सांस्कृतिक विरासत को बर्बाद करने का खेल जमाने से चल रहा है। फर्क सिर्फ इतना आया है कि लव जेहाद और सांस्कृतिक जेहाद का जो खेल दबे-छिपे चलता था वो अब इतना ताकतवर हो चुका है कि सब कुछ खुल्लमखुल्ला हो रहा है और इसके लिए विदेशों से खासतौर से पाकिस्तान से मोटी रकम भी दी जा रही है। इस काम को अब अंडरवर्ल्ड के बजाय खुद पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई अंजाम दे रही है।


इस कड़ी का सबसे ताजा मामला है करीना खान को सीता का रोल ऑफर करने की खबर।



दरअसल 2020 में लॉकडाउन के दौरान दूरदर्शन पर रामानंद सागर की रामायण प्रसारित हुई तो भारतीय सभ्यता, संस्कार, संवाद और आस्था भारतीय जनमानस के सिर चढ़ कर बोलीं। टीआरपी ऐसी कि बड़े बड़े चैनलों और निर्माता निर्देशकों ने दातों तले उंगली दबा ली।


एक तरफ कोरोना के चलते लॉकडाउन लगा तो फिल्म इंडस्ट्री पर भी असर पड़ा। कई नामी गिरामी फिल्में और कलाकारों को आर्थिक रुप से भी झटका लगा। कमाई कुछ कम होती तो चल जाता लेकिन रामायण की लोकप्रियता देख कर कट्टरपंथी बेचैन हो उठे। बॉलीवुड के जरिए भारत मे सांस्कृतिक जेहाद के मिशन को गहरा धक्का लगा।


इसके बाद इस पूरे मामले में करोड़ों भारतीयों की आस्था पर चोट पहुंचाने का काम बालीवुड के खान समुदाय को दिया गया।



बॉलीवुड में शाहरुख खान और सैफ अली खान ये दो ऐसे किरदार हैं जिनके रिश्तेदार ना सिर्फ पाकिस्तान आर्मी में उच्च पदों पर हैं बल्कि एक के मामा आईएसआई के चीफ रह चुके हैं तो दूसरे के चाचा चीफ बनते बनते रह गए। इन दोनों खान के अलावा तीसरे आमिर खान तो सीधे तुर्की से गवर्न हो रहे हैं। आपको पता ही है कि तुर्की कट्टर इस्लामी मुल्क है जो भारत के खिलाफ पाकिस्तान की हर हरकत में सीधा या अपरोक्ष हस्तक्षेप करता रहता है।


करीना को सीता का रोल मिले या ना मिले लेकिन भारतीय हिंदू समाज की भावनाओं को तगड़ी चोट लगे इसलिए इस मामले को कुछ ऐसे हवा दी गई जिससे बाद में इसे अफवाह बता कर बचा जा सके।


चूंकि खान समुदाय और करन जौहर, मधुर भंडारकर, अनुराग कश्यप जैसे हिंदू निर्माता निर्देशकों की पोल पट्टी तो पहले ही खुल चुकी है इसलिए इस बार इस काम के लिए इस गैंग में शामिल किया गया अलौकिक देसाई को, जो इस फिल्म का डायरेक्टर है। देसाई ने अब तक क्या महत्वपूर्ण किया है ये इंटरनेट पर ढूंढने से भी नहीं मिलता। ट्विटर पर 27 और इंस्टाग्राम पर करीब 1000 फालोअर लेकर सीता फिल्म बनाने निकले अलौकिक वास्तव में कट्टरपंथियों से हाथ मिलाकर अलौकिक ही हो गए।


सबसे बड़ी बता ये है कि सीता फिल्म की कहानी को लिखने वाले कोई और नहीं तेलगु फिल्मों के बड़े लेखक के.वी विजयेंद्र प्रसाद हैं। जिन्होंने ब्लाक बस्टर फिल्म बाहुबली फिल्म की कहानी लिखी थी। इससे भी बड़ी बात ये है कि विजयेंद्र बाहुबली फिल्म को बनाने वाले एस.एस.राजामौली के पिता हैं।


जाहिर हैं भारतीय परंपरा, साहित्य और शोध से निकली बाहुबली की कहानी और फिल्म की कामयाबी भी कट्टरपंथियों को रास नहीं आ रही। इसलिए अब भारतीय आस्था और परंपराओं से जुड़े महान किरदारों पर बनने वाली फिल्में, उससे जुड़े किरदार, कहानियां सब बालीवुड के कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।


आपको पता है कि करीना खान ने सीता के किरदार के लिए जितनी फीस मांगी उसे लेकर वो चर्चा में आई और साथ ही जिस तरह का करीना का करियर और व्यक्तिगत चरित्र रहा है वो भी लोगों से छिपा नही हैं। किसी समय बालीवुड के न्यूकमर रहे शाहिद कपूर से गहरे ताल्लुकात और फिर शादी बालीवुड के बुढ़ऊ लेकिन मालदार सैफ अली खान से। फीस और एक्ट्रेस के इस रोल को करने के लिए लोगों ने आपत्ति जताई थी।


अब यह विवाद ज्ञापन तक पहुंच गया है। नागपुर में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने एक्ट्रेस के खिलाफ जिला अधिकारी को ज्ञापन सौंपा है।


बजरंग दल ने डीएम को ज्ञापन देते हुए कड़ी चेतावनी दी है और कहा है कि अगर यह फिल्म बनी तो इसका बड़ा विरोध किया जाएगा। अपने ज्ञापन के साथ उन्होंने करीना कपूर की बिकिनी और उनकी अजमेर दरगाह यात्रा की फोटो भी शामिल की हैं।



बजरंग दल का स्पष्ट कहना है कि हिंदू समाज के ऊपर बॉलीवुड में बार-बार फिल्में बनना और विवादों को जन्म देना यही खान समुदाय की फितरत हा। इससे पहले फिल्म 'तांडव' बनी, जिसमें करीना कपूर के शौहर सैफ एक्टर थे। अब 'सीता' आ रही है, जिसमें कोई करीना कपूर खान हैं। ये बार-बार मुस्लिम समाज के लोग ही हमारे हिंदू चरित्रों को क्यों निभाते हैं। इससे हमारे समाज में क्षति होती है। ये जिहादी मानसिकता के लोग हैं, जो हिंदू समाज के लोगों को गालियां देते हैं। आज वही हमारे जरिए करोड़ों रुपए कमाएंगे। हम इस फिल्म का घोर विरोध करते हैं। अगर यह फिल्म बनी तो इसका कड़ा विरोध होगा।


इससे पहले भी करीना कपूर खान को सोशल मीडिया को ट्रोल किया जा चुका है। यूजर्स ने कहा था कि करीना इस पवित्र रोल के लिए ठीक नहीं हैं, उनकी जगह पर किसी हिंदू अभिनेत्री को यह रोल मिलना चाहिए। इसके साथ ही सोशल मीडिया पर उनके खिलाफ हैशटैग #BoycottKareenaKhan भी ट्रेंड हुआ था।


सिर्फ करीना ही नहीं बॉलीवुड के ज्यादातर स्थापित कलाकारों के संबंध अन्डरवर्ल्ड, आईएसआई और आतंकियों के साथ कई बार सिद्ध हुए हैं। महेश भट्ट और उनके बेटे रिश्ते तो मुंबई 26-11 आतंकी हमले के आरोपी और सूत्रधार डेविड कोलमेन हेडली के साथ जुड़े थे। तब महेश भट्ट ने अपने उच्च स्तरीय संबंधों के आधार पर अपने बेटे और खुद को बचाया था ठीक उसी तरह जैसे सुनील दत्त ने संजय दत्त को बचाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी थी।


टीम स्टेट टुडे


विज्ञापन
विज्ञापन



221 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0