google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

फेल हो गए बाहुबली डॉन मुख्तार अंसारी के सारे मंसूबे!



-8 अप्रैल से पहले माफिया डॉन होगा बांदा जेल के अंदर

-जेल में तैनात किए गए पीएसी के दर्जन भर चुनिंदा जवान

-सतर्क हुए सीसीटीवी कैमरे, मुख्य गेट पर सषस्त्र जवान


’लौट के बुद्धू घर को आए’ वाली कहावत बाहुबली माफिया डॉन मुख्तार अंसारी पर एकदम सटीक बैठ रही है। पहले दिल का दौरा पड़ने का बहाना बनाकर बांदा से लखनऊ जेल तबादला कराने में नाकाम रहने वाले इस माफिया ने भले ही एमपी एमएलए कोर्ट की अनुमति के बगैर पंजाब की रोपड़ जेल में तबादला करा लिया हो, लेकिन अब उसे फिर बांदा जेल आना पड़ रहा है।


पंजाब सरकार ने मुख्तार अंसारी को हैंडओवर किए जाने का पत्र अपर मुख्य गृह सचिव अवनीश अवस्थी को भेजा है। इसमें कहा गया है कि 8 अप्रैल से पहले मुख्तार को बांदा जेल शिफ्ट कर दिया जाएगा।


गौरतलब हो कि कभी खासम-खास रहे शूटर मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में हत्या होने के बाद मुख्तार अंसारी ने बांदा जेल में अपनी जान के खतरे का अंदेशा जताया था। इसके कुछ दिनों बाद उन्हें जेल के अंदर कथित तौर पर अटैक पड़ा। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मुख्तार को लखनऊ ले जाकर पीजीआई में चेकअप कराया गया। यहां डाक्टरों ने उन्हें पूरी तरह स्वस्थ्य बताया। इसके बाद मुख्तार अंसारी को फिर बांदा जेल भेज दिया गया।


हालांकि इस माफिया ने येन-केन प्रकारेण एमपी एमएलए कोर्ट की अनुमति के बगैर खुद को पंजाब की रोपड़ जेल में शिफ्ट करा लिया था। मुख्तार अंसारी के जेल तबादले से प्रदेश सरकार में हलचल मच गई। मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा। सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार को आदेश जारी कर मुख्तार को वापस यूपी भेजने के आदेश दे दिए। अब मुख्तार अंसारी को एक बार फिर बांदा जेल आना पड़ रहा है।


बताते हैं कि पंजाब सरकार ने यूपी के अपर मुख्य ग्रह सचिव को मुख्तार अंसारी के हैंडओवर का पत्र जारी कर उसे 8 अप्रैल तक बांदा जेल मे शिफ्ट करने की बात कही है। उधर मुख्तार अंसारी के बांदा जेल में शिफ्ट किए जाने के बाद यहां जेल प्रशासन एकदम सतर्क हो उठा है।


मंडल कारागार के सभी सीसीटीवी कैमरे दुरुस्त कर लिए गए हैं। पीएसी की अलग-अलग बटालियनों से एक दर्जन चुनिंदा जवानों को मंडल कारागार जेल भेजा गया है। जेल के पहले गेट पर दो सशस्त्र होमगोर्डों के अलावा एक बंदी रक्षक की तैनाती कर दी गई है, ताकि जेल कर्मियों के अलावा कोई अंदर न आ सके। जेल में निरुद्ध अन्य बंदियों से उनके परिजनों की मुलाकात पर पाबंदी लगाकर पर्चियों के जरिए जरूरत का सामान जेल के अंदर भेजा जा रहा है। जेल के पहले गेट पर कंट्रोल रूम तैयार किया जा रहा है। संदिग्धों पर कड़ी नजर रखी जा रही है।


मुख्तार अंसारी की जेल शिफ्टिंग को लेकर पांच दिन पहले डीआईजी जेल प्रयागराज जोन ने भी जेल का मुआयना कर सुरक्षा व्यवस्था आदि इंतजामों को जांचा परखा था। कुल मिलाकर जेल और जिला प्रशासन में मुख्तार अंसारी को लेकर जबरदस्त हलचल है। कोई भी अधिकारी इस मामले पर कुछ भी बोलने से कतरा रहा है।


संदीप तिवारी, बांदा
संदीप तिवारी, बांदा


रिपोर्ट - संदीप तिवारी, बांदा

टीम स्टेट टुडे

















विज्ञापन
विज्ञापन

110 views0 comments

Comments


bottom of page