google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

मेराज, मुकीम और अंशू की मौत के बाद बांदा जेल से मुख्तार से जुड़ी ये खबर देखी आपने!



रगौली जेल में ट्रिपल मर्डर के बाद बढ़ी मुख्तार की सुरक्षा
डीएम व एसपी ने प्रशासनिक अमले के साथ किया जेल का निरीक्षण
क्षमता से ज्यादा बंदी निरुद्ध हैं मंडल कारागार में, 22 जेल अस्पताल में

चित्रकूट की रगौली जेल मे हुए गैंगवार से अलर्ट हुए डीएम और एसपी ने शनिवार को प्रशासनिक अमले के साथ मंडल कारागार का आकस्मिक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान इन अधिकारियो को जेल में बंदियों के पास कोई भी आपत्तिजनक चीज नहीं मिली। पूछताछ में बंदियों ने अधिकारियों को किसी तरह की दिक्कत नहीं बताई।


गौरतलब हो कि शुक्रवार को पड़ोसी जिले चित्रकूट की रगौली जेल में गैंगेस्टर मुख्तार अंसारी के खास करीबी मुकीम काला और मेराजुद्दीन उर्फ मेराज अली की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस दोहरे हत्याकांड को अंजाम देने वाले बंदी अंशू दीक्षित को भी बाद में जेल पुलिस ने मुठभेड़ मे मार गिराया था। जेल के अंदर हुए इस तिहरे हत्याकांड से पूरे सूबे में हड़कंप मच गया था। इसी को लेकर शनिवार को डीएम आनंद कुमार सिंह, एसपी सिद्धार्थ शंकर मीणा ने प्रशासनिक अमले के साथ जेल का औचक निरीक्षण किया। दोनो अधिकारियों ने जेल की गहन पड़ताल करने के साथ बंदियो से उनकी समस्याएं भी पूछी।


अधिकारियों को निरीक्षण के दौरान जेल में कोई भी आपत्तिजनक चीज नहीं मिली। गौरतलब हो कि मंडल मुख्यालय में बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी भी निरुद्ध हैं। चित्रकूट जेल में उसके दो करीबियों की हत्या कर दिए जाने के बाद जेल प्रशासन अलर्ट मोड़ में हैं।


बता दें कि वर्तमान समय मंडल काराबार में कुल 1025 बन्दी निरूद्ध हैं। इनमें 648 विचाराधीन, 319 दोष सिद्ध, 16 अल्प वयस्क और 45 महिला बन्दी हैं। डीएम और एसपी को निरीक्षण के दौरान डिप्टी जेलर ने बताया कि जेल में बंदियों की रखने की क्षमता 567 है। निरीक्षण के दौरान अधिकारियों को बैरक में पंखे व टीवी चालू हालत में मिले। डीएम और एसपी ने डिप्टी जेलर को निर्देश दिए हैं कि जेल में निरुद्ध सभी बंदियों से कोरोना नियमों का पालन कराया जाए। बंदी फेसमास्क जरूर पहनें।


जेल डाक्टर धीरेन्द्र प्रताप ने बताया कि जेल अस्पताल मे कुल 22 बंदी है। दोनो अधिकारियों ने अस्पताल में भर्ती बंदियों से उनका हालचाल पूछा। जेल डाक्टर को निर्देश दिए कि मरीजों का नियमित उपचार किया जाए। निरीक्षण के दौरान अपर जिला मजिस्ट्रेट, अपर जिला मजिस्ट्रेट (नमामि गंगे) एमपी सिंह, संतोष बहादुर सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक महेन्द्र प्रताप चैहान, नगर मजिस्ट्रेट केशवनाथ गुप्त, उप जिलाधिकारी सदर सुधीर कुमार, पुलिस क्षेत्राधिकारी नगर व अन्य पुलिस अधिकारी उपस्थित रहे।



संदीप तिवारी , संवाददाता, बांदा, टीम स्टेट टुडे

रिपोर्ट - संदीप तिवारी , बांदा

टीम स्टेट टुडे



















विज्ञापन
विज्ञापन

26 views0 comments
 
google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0