google.com, pub-3470501544538190, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

अधिकारियों की दूरदर्शिता से बीट पुलिस अधिकारी शिवानी त्रिपाठी ने दिखाई खाकीवर्दी की हनक-धमक


उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने महिला सशक्तिकरण पर लगातार काम किया है। महिलाओं के साथ होने वाले अत्याचारों पर लगाम लगाने के साथ साथ, मनचलों पर कार्रवाई, साइबर क्राइम, ट्रिपल तलाक और अन्य मामलों में योगी सरकार लगातार तत्पर रही है।


अब इसके नतीजे भी सामने आ रहे हैं। सरकारी विभागों में महिलाएं आगे बढ़कर जिम्मेदारियां निभाने की मिसाल पेश कर रही हैं।


इसी कड़ी में UP पुलिस से जुड़ी महिला सशक्तिकरण की नायाब मिसाल देखने को मिली जनपद बहराइच में।

श्रावण मास और आगामी त्यौहार मोहर्रम, रक्षाबंधन, कजरीतीज, नागपंचमी, जन्माष्टमी और स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर कानून व्यवस्था को लेकर जनपद के थाना जरवल में इलाके के सर्व समाज के संभ्रांत लोगों के साथ शांति समिति (पीस कमेटी) की बैठक का आयोजन CO कैसरगंज कमलेश सिंह तथा नायब तहसीलदार व थानाध्यक्ष जरवल की उपस्थिति में किया गया।


इस मीटिंग में पहली बार उच्चाधिकारियों के बजाय बीट पुलिस अधिकारी के रूप में नामित महिला सिपाही शिवानी त्रिपाठी ने लोगों को कड़े निर्देश बेहद बेबाकी से ब्रीफ किए।



बैठक में मौजूद सभी लोगों को बीट पुलिस अधिकारी शिवानी त्रिपाठी ने कानून का पाठ पढ़ाते हुए कहा कि त्योहार के दौरान किसी भी प्रकार के शस्त्र का प्रदर्शन नहीं किया जाएगा, किसी भी प्रकार का धार्मिक जुलूस नहीं निकाला जाएगा, त्योहार को घर में ही मनाया जाएगा, व्हाट्सएप, फेसबुक ट्वीटर आदि सोसल मीडिया पर किसी भी तरह के धार्मिक आपत्तिजनक पोस्ट शेयर नहीं की जाएगी। अगर ऐसा करते हुए कोई पाया गया तो सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ- साथ अपने बच्चों और आस पड़ोस के लोगों को भी विवादित पोस्ट शेयर न करने की सलाह देंने को कहा गया है। अगर कोई असामाजिक तत्व कोई गलत कार्य करता है तो उसकी सूचना पुलिस को देंगे। कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए कोविड प्रोटोकाल का पालन कर कहीं भी भीड़ भाड़ नहीं लगाएंगे। पुलिस का सहयोग कर कानून व्यवस्था को बनाये रखने में मदद करेंगे।



जिस तरह शिवानी त्रिपाठी ने पीस कमेटी की बैठक को ब्रीफ किया उससे वरिष्ठ अधिकारियों ने भी कई मकसद एक साथ साध लिए।


बीट पुलिस अधिकारी से मीटिंग ब्रीफ कराने पर यह सुनिश्चित हुआ कि सरकार औऱ प्रशासन के बड़े अधिकारियों की मंशा विभाग में नीचे तक पहुंच जाए।


बीट पुलिस ही पुलिस महकमें की सबसे महत्वपूर्ण कड़ी होती है इसलिए जिम्मेदारी का एहसास पुख्ता हो जाए। कई संदेश निकले। कुछ इस तरह बहराइच में पहली बार एक महिला सिपाही ने इलाके की आवाम को कड़ा पैगाम दिया।


महिला बीट पुलिस अधिकारी की ब्रीफिंग से क्षेत्र की आम महिलाओं को भी नागरिक कर्तव्य की डोर में बांध दिया।


महिला बीट पुलिस अधिकारी की ब्रीफिंग से सरकार की महिलाओं को समाज में आगे लाने की नीयत भी स्पष्ट हो गई।

स्थानीय अराजक तत्वों को कड़ा संदेश गया कि एक भी गलत हरकत बहुत भारी पड़ेगी।


टीम स्टेट टुडे


विज्ञापन

コメント


bottom of page